Saturday, July 31, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'इस्लामोफोबिया' से लड़ने के लिए मेगन मर्केल ने दिया दान, संस्था ने नहीं किया...

‘इस्लामोफोबिया’ से लड़ने के लिए मेगन मर्केल ने दिया दान, संस्था ने नहीं किया सार्वजनिक: जानिए वजह

पिछले दिनों मेगन मर्केल और प्रिंस हैरी के इंटरव्यू ने एक बड़े विवाद को जन्म दिया था। इस इंटरव्यू में दंपती ने ब्रिटिश शाही परिवार पर नस्लीय भेदभाव के गंभीर आरोप लगाए थे।

प्रिंस हैरी की पत्नी मेगन मर्केल फिर से सुर्खियों में हैं। इस्लामोफोबिया से लड़ने का दावा करने वाली ब्रिटेन की संस्थान ‘हिम्माह (Himmah)’ का कहना है कि उसे मर्केल से दान मिला था। लेकिन, उन्होंने इसे सार्वजनिक नहीं किया, क्योंकि आशंका थी कि इससे मर्केल की प्रतिष्ठा को नुकसान हो सकता है।

बीबीसी न्यूज को संस्था के डायरेक्टर साजिद मोहम्मद ने बताया, ”हमारे द्वारा इसे सार्वजनिक नहीं किए जाने का कारण यह है कि ट्रस्टियों का मानना था कि वह काफी चर्चित हैं और ऐसे में रेप्यूटेशॅन से जुड़े विवाद हो सकते हैं। लोग हमारे चैरिटी को पसंद नहीं कर रहे हैं, क्योंकि वे उसे (मेगन मार्केल) पसंद नहीं करते हैं। इसलिए हमने दान गुप्त रखने का फैसला किया।”

उन्होंने कहा कि उन्होंने ओपरा विन्फ्रे के साथ विवादास्पद इंटरव्यू के बाद दंपती के प्रति एकजुटता का भाव दिखाने की आवश्यकता महसूस की। यह इंटरव्यू मार्च में सीबीएस पर प्रसारित हुआ था। उनके अनुसार, अगस्त में द रॉयल फाउंडेशन के माध्यम से $13,000 (£ 10,000) का दान प्राप्त किया गया था।

साजिद मोहम्मद ने कहा, “इंटरव्यू के बाद हमें अहसास हुआ कि हम गरीबी और नस्लवाद के विरुद्ध चलने वाले संगठन हैं। हमें एकजुटता दिखाने की जरूरत है।” उन्होंने खुलासा किया कि उन्होंने शुरू में सोचा था कि यह एक बड़ा झूठ है लेकिन जब उन्हें अहसास हुआ कि यह वास्तविकता है तो वह बहुत रोए। मोहम्मद ने कहा कि हिम्माह के वॉलिंटियर और ट्रस्टी पूर्ण रूप से रानी की दयालु, उदार और विनम्र बातों से ऊपर उठ गए थे।

बता दें कि पिछले दिनों मेगन मर्केल और प्रिंस हैरी के इंटरव्यू ने एक बड़े विवाद को जन्म दिया था। इस इंटरव्यू में दंपती ने ब्रिटिश शाही परिवार पर नस्लीय भेदभाव के गंभीर आरोप लगाए थे। मेगन ने ओप्रा विन्फ्रे को बताया था कि जब वह गर्भवती थीं, तो शाही परिवार में बहुत सी चर्चाएँ जोरों पर थीं। जैसे- मेगन और प्रिंस हैरी के बच्चे को कोई शाही खिताब नहीं दिया जा सकता है या उनके बच्चे का रंग कैसा होगा।

बता दें कि शाही परिवार से नाता तोड़कर जीवन में आगे बढ़ने का निर्णय लेने के कारण प्रिंस हैरी और उनकी पत्नी मेगन मार्केल (Meghan Markle) लंबे समय से चर्चा में हैं। कथित तौर पर इस जोड़े ने शाही परिवार में बड़ी अजीब परिस्थितियों का सामना किया। मेगन को तो नस्लीय भेदभाव भी झेलना पड़ा। ओप्रा से बात करते हुए, मेगन मर्केल ने बताया था कि वह उस समय बहुत चिंतित थीं जब उन्हें पता चला कि यूके का शाही परिवार हैरी और उनके बच्चे आर्ची को कोई सुरक्षा नहीं दे रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,101FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe