Monday, August 15, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचीन में 100 किलोमीटर की रेस: खराब मौसम की वजह से हादसा, 21 लोगों...

चीन में 100 किलोमीटर की रेस: खराब मौसम की वजह से हादसा, 21 लोगों ने गँवाई जान

इस रेस में 172 लोगों ने भाग लिया था। राहत दल ने 151 लोगों को सुरक्षित बचा लिया है, जिनमें से कुछ की तबियत अभी भी खराब है, उन्हें अस्पताल ले जाया गया है।

चीन में 100 किलोमीटर की क्रॉस-कंट्री माउंटेन रेस में भाग लेने वाले 21 लोगों की मृत्यु हो गई है। खराब मौसम के कारण गांसु प्रांत के बैयिन शहर में यह हादसा हुआ है। स्थानीय अधिकारियों ने जानकार दी है कि रविवार (मई 23, 2021) को यहाँ ओलावृष्टि, बर्फबारी और उसके जमने व तेज हवाओं की वजह से इस रेस में दौड़ लगाने वाले 21 लोगों की मृत्यु हो गई है।

इस दौड़ में 172 प्रतियोगियों ने भाग लिया था, जिनमें से राहत दल ने 151 लोगों को सुरक्षित बचा लिया है। इनमें से कुछ की तबियत खराब है, जिन्हें अस्पताल ले जाया गया है। 

बैयिन शहर के मेयर, झांग जुचेन ने रविवार को कहा कि मौसम में अचानक बदलाव के कारण यह हादसा हुआ है। आगे की जाँच के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया है। रेस्क्यू हेडक्वार्टर के अनुसार दोपहर करीब एक बजे 20 से 31 किलोमीटर के बीच दौड़ का ऊँचाई वाला हिस्सा अचानक विनाशकारी मौसम से प्रभावित हो गया।

थोड़े ही समय बाद स्थानीय क्षेत्र में ओलावृष्टि, बर्फबारी, बारिश और तेज हवाएँ चलने लगीं। इससे तापमान में गिरावट आ गई। इसके बाद मैराथन दौड़ को स्थगित कर दिया गया और राहत दल के करीब बारह सौ सदस्य बचाव कार्य में जुट गए। रात में राहत दल को जगह-जगह फँसे लोगों को निकालने में दिक्कतें भी आईं।

पर्वतीय मैराथन का आयोजन करवाने वाले आयोजकों ने माफी माँगी है। आपको बता दें कि इस प्रांत में पहले भी प्राकृतिक आपदाएँ आती रही हैं। साल 2010 में भयानक भूकंप की वजह से एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। इस इलाके में अक्सर भूकंप आते रहते हैं। येलो रिवर स्टोन ऊँची ऊँची पहाड़ियों के लिए जाना जाता है और यहाँ पर अक्सर फिल्मों की शूटिंग होती रहती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विकसित भारत के लिए पंच प्रण: लाल किले की प्राचीर से PM मोदी ने दिया मंत्र, बोले – हम वो, जो कंकड़-कंकड़ में देखते...

पीएम मोदी ने बताया कि साल 2014 में वह ऐसे पहले प्रधानमंत्री बने थे जिन्होंने आजाद भारत में जन्म लेकर लाल किले की प्राचीर से झंडे को फहराया।

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe