Wednesday, April 14, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय स्विट्ज़रलैंड के स्कूल में भारतीय मूल की छात्रा के साथ हिन्दू सांस्कृतिक पहचान के...

स्विट्ज़रलैंड के स्कूल में भारतीय मूल की छात्रा के साथ हिन्दू सांस्कृतिक पहचान के कारण नस्लीय भेदभाव

पीड़िता के अभिभावकों ने कहा कि उनकी बेटी स्विट्जरलैंड में स्थित ली रोजी स्कूल में पढ़ती है जहाँ बड़े और नामी घरानों के बच्चों ने उसकी भारतीय पृष्ठभूमि जैसे- सांस्कृतिक पहचान, शाकाहारी होना आदि को लेकर उसका मजाक बनाया गया और भावनात्मक शोषण किया गया है।

स्विट्जरलैंड में दुनिया के सबसे महँगे स्कूलों में से एक- ली रोजी (Le Rosey) में भारतीय मूल के अभिभावकों द्वारा नस्लीय भेदभाव और हिन्दूफ़ोबिया का मुकदमा दर्ज किया है। ऑपइंडिया से बातचीत करते हुए पीड़ित के पैरेंट्स ने बताया कि कि उनकी बेटी स्कूल में अपनी भारतीय संस्कृति और हिन्दू पहचान के कारण निशाना बनाई जा रही है, जिस कारण वह मानसिक तनाव से गुजर रही।

ऑपइंडिया से बातचीत में भारतीय मूल के उद्योगपति राधिका ओसवाल (Radhika Oswal) और पंकज ओसवाल (Pankaj Oswal) ने बताया कि स्कूल ने उनकी बेटी के साथ नस्लीय भेदभाव कर उसके मानसिक उत्पीड़न में शामिल आरोपितों को बचाने का भी काम कर रहा है।

पीड़िता के अभिभावकों ने कहा कि उनकी बेटी स्विट्जरलैंड में स्थित ली रोजी स्कूल में पढ़ती है जहाँ बड़े और नामी घरानों के बच्चों ने उसकी भारतीय पृष्ठभूमि जैसे- सांस्कृतिक पहचान, शाकाहारी होना आदि को लेकर उसका मजाक बनाया गया और भावनात्मक शोषण किया गया है।

इस घटना के बारे में बात करते हुए पीड़ित छात्रा की माँ राधिका ओसवाल ने कहा –

“हम संस्थान में अपनी बच्ची के साथ हुए व्यवहार से हताश और चकित हैं। संकाय सदस्य भी अपने ही आचार संहिता के पालन में बुरी तरह से असफल हुए हैं। जाहिर तौर पर ‘आदर’ और ‘शारीरिक समग्रता’ के जिस मूल्य की संस्थान बात कर रहा है तथा जिन छात्रों की ‘धार्मिक, दार्शनिक और राजनैतिक प्रतिबद्धता’ से संबंधित बातें संस्थान करता है वह महज मार्केटिंग व्हाइटवॉश के अलावा कुछ भी नहीं है!”

अपने बच्चे के खिलाफ लगातार बढ़ते दुर्व्यवहार के मामलों के बाद अभिभावकों ने स्कूल को अपनी चिंताओं से अवगत करवाया और अपने बच्चे की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने कि बात कही। लेकिन स्कूल के सीनियर प्रबंधन ने इन आरोपों को ना तो स्वीकार किया और न ही कोई कदम उठाने की मंशा जताई।

इस दौरान छात्रों की बदमाशियाँ बढ़ती गयी और उनकी बेटी के साथ साइबर दुर्व्यवहार भी शुरू हो गया। छात्रा का विभिन्न सोशल मीडिया ग्रुपों पर अन्य छात्रों की मौजूदगी में मज़ाक उड़ाया जाने लगा। यही नहीं छात्रा के साथ हो रहे दुर्व्यवहार के खिलाफ कार्रवाई करने या किसी उचित निष्कर्ष तक पहुँचने की कोशिश करने के बजाए ‘ली रोजी’ स्कूल ने अगले अकादमिक सत्र में बिना किसी स्पष्टीकरण के उसका पुनः नामांकन तक खारिज कर दिया।

पीड़ित छात्रा के माता-पिता का कहना है कि अन्य भारतीय छात्रों के साथ भी दुर्व्यवहार के स्पष्ट मामले हैं, जिन्हें उनके बैकग्राउंड, संस्कृति और शाकाहारी होने के कारण परेशान किया जाता है।

राधिका ओसवाल ने आगे कहा –

“यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अन्य भारतीय छात्रों को एक संकाय सदस्य द्वारा जातिगत ताना मारा जा रहा है। बच्चों के सामने अपमानजनक और नस्लीय टिप्पणियाँ की जाती हैं, जैसे कि – भारत एशिया का कूड़ेदान है और भारतीय माता-पिता स्वीपर की तरह दिखते हैं। यह और अधिक दुखद है कि ऐसे व्यवहार के बावजूद कई भारतीय माता-पिता इस स्कूल में अपने बच्चों की शिक्षा जारी रखते हैं। यह चौंकाने वाला है कि बच्चों के शाकाहारी होने तथा उनकी संस्कृति और धार्मिक मान्यताओं को लेकर उन्हें ताने दिए जाते हैं, उनका मजाक उड़ाया जाता है। लेकिन इससे भी दुखद ये है कि माता-पिता कोई कार्रवाई नहीं करते।”

राधिका ओसवाल ने कहा कि ‘ली रोजी’ स्कूल की आचार संहिता से संबंधित अन्य मुद्दों पर भी स्कूल बहुत अधिक चिंतित नहीं है। जैसे कि स्कूल का पाँचवा ‘मेजर रूल’ यह है कि ‘सप्ताह के किसी भी दिन परिसर के अंदर या बाहर मादक पेय पदार्थ रखना या सेवन करना’ एक ‘प्रमुख अपराध’ है। तथा आचार संहिता में धूम्रपान और ‘बिना अनुमति के एक भवन से बाहर जाना’ बड़े अपराधों में शामिल है। इसके विपरीत स्कूल में मादक पेय और धूम्रपान का सेवन कथित रूप से प्रचलित है। उदंड छात्रों को अक्सर कक्षा के दौरान ‘ली रोजी’ के आसपास क्लबों और बार में देखा जा सकता है, जहाँ वे महँगे पेय पर खूब खर्च करते हैं।

पीड़ित छात्रा के अभिभावकों ने बताया कि उनकी चिंताओं को दूर करने के विपरीत, ली रोजी और उसकी फैकल्टी मुख्य रूप से उनकी बेटी के चरित्र मूल्यांकन में व्यस्त रहे। उसके ग्रेड को कम कर दिया गया, वह अपनी कक्षा में बेहतर ग्रेड प्राप्त करने वाली छात्राओं में से एक थी। इस तरह उन्होंने उन छात्रों का ही समर्थन किया, जिन्होंने उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया। यहाँ तक कि अगले अकादमिक वर्ष में उसके पुनः नामांकन को रद्द कर दिया और उसे अत्यधिक मानसिक यातना देते हुए उसे चुप कराने की कोशिश की।

उल्लेखनीय है कि ‘ली रोजी’ को दुनिया के सबसे महँगे स्कूलों में से एक माना जाता है। स्विटरजरलैंड की राजधानी जिनेवा से लगभग 26 किलोमीटर दूर बसे इस स्कूल के पास अपनी विशाल संपत्ति है। इसके पास अपने जहाज और रिजॉर्ट हैं, जहाँ हर साल जनवरी में स्कूल के बच्चे जाते हैं और अगले 3 महीनों तक फन एक्टिविटीज करते हैं।

ली रोजी स्विटजरलैंड का एक नामी बोर्डिंग स्कूल है। जहाँ पर सिर्फ एक साल की फीस लगभग 100,000 डॉलर (लगभग 75 लाख रुपए) है, और यह भी मात्र ट्यूशन फीस है, जिसमें अन्य खर्चे शामिल नहीं हैं।

सर रोजर मूर, डायना रॉस और एलिजाबेथ टेलर सभी ने अपने बच्चों को इसी ले रोजी स्कूल भेजा था और इसके पूर्व विद्यार्थियों में जॉन लेनन के बेटे सीन और विंस्टन स्पेंसर चर्चिल भी शामिल थे।

पीड़ित छात्रा के अभिभावकों का कहना है कि वह इस मुद्दे पर न्याय माँग रही हैं ताकि भविष्य में भी इस प्रकार की किसी गतिविधि को ना दोहराया जाए और भारतीयों के खिलाफ होने वाले नस्लीय भेदभाव के मामलों में गिरावट आए। उन्होंने कहा कि यह पैसे की नहीं, बल्कि सिद्धांतों की लड़ाई है। साथ ही, किसी भी वित्तीय निर्णय से प्राप्त धन को चैरिटेबल कार्यों के लिए दान करने का वादा किया है।

गौरतलब है कि पीड़ित छात्रा के पिता पंकज ओसवाल (Pankaj Oswal) मशहूर उद्योगपति ओसवाल घराने से हैं। इनकी पर्थ, ऑस्ट्रेलिया में बर्रप होल्डिंग्स लि. कंपनी दुनिया की सबसे बड़ी लिक्विड अमोनिया बनाने वाली कंपनी थी। लुधियाना में जन्में पंकज ओसवाल के दादा लाला विद्यासागर ओसवाल ने ‘ओसवाल समूह’ की स्थापना की थी।

नोट – ऑपइंडिया इस सम्बन्ध में ‘ली रोजी’ स्कूल से उनका बयान माँगा है, फिलहाल यह रिपोर्ट प्रकाशित होने तक कोई भी आधिकारिक जवाब प्राप्त नहीं हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव ठाकरे ने लगाई कल रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उन्हें बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

दिल्ली में नवरात्र से पहले माँ दुर्गा और हनुमान जी की प्रतिमाओं को किया क्षतिग्रस्त, सड़क पर उतरे लोग: VHP ने पुलिस को चेताया

असामाजिक तत्वों ने न सिर्फ मंदिर में तोड़फोड़ मचाई, बल्कि हनुमान जी की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। बजरंग दल ने किया विरोध प्रदर्शन।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

यमुनानगर में माइक से यति नरसिंहानंद को धमकी दे रही थी मुस्लिम भीड़, समर्थन में उतरे हिंदू कार्यकर्ता: भारी पुलिस बल तैनात

हरियाणा के यमुनानगर में यति नरसिंहानंद के मसले पर टकराव की स्थिति को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe