Wednesday, July 6, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकीलों वाली लकड़ी से पीट-पीट कर बेटी को मार डाला... क्योंकि दूसरी बीवी को...

कीलों वाली लकड़ी से पीट-पीट कर बेटी को मार डाला… क्योंकि दूसरी बीवी को खुश करना था

बेटी अपने अब्बू से दूसरी बीवी को तलाक देने के लिए कहती थी... लेकिन उसे दूसरी बीवी को खुश करना था। इसलिए पहली बीवी से पैदा हुई अपनी बेटी को कीलों वाली लकड़ी के तख्ते से पीटना शुरू कर दिया... तब तक मारता रहा, जब तक मर नहीं गई।

अफ्रीका को मध्य-पूर्व के देशों से जोड़ने वाले इस्लामिक देश मिस्र (Egypt) से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जिसको सुनकर रोंगटे खड़े हो जाएँगे। यह सोचकर ही कोई सिहर उठेगा कि कोई अपनी दूसरी बीवी को खुश करने के लिए अपनी ही नाबालिग बेटी की पीट-पीटकर हत्या कर देगा। लेकिन, यह सच है और ऐसा हुआ है।

मिस्र के क्वेना शहर में एक व्यक्ति ने अपनी दूसरी पत्नी को खुश करने के लिए अपनी 15 वर्षीया बेटी की कीलों वाली लकड़ी से पीट-पीटकर हत्या कर दी। हत्या के आरोप में पुलिस ने उस शख्स और मदद करने के आरोप में उसकी बीवी को गिरफ्तार कर लिया है।

कहा जा रहा है कि नाबालिग लड़की अपनी अपनी सौतेली माँ के साथ झगड़ा करती थी। किशोरी अपने पिता से दूसरी पत्नी को तलाक देने के लिए भी कहती थी। व्यक्ति ने अपनी दूसरी पत्नी को खुश करने के लिए पहली पत्नी से पैदा हुई अपनी बेटी को कीलों वाली लकड़ी के तख्ते से पीटना शुरू कर दिया। गहरी चोट के कारण लड़की लहूलुहान हो गई और अंतत: अपनी जान गँवा बैठी।

जाँच के दौरान पता चला कि पिता ने बेटी की हत्या करने के बाद अपनी दूसरी पत्नी की मदद भी ली। दूसरी बीवी ने हत्या वाली जगह से खून को साफ किया और उसके बाद पति-पत्नी दोनों ने मिल कर शव को अज्ञात स्थान पर दफन कर दिया।

बाद में उस आदमी की दूसरी पत्नी ने पुलिस में एक शिकायत दर्ज कराते हुए बताया कि उसकी सौतेली बेटी गायब हो गई है। हालाँकि, पुलिस को उस पर संदेह हुआ और उससे गहन पूछताछ शुरू कर दी। पूछताछ में महिला ने अपना अपराध कबूल कर लिया। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अभिव्यक्ति की आज़ादी सिर्फ हिन्दू देवी-देवताओं के लिए क्यों?’: सत्ता जाने के बाद उद्धव गुट को याद आया हिंदुत्व, प्रियंका चतुर्वेदी ने सँभाली कमान

फिल्म 'काली' के पोस्टर में देवी को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया है। जिस पर विरोध जताते हुए शिवसेना ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हिंदू देवताओं के लिए ही क्यों?

‘किसी और मजहब पर ऐसी फिल्म क्यों नहीं बनती?’: माँ काली का अपमान करने वालों पर MP में होगी कार्रवाई, बोले नरोत्तम मिश्रा –...

"आखिर हमारे देवी देवताओं पर ही फिल्म क्यों बनाई जाती है? किसी और धर्म के देवी-देवताओं पर फिल्म बनाने की हिम्मत क्यों नहीं हो पाती है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
203,883FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe