Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजन सोर्स, न ट्रिप… फिर भी ChatGPT ने प्रसिद्ध लॉ प्रोफेसर को बता दिया...

न सोर्स, न ट्रिप… फिर भी ChatGPT ने प्रसिद्ध लॉ प्रोफेसर को बता दिया छात्रा का यौन उत्पीड़न करने वाला, जोनाथन टर्ली ने पूछा- क्या हम AI पर भरोसा कर सकते हैं

जोनाथन टर्ली ने कहा उन्होंने कभी भी क्लास में किसी छात्रा का यौन शोषण नहीं किया। उन्होंने आगे कहा, "इसमें मैं भी शामिल था। मुझ पर अलास्का की ट्रिप पर लॉ के छात्रों को छेड़ने के आरोप लगाया गया। इसमें साल 2018 में वाशिंगटन पोस्ट में प्रकाशित एक लेख का हवाला भी दिया गया, जिसमें मुझ पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया था।"

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) आधारित चैटबॉट चैटजीपीटी (Chatbot ChatGPT) अपनी तमाम खूबियों को लेकर इंटरनेट की दुनिया में छाया हुआ है। इसे बनाने वाली कंपनी का नाम OpenAI है, जो कि एक स्टार्टअप टेक कंपनी है। अब ChatGPT गलत जानकारी देने के कारण विवादों में है।

हाल ही में कैलिफोर्निया में एक शोध अध्ययन के दौरान एक वकील ने ChatGPT से उन कानूनी विद्वानों (Legal Scholars) की सूची तैयार करने के लिए कहा, जिन पर यौन उत्पीड़न का आरोप है। इसके बाद चैटजीपीटी ने एक लिस्ट बनाई। इस लिस्ट में जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में लॉ प्रोफेसर जोनाथन टर्ली (Jonathan Turley) का नाम भी शामिल था।

चैटबॉट ने द वाशिंगटन पोस्ट में मार्च 2018 के एक लेख का हवाला देता हुए कहा कि टर्ली ने अलास्का की क्लास ट्रिप के दौरान एक छात्रा का यौन उत्पीड़न किया और उस पर अभद्र टिप्पणियाँ की थी। लॉ प्रोफेसर जोनाथन टर्ली को जब इस लिस्ट के बारे में पता चला तो वह हैरान रह गए।

जोनाथन टर्ली अमेरिका के बेहद सम्मानित लॉ प्रोफेसर हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई भी लेख मौजूद नहीं है और न ही कभी अलास्का क्लास ट्रिप हुई थी। उन्होंने कहा कि उन पर कभी किसी छात्रा के यौन उत्पीड़न का आरोप नहीं लगा। यह आरोप बेबुनियाद और उनकी छवि को खराब करने वाला है।

जोनाथन टर्ली ने सोमवार (3 अप्रैल 2023) को यूएसए टुडे में प्रकाशित एक ओपिनियन में लिखा कि चैटजीपीटी ने उन पर झूठा आरोप लगाया है। उन्होंने आगे लिखा, “मुझे मेरे एक लॉ प्रोफेसर दोस्त से इस शोध के बारे में एक ईमेल मिला। इस ईमेल में यौन उत्पीड़न करने वाले प्रोफेसरों की लिस्ट थी, जिसे चैटजीपीटी ने चलाया था।”

जोनाथन टर्ली ने कहा उन्होंने कभी भी क्लास में किसी छात्रा का यौन शोषण नहीं किया। उन्होंने आगे कहा, “इसमें मैं भी शामिल था। मुझ पर अलास्का की ट्रिप पर लॉ के छात्रों को छेड़ने के आरोप लगाया गया। इसमें साल 2018 में वाशिंगटन पोस्ट में प्रकाशित एक लेख का हवाला भी दिया गया, जिसमें मुझ पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया था।”

उन्होंने चैटजीपीटी जैसे एआई चैटबॉट की सटीकता और विश्वसनीयता पर सवाल उठाते हुए कहा, “यह एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस है। क्या हम वास्तव में AI पर भरोसा कर सकते हैं?मुझे इसके बारे में पता चला तो पहले मुझे हास्यास्पद लगा, लेकिन बाद में महसूस हुआ कि मुझ पर लगाया यह आरोप मेरी छवि को नुकसान पहुँचाने वाला है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -