Friday, July 23, 2021

विषय

Racism

हिंदू पहचान के कारण ऑक्सफोर्ड में निशाना बनी रश्मि सामंत का मसला संसद में उठा, विदेशी मंत्री ने कहा- नस्लवाद से लड़ेंगे

रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष के पद से यह कहते हुए इस्तीफा दिया था कि हिंदू होना और ‘जय श्रीराम’ कहना अपराध नहीं है।

‘बच्चा कितना काला होगा’: प्रिंस हैरी-मेगन ने बताया शाही परिवार का घिनौना सच, ओप्रा विन्फ्रे के इंटरव्यू में खुलासा

मेगन ने बताया कि जब वह गर्भवती थीं तो शाही परिवार में कई तरह की बातें होती थीं। जैसे लोग बात करते थे कि उनके आने वाले बच्चे को शाही टाइटल नहीं दिया जा सकता।

जातिवाद के लिए मनुस्मृति को दोष देना, हिरोशिमा बमबारी के लिए आइंस्टाइन को जिम्मेदार बताने जैसा

महर्षि मनु हर रचनाकार की तरह अपनी मनुस्मृति के माध्यम से जीवित हैं, किंतु दुर्भाग्य से रामायण-महाभारत-पुराण आदि की तरह मनुस्मृति भी बेशुमार प्रक्षेपों का शिकार हुई है।

धोनी के ‘बलिदान’ ग्लव्स से दिक्कत… लेकिन ‘Black Lives Matter’ चलेगा: सोशल मीडिया पर ICC को गाली

वेस्ट इंडिज क्रिकेट टीम के खिलाड़ी इंग्लैंड में ‘Black Lives Matter’ लिखी ड्रेस पहन सकते हैं। ICC ने ऐसा करके एक बहस को जन्म दे दिया है।

अमेरिका में सिख की रेस्टोरेंट पर हमला कर उपद्रवियों ने मचाया उत्पात, देवी मूर्ति तोड़ने के साथ किया ₹75.6 लाख का नुकसान

इस हमले के दौरान रंगभेदी समूह के लोगों ने बलजीत की दुकान के अंदर तरह-तरह के स्लोगन भी लिखे। जैसे- 'white power', 'Trump 2020', 'F**K ISIS', and 'go home' आदि।

पश्चिम बंगाल में प्राइमरी के बच्चों को पढ़ाया जा रहा Ugly का मतलब अश्वेत, अभिभावकों ने किया विरोध

"इस किताब को जल्द ही वापस ले लिया जाना चाहिए। किसी भी स्थिति में, बच्चों को अश्वेतों के नाम पर दी जा रही शिक्षा उनके कोमल दिलों को हीन भावना से भरने और अश्वेतों के साथ भेदभाव करने का काम करेगी। यह गलत है।"

स्विट्ज़रलैंड के स्कूल में भारतीय मूल की छात्रा के साथ हिन्दू सांस्कृतिक पहचान के कारण नस्लीय भेदभाव

भारतीय मूल के उद्योगपति राधिका ओसवाल और पंकज ओसवाल ने बताया कि स्कूल ने उनकी बेटी के साथ नस्लीय भेदभाव कर उसके मानसिक उत्पीड़न में शामिल आरोपितों को बचाने का भी काम कर रहा है।

अल्का लाम्बा, आपने जिन्हें चौकीदार कहा, उन गोरखाओं का सम्मान उनके दुश्मन भी करते हैं

आम आदमी पार्टी और देश का मानस मथने वाले केजरीवाल को आज खुद गंभीर आत्ममंथन की आवश्यकता है। पार्टी अस्तित्व बचाने की लड़ाई हारती हुई दिख रही है।

प्रिय मृणाल पांडे, आपकी बातें सड़क पर नाइदो तनियम जैसी हत्या करा सकती हैं! सँभालिए खुद को

कोई व्यक्ति अपने पद का इस्तेमाल लोगों को जोड़ने में कर रहा है, और आपके पास उसकी नीतियों को लेकर, उसके कार्य को लेकर कुछ कहने को नहीं है, तो आप उसकी उस कोशिश का उपहास करते हैं जहाँ वो किसी जनजाति की परम्परा का सम्मान कर रहा होता है!

ताज़ा ख़बरें

प्रचलित ख़बरें

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,891FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe