Sunday, May 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयइजरायल और ईरान के बीच जंग के हालात: भारतीयों के लिए सरकार ने जारी...

इजरायल और ईरान के बीच जंग के हालात: भारतीयों के लिए सरकार ने जारी की एडवाइजरी, दूतावास से संपर्क में रहने को कहा

इजरायल पर ईरानी हमले की आशंका के बीच भारत सरकार ने अपने नागरिकों के लिए ट्रैवल एडवाइजरी जारी कर दोनों देशों की यात्रा न करने को कहा है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि ईरान अपने शीर्ष कमांडरों की हत्या का बदला लेने के लिए इजरायल पर हमला कर सकता है।

ईरान-इजरायल में तनाव के बीच भारत सरकार ने ट्रैवल एडवाइजरी जारी की है और दोनों देशों की यात्रा से बचने के लिए कहा है। सरकार ने दोनों देशों में मौजूद अपने नागरिकों से दूतावास के संपर्क में बने रहने की भी सलाह दी है। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि अगले दो दिनों के भीतर दोनों ही देशों के बीच भारी जंग छिड़ सकती है।

भारत सरकार के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार (12 अप्रैल 2024) की शाम ये एडवाइजरी जारी की और कहा कि भारतीय नागरिक अगली सूचना तक ईरान और इजराइल की यात्रा न करें। विदेश मंत्रालय ने एक्स पर जारी बयान में कहा है, “ईरान या इजराइल में रहने वाले भारतीय वहाँ के दूतावासों से फौरन संपर्क करें और अपना रजिस्ट्रेशन करवाएँ। सभी अपनी सुरक्षा का ध्यान रखें और कम से कम बाहर निकलें।”

भारत सरकार ने ट्रैवल एडवाइजरी उस समय जारी की है, जब एक अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल ने दावा किया है कि ईरान अगले दो दिन में इजराइल पर हमला कर सकता है। वॉल स्ट्रीट जर्नल ने शुक्रवार को अमेरिकी इंटेलिजेंस के हवाले से ये दावा किया है। वॉल स्ट्रीट जर्नल ने ईरान द्वारा जानकारी दिए गए एक व्यक्ति का हवाला देते हुए अपनी रिपोर्ट में बताया कि ईरान अगले 48 घंटों के भीतर इजरायल पर हमला बोल सकता है। रिपोर्ट में कहा गया कि ईरान इजरायल पर हमले के राजनीतिक जोखिमों का आकलन कर रहा है।

बता दें कि दोनों देशों के बीच तनाव तब अपने चरम पर पहुँच गया, जब एक हमले में सीरिया में ईरानी वाणिज्य दूतावास की एक इमारत ध्वस्त हो गई थी। ईरान ने उस हमले के लिए इजरायल को दोषी ठहराया था जिसमें उसके एक शीर्ष सैन्य कमांडर और छह अधिकारी मारे गए थे। ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स ने देश के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई से संपर्क किया था।

इस मामले में अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा है कि विवाद को बढ़ावा देना किसी के भी हित में नहीं है। वहीं, गुरुवार (11 अप्रैल 2024) को अमेरिका ने इजरायल में काम करने वाले अपने नागरिकों और खासकर डिप्लोमैट्स के लिए एडवाइजरी जारी किया। अमेरिका ने अपनी एम्बेसी के स्टाफ को यरुशलम, तेल अवीव या बीरशेबा शहर से बिना सावधानी के बाहर न जाने को कहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो में मुस्लिम’ : सिर्फ इतना लिखने पर ‘भिकू म्हात्रे’ को कर्नाटक पुलिस ने गिरफ्तार किया, बोलने की आजादी का गला घोंट...

सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर 'भिकू म्हात्रे' नाम के फिक्शनल नाम से एक्स पर अपनी राय रखते हैं। उन्होंने कॉन्ग्रेस के मेनिफेस्टो पर अपनी बात रखी थी।

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -