Sunday, January 24, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय स्विट्ज़रलैंड के स्कूल में भारतीय मूल की छात्रा के साथ हिन्दू सांस्कृतिक पहचान के...

स्विट्ज़रलैंड के स्कूल में भारतीय मूल की छात्रा के साथ हिन्दू सांस्कृतिक पहचान के कारण नस्लीय भेदभाव

पीड़िता के अभिभावकों ने कहा कि उनकी बेटी स्विट्जरलैंड में स्थित ली रोजी स्कूल में पढ़ती है जहाँ बड़े और नामी घरानों के बच्चों ने उसकी भारतीय पृष्ठभूमि जैसे- सांस्कृतिक पहचान, शाकाहारी होना आदि को लेकर उसका मजाक बनाया गया और भावनात्मक शोषण किया गया है।

स्विट्जरलैंड में दुनिया के सबसे महँगे स्कूलों में से एक- ली रोजी (Le Rosey) में भारतीय मूल के अभिभावकों द्वारा नस्लीय भेदभाव और हिन्दूफ़ोबिया का मुकदमा दर्ज किया है। ऑपइंडिया से बातचीत करते हुए पीड़ित के पैरेंट्स ने बताया कि कि उनकी बेटी स्कूल में अपनी भारतीय संस्कृति और हिन्दू पहचान के कारण निशाना बनाई जा रही है, जिस कारण वह मानसिक तनाव से गुजर रही।

ऑपइंडिया से बातचीत में भारतीय मूल के उद्योगपति राधिका ओसवाल (Radhika Oswal) और पंकज ओसवाल (Pankaj Oswal) ने बताया कि स्कूल ने उनकी बेटी के साथ नस्लीय भेदभाव कर उसके मानसिक उत्पीड़न में शामिल आरोपितों को बचाने का भी काम कर रहा है।

पीड़िता के अभिभावकों ने कहा कि उनकी बेटी स्विट्जरलैंड में स्थित ली रोजी स्कूल में पढ़ती है जहाँ बड़े और नामी घरानों के बच्चों ने उसकी भारतीय पृष्ठभूमि जैसे- सांस्कृतिक पहचान, शाकाहारी होना आदि को लेकर उसका मजाक बनाया गया और भावनात्मक शोषण किया गया है।

इस घटना के बारे में बात करते हुए पीड़ित छात्रा की माँ राधिका ओसवाल ने कहा –

“हम संस्थान में अपनी बच्ची के साथ हुए व्यवहार से हताश और चकित हैं। संकाय सदस्य भी अपने ही आचार संहिता के पालन में बुरी तरह से असफल हुए हैं। जाहिर तौर पर ‘आदर’ और ‘शारीरिक समग्रता’ के जिस मूल्य की संस्थान बात कर रहा है तथा जिन छात्रों की ‘धार्मिक, दार्शनिक और राजनैतिक प्रतिबद्धता’ से संबंधित बातें संस्थान करता है वह महज मार्केटिंग व्हाइटवॉश के अलावा कुछ भी नहीं है!”

अपने बच्चे के खिलाफ लगातार बढ़ते दुर्व्यवहार के मामलों के बाद अभिभावकों ने स्कूल को अपनी चिंताओं से अवगत करवाया और अपने बच्चे की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने कि बात कही। लेकिन स्कूल के सीनियर प्रबंधन ने इन आरोपों को ना तो स्वीकार किया और न ही कोई कदम उठाने की मंशा जताई।

इस दौरान छात्रों की बदमाशियाँ बढ़ती गयी और उनकी बेटी के साथ साइबर दुर्व्यवहार भी शुरू हो गया। छात्रा का विभिन्न सोशल मीडिया ग्रुपों पर अन्य छात्रों की मौजूदगी में मज़ाक उड़ाया जाने लगा। यही नहीं छात्रा के साथ हो रहे दुर्व्यवहार के खिलाफ कार्रवाई करने या किसी उचित निष्कर्ष तक पहुँचने की कोशिश करने के बजाए ‘ली रोजी’ स्कूल ने अगले अकादमिक सत्र में बिना किसी स्पष्टीकरण के उसका पुनः नामांकन तक खारिज कर दिया।

पीड़ित छात्रा के माता-पिता का कहना है कि अन्य भारतीय छात्रों के साथ भी दुर्व्यवहार के स्पष्ट मामले हैं, जिन्हें उनके बैकग्राउंड, संस्कृति और शाकाहारी होने के कारण परेशान किया जाता है।

राधिका ओसवाल ने आगे कहा –

“यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अन्य भारतीय छात्रों को एक संकाय सदस्य द्वारा जातिगत ताना मारा जा रहा है। बच्चों के सामने अपमानजनक और नस्लीय टिप्पणियाँ की जाती हैं, जैसे कि – भारत एशिया का कूड़ेदान है और भारतीय माता-पिता स्वीपर की तरह दिखते हैं। यह और अधिक दुखद है कि ऐसे व्यवहार के बावजूद कई भारतीय माता-पिता इस स्कूल में अपने बच्चों की शिक्षा जारी रखते हैं। यह चौंकाने वाला है कि बच्चों के शाकाहारी होने तथा उनकी संस्कृति और धार्मिक मान्यताओं को लेकर उन्हें ताने दिए जाते हैं, उनका मजाक उड़ाया जाता है। लेकिन इससे भी दुखद ये है कि माता-पिता कोई कार्रवाई नहीं करते।”

राधिका ओसवाल ने कहा कि ‘ली रोजी’ स्कूल की आचार संहिता से संबंधित अन्य मुद्दों पर भी स्कूल बहुत अधिक चिंतित नहीं है। जैसे कि स्कूल का पाँचवा ‘मेजर रूल’ यह है कि ‘सप्ताह के किसी भी दिन परिसर के अंदर या बाहर मादक पेय पदार्थ रखना या सेवन करना’ एक ‘प्रमुख अपराध’ है। तथा आचार संहिता में धूम्रपान और ‘बिना अनुमति के एक भवन से बाहर जाना’ बड़े अपराधों में शामिल है। इसके विपरीत स्कूल में मादक पेय और धूम्रपान का सेवन कथित रूप से प्रचलित है। उदंड छात्रों को अक्सर कक्षा के दौरान ‘ली रोजी’ के आसपास क्लबों और बार में देखा जा सकता है, जहाँ वे महँगे पेय पर खूब खर्च करते हैं।

पीड़ित छात्रा के अभिभावकों ने बताया कि उनकी चिंताओं को दूर करने के विपरीत, ली रोजी और उसकी फैकल्टी मुख्य रूप से उनकी बेटी के चरित्र मूल्यांकन में व्यस्त रहे। उसके ग्रेड को कम कर दिया गया, वह अपनी कक्षा में बेहतर ग्रेड प्राप्त करने वाली छात्राओं में से एक थी। इस तरह उन्होंने उन छात्रों का ही समर्थन किया, जिन्होंने उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया। यहाँ तक कि अगले अकादमिक वर्ष में उसके पुनः नामांकन को रद्द कर दिया और उसे अत्यधिक मानसिक यातना देते हुए उसे चुप कराने की कोशिश की।

उल्लेखनीय है कि ‘ली रोजी’ को दुनिया के सबसे महँगे स्कूलों में से एक माना जाता है। स्विटरजरलैंड की राजधानी जिनेवा से लगभग 26 किलोमीटर दूर बसे इस स्कूल के पास अपनी विशाल संपत्ति है। इसके पास अपने जहाज और रिजॉर्ट हैं, जहाँ हर साल जनवरी में स्कूल के बच्चे जाते हैं और अगले 3 महीनों तक फन एक्टिविटीज करते हैं।

ली रोजी स्विटजरलैंड का एक नामी बोर्डिंग स्कूल है। जहाँ पर सिर्फ एक साल की फीस लगभग 100,000 डॉलर (लगभग 75 लाख रुपए) है, और यह भी मात्र ट्यूशन फीस है, जिसमें अन्य खर्चे शामिल नहीं हैं।

सर रोजर मूर, डायना रॉस और एलिजाबेथ टेलर सभी ने अपने बच्चों को इसी ले रोजी स्कूल भेजा था और इसके पूर्व विद्यार्थियों में जॉन लेनन के बेटे सीन और विंस्टन स्पेंसर चर्चिल भी शामिल थे।

पीड़ित छात्रा के अभिभावकों का कहना है कि वह इस मुद्दे पर न्याय माँग रही हैं ताकि भविष्य में भी इस प्रकार की किसी गतिविधि को ना दोहराया जाए और भारतीयों के खिलाफ होने वाले नस्लीय भेदभाव के मामलों में गिरावट आए। उन्होंने कहा कि यह पैसे की नहीं, बल्कि सिद्धांतों की लड़ाई है। साथ ही, किसी भी वित्तीय निर्णय से प्राप्त धन को चैरिटेबल कार्यों के लिए दान करने का वादा किया है।

गौरतलब है कि पीड़ित छात्रा के पिता पंकज ओसवाल (Pankaj Oswal) मशहूर उद्योगपति ओसवाल घराने से हैं। इनकी पर्थ, ऑस्ट्रेलिया में बर्रप होल्डिंग्स लि. कंपनी दुनिया की सबसे बड़ी लिक्विड अमोनिया बनाने वाली कंपनी थी। लुधियाना में जन्में पंकज ओसवाल के दादा लाला विद्यासागर ओसवाल ने ‘ओसवाल समूह’ की स्थापना की थी।

नोट – ऑपइंडिया इस सम्बन्ध में ‘ली रोजी’ स्कूल से उनका बयान माँगा है, फिलहाल यह रिपोर्ट प्रकाशित होने तक कोई भी आधिकारिक जवाब प्राप्त नहीं हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

मुनव्वर फारूकी ने कोई ‘जोक क्रैक’ नहीं किया तो जैनब सच-सच बतलाना कमलेश तिवारी क्यों रेता गया

कितनी विचित्र विडंबना है, धार्मिक भावनाएँ आहत होती हैं और उनका विरोध होता है तो साम्प्रदायिकता! लेकिन मज़हबी जज़्बात आहत होते हैं तो...।

‘किसान’ नेताओं के मर्डर की कहानी को दमदार बनाने के लिए ‘नकाबपोश’ योगेश के मोबाइल में डाली 4 तस्वीरें

जिस नकाबपोश को शूटर बता किसान नेताओं ने देर रात मीडिया के सामने पेश किया था उसने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

सेना राष्ट्रवादी क्यों, सरकार से लड़ती क्यों नहीं: AAP वाले रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने ‘द प्रिंट’ में छोड़ा नया शिगूफा

लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) HS पनाग पनाग चाहते हैं कि सेना को लेकर जम कर राजनीति हो, उसे बदनाम किया जाए, दुष्प्रचार हो, लेकिन सेना को इसका जवाब देने का हक़ नहीं हो क्योंकि ये राजनीतिक हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

नकाब हटा तो ‘शूटर’ ने खोले राज, बताया- किसान नेताओं ने टॉर्चर किया, फिर हत्या वाली बात कहवाई: देखें Video

"मेरी पिटाई की गई। मेरी पैंट उतार कर मुझे पीटा गया। उलटा लटका कर मारा गया। उन्होंने दबाव बनाया कि मुझे उनका कहा बोलना पड़ेगा। मैंने हामी भर दी।"

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

मंदिर की दानपेटी में कंडोम, आपत्तिजनक संदेश वाले पोस्टर; पुजारी का खून से लथपथ शव मिला

कर्नाटक के एक मंदिर की दानपेटी से कंडोम और आपत्तिजनक संदेश वाला पोस्टर मिला है। उत्तर प्रदेश में पुजारी का खून से लथपथ शव मिला है।
- विज्ञापन -

 

अमित शाह ने किया ‘आयुष्मान CAPF’ का शुभारंभ: 28 लाख से अधिक जवान देश में कहीं भी करा पाएँगे इलाज

आयुष्मान CAPF योजना के तहत CAPF के लगभग 10 लाख जवान और अधिकारी और 50 लाख के आसपास उनके परिवार और परिजन देश के अंदर 24 हज़ार अस्पतालों में सिर्फ कार्ड लेकर उसे स्वैप करके इलाज करा सकते हैं।

बहन को फुफेरे भाई कासिम से था इश्क, निक़ाह के एक दिन पहले बड़े भाई फिरोज ने की हत्या: अश्लील फोटो बनी वजह

इस्लामुद्दीन की 19 वर्षीय बेटी फिरदौस के निक़ाह की तैयारियों में पूरा परिवार जुटा हुआ था। तभी शनिवार की सुबह घर में टूथपेस्ट कर रही फिरदौस को अचानक उसके बड़े भाई फिरोज ने तमंचे से गोली मार दी।

योगेंद्र यादव का दावा- गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली की मिली अनुमति, दिल्ली पुलिस ने किया इनकार

“बैरिकेड्स हटाए जाएँगे और हम दिल्ली में प्रवेश करेंगे। किसानों के ट्रैक्टर परेड से गणतंत्र दिवस के परेड या सुरक्षा इंतजाम पर किसी तरह का कोई असर नहीं पड़ेगा। किसानों का ट्रैक्टर परेड ऐतिहासिक होगा।”

कॉन्ग्रेस ने योगी सरकार को घेरने के लिए शेयर किया महिला का वीडियो, यूपी पुलिस पर लगाए झूठे आरोप: जानें क्या है सच

जिस भ्रामक दावे के साथ कॉन्ग्रेस पार्टी ने उत्तरप्रदेश सरकार को बदनाम करने के लिए चित्रित करने का प्रयास किया वह असल में उनकी सोच के बिल्कुल विपरीत निकला।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

गणतंत्र दिवस के पहले नोएडा, गाजियाबाद सहित इन 6 जगहों पर बम रखे जाने की अफवाह: यूपी पुलिस अलर्ट

गणतंत्र दिवस से पहले उत्तर प्रदेश में भय और आतंक का माहौल है। उत्तर प्रदेश के नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर और इलाहाबाद में इस सप्ताह 6 फर्जी बम रखे जाने की अफवाह के बाद पुलिस सतर्क हो गई है।

किसानों के समर्थन में कॉन्ग्रेस का राजभवन मार्च: दिग्विजय समेत 20 नेता गिरफ्तार, उत्तराखंड में भी हाथापाई पर उतरे कॉन्ग्रेसी

देहरादून में भी कृषि विरोधी प्रदर्शनकारियों ने राजभवन पहुँचने के लिए पुलिस बैरिकेट्स तोड़ने की कोशिश की। जब पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो प्रदर्शनकारी पुलिस अधिकारियों के साथ हाथापाई पर उतर गए।

जय श्री राम के उद्घोष से भड़कीं ममता बनर्जी, PM मोदी से कहा- बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं

जैसे ही ममता बनर्जी मंच पर भाषण देने पहुँचीं बीजेपी कार्यकर्ता तुरंत जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगे, जिससे वो खफा हो गईं।

ये पल भावुक करने वाला, नेताजी के नाम से मिलती है नई ऊर्जा: जानिए PM मोदी ने ‘पराक्रम दिवस’ पर क्या कहा

“मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूँ। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूँ।”

पुलिस को बदनाम करने के लिए रची गई थी साजिश, किसान नेताओं ने दी थी हत्या की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

साथ ही उन्होंने उसे बुरी तरह धमकाया कि अगर उसने उनका कहा नहीं माना तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। उसकी पिटाई की गई। ट्रॉली से उलटा लटका कर उसे मारा गया।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe