Tuesday, March 2, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय चीन ने कभी नहीं सोचा था भारत छोटी सी जमीन के लिए उन्हें कठिन...

चीन ने कभी नहीं सोचा था भारत छोटी सी जमीन के लिए उन्हें कठिन चुनौती दे देगा: चीनी विशेषज्ञ युन सुन

साल 2020 में उपजे इस विवाद को युन सुन चीन के लिए अलग तरह से महत्तवपूर्ण बताती हैं। वे समझाती हैं कि चीन के ऊपर इस समय कोरोना महामारी के कारण आतंरिक दबाव बहुत है और बाहर से भी उसपर हमले हो रहे हैं। युन का मानना है कि एशिया में भारत और चीन के बीच शक्ति प्रतिस्पर्धा संघर्ष को जन्म देती है और क्षेत्रीय शक्ति संतुलन को प्रभावित करती है।

गलवान घाटी में भारत चीन विवाद पर इस समय पूरे देश की एक अलग राय है। हर कोई सिर्फ़ और सिर्फ़ चीन को उसके किए के लिए सबक सिखाना चाहता है। फिर चाहे बात सीमा की हो, या फिर आर्थिक मोर्चे पर उसे चोट पहुँचाने की। भारत का लगभग हर नागरिक इसके लिए प्रतिबद्ध नजर आ रहा है। ऐसे में चीन की क्या प्रतिक्रिया है? ये किसी से छिपी नहीं है।

आज भले ही चीन ने अपने बॉयकॉट की बात को भारत के लिए नुकसानदायक बताकर पचा ली हो। लेकिन ये सच है कि आज से तीन साल पहले भारत का सख्त रवैया देखकर चीन की हवाइयाँ उड़ गईं थी। चीन ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि भारत उसको चुनौती दे सकता है। वो भी भूटान के पास एक छोटी सी जमीन के लिए।

डोकलाम विवाद ने वाकई चीन को हैरत में डाला था। ये कहना हमारा नहीं बल्कि खुद चीन विशेषज्ञ और अमेरिका में स्टिमसन सेंटर में पूर्वी एशिया कार्यक्रम की सह-निदेशक युन सुन का है। जिन्होंने इस बात का खुलासा इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान किया। वे कहती हैं कि 2017 में डोकलाम गतिरोध के दौरान, चीन बेहद आश्चर्यचकित था। क्योंकि उसे उम्मीद नहीं थी कि भारत 72-73 दिन तक भूटान के नजदीक एक छोटे से जमीन के टुकड़े के लिए लड़ाई लड़ेगा।

LAC के साथ पूर्वी लद्दाख में चल रही चीनी आक्रामकता के पीछे की प्रेरणा के बारे में पूछे जाने पर, युन सुन ने कहा कि चीनी अधिकारियों का मानना ​​है कि सीमा के पास भारत की गतिविधियों का जवाब देने की आवश्यकता थी।

वे कहती हैं, “अगर आप इस बारे में किसी चीनी अधिकारी से पूछते हैं तो उनका जवाब होगा कि चीन तो सिर्फ़ उन चीजों की प्रतिक्रिया दे रहा था। जो lac पर भारत कर रहा था।” उन्होंने कहा कि यह सर्वविदित है कि जहाँ से lac पास होती है। उन सटीक स्थानों पर एक ऐतिहासिक विवाद है। इसलिए जब चीन को ज्ञात हुआ कि भारत वहाँ पर सड़के बना रहा है। नया इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार कर रहा है। तो उनकी चिंता बढ़ गई कि उन्हें कैसे प्रतिक्रिया देनी चाहिए।

वे कहती हैं, “चीन को ऐसे हालात देखकर लगा जैसे भारत उनकी पीठ पर छूरा घोंप रहा है। इसी के बाद वो ऐसी स्थिति में आए कि जहाँ उन्हें सिर्फ़ दो विकल्प दिखा। एक तो आक्रमकता के साथ प्रतिक्रिया देना और दूसरा चुप रहकर अपने क्षेत्र को हाथ से जाते देखना।”

युन के मुताबिक चीन की मनोस्थिति को समझना ज्यादा मुश्किल काम नहीं है। क्योंकि चीन की वर्तमान हालत बयान करने के लिए अंग्रेजी मीडिया में बहुत सामग्री है। लेकिन दूसरी ओर चीन की रणनीति और प्रेरणा आदि को समझने के लिए जानकारी केवल चीनी भाषा में ही उपलब्ध है।

साल 2020 में उपजे इस विवाद को युन सुन चीन के लिए अलग तरह से महत्तवपूर्ण बताती हैं। वे समझाती हैं कि चीन के ऊपर इस समय कोरोना महामारी के कारण आतंरिक दबाव बहुत है और बाहर से भी उसपर हमले हो रहे हैं। युन का मानना है कि एशिया में भारत और चीन के बीच शक्ति प्रतिस्पर्धा संघर्ष को जन्म देती है और क्षेत्रीय शक्ति संतुलन को प्रभावित करती है।

युन के मुताबिक, भारत के लिए भले ही इस समय सबसे बड़ा खतरा चीन है। लेकिन कोरोना महामारी के बाद अब चीन के लिए सबसे बड़ा खतरा यूएस दिखाई दे रहा है। वे कहती हैं, चीन भारत से मैत्रीपूर्ण संबंध रखना चाहता है। खासतौर पर अमेरिका के संदर्भ में। लेकिन वह अपनी क्षेत्रीय अखंडता को त्यागने को भी किसी कीमत पर मंजूर नहीं करेगा।

विवाद से उभरने के लिए मुमकिन रास्तों को सुझाने की बात पर युन कहती हैं कि इस समय स्थिति दोनों ओर से साफ है। दोनों ही देश अपनी सेना सीमा पर लगा रहे हैं। अगर भारत दौलत बेग ओल्डी पर रोड बनाता है। तो चीन इसे अपनी सुरक्षा भेद्यता समझेगा और अपने क्षेत्र में सड़क बनाना चाहेगा। इसी प्रकार जब चीन अपने इलाके में कुछ बनाएगा तो भारत रणनीतिक कमजोरी के रूप में अनुभव करेगा और कुछ इसी प्रकार निर्माण करना चाहेगा।

वर्तमान परेशानी के कूटनीटिक हल की वकालत करते हुए युन ने कहा, “आज पैंगोंग लेक में जो हो रहा है वो अतीत में भी हो चुका है। मुझे लगता है दोनों पक्षों के राजनयिक डी एस्केलेशन के लिए एक मार्ग पर बातचीत कर रहे हैं। लेकिन, फिर भी दोनों देशों के शीर्ष नेतृत्व को आगे आना होगा ताकि जमीनी स्तर पर सैनिक कूटनीतिक वार्ता के अनुरूप काम करें।”

गौरतलब है कि एक ओर जहाँ भारत-चीन की सेनाएँ स्थिति को भाँपते हुए सीमा पर तैनात हैं। वहीं मंगलवार को 12 घंटे कॉर्प्स कमांडर लेवल के बीच वार्ता हुई। ये बातचीत कल रात 11 बजे खत्म हुई। बैठक में भारत ने फिंगर 4 से फिंगर आठ तक के क्षेत्र से चीन को तत्काल पीछे हटने को कहा ।

एलएसी के निकट चुशूल में भारतीय जमीन पर हुई बैठक में भारत की तरफ से 14वीं कोर के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीन की तरफ से तिब्बत सैन्य जिले के कमांडर मेजर जनरल लिऊ लिन शामिल हुए। जून महीने में इन सैन्य अधिकारियों के बीच यह तीसरे दौर की बैठक हुई है। इस बैठक में सेनाओं के पीछे हटने के तौर तरीकों पर चर्चा हुई है।

खबरों के मुताबिक भारत की तरफ से इस बात को जोरदार तरीके से उठाया गया कि चीन सेना उन इलाकों से तत्काल पीछे हटे जहाँ हाल में उसने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है ताकि पाँच मई से पहले की स्थिति बहाली की जा सके। इनमें पैंगोग लेक इलाके में फिंगर चार से आठ तक से चीनी सेना को तत्काल हटने को कहा गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेजन प्राइम ने तांडव पर माँगी माफी, कहा- भावनाओं को ठेस पहुँचाना ध्येय नहीं, हटाए विवादित दृश्य

हिंदूफोबिक कंटेट को लेकर विवादों में आई वेब सीरिज 'तांडव' को लेकर ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो ने माफी माँगी है।

ट्विटर पर जलाकर मारे गए कारसेवकों की बात करना मना है: गोधरा नरसंहार से जुड़े पोस्ट डिलीट करने को कर रहा मजबूर

गोधरा नरसंहार के हिंदू पीड़ितों की बात करने वाले पोस्ट डिलीट करने के लिए ट्विटर यूजर्स को मजबूर कर रहा है।

हिंदू अराध्य स्थल पर क्रिश्चियन क्रॉस, माँ सीता के पद​ चिह्नों को नुकसान: ईसाई प्रचारकों की करतूत से बीजेपी बिफरी

मंदिरों को निशाना बनाए जाने के बाद अब आंध्र प्रदेश में हिंदू पवित्र स्थल के पास अतिक्रमण कर विशालकाय क्रॉस लगाए जाने का मामला सामने आया है।

भगवान श्रीकृष्ण को व्यभिचारी और पागल F#ckboi कहने वाली सृष्टि को न्यूजलॉन्ड्री ने दिया प्लेटफॉर्म

भगवान श्रीकृष्ण पर अपमानजनक टिप्पणी के बाद HT से निकाली गई सृष्टि जसवाल न्यूजलॉन्ड्री के साथ जुड़ गई है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

काम पर लग गए ‘कॉन्ग्रेसी’ पत्रकार: पश्चिम बंगाल में ‘मौत’ वाले मौलाना से गठबंधन और कलह से दूर कर रहे असम की बातें

बंगाल में कॉन्ग्रेस ने कट्टरवादी मौलाना के साथ गठबंधन किया, रोहिणी सिंह जैसे पत्रकारों ने ध्यान भटका कर असम की बातें करनी शुरू कर दी।

प्रचलित ख़बरें

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

‘हिंदू होना और जय श्रीराम कहना अपराध नहीं’: ऑक्सफोर्ड स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष रश्मि सामंत का इस्तीफा

हिंदू पहचान को लेकर निशाना बनाए जाने के कारण रश्मि सामंत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट यूनियन की अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।

‘बीवी के सामने गर्लफ्रेंड को वीडियो कॉल करता था शौहर, गर्भ में ही मर गया था बच्चा’: आयशा की आत्महत्या के पीछे की कहानी

राजस्थान की ही एक लड़की से आयशा के शौहर आरिफ का अफेयर था और आयशा के सामने ही वो वीडियो कॉल पर उससे बातें करता था। आयशा ने कर ली आत्महत्या।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,208FansLike
81,885FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe