Friday, June 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसैकड़ों स्कूली छात्रों का अपहरण, पश्चिमी शिक्षा को बताया इस्लाम विरोधी: नाइजीरिया में बोको...

सैकड़ों स्कूली छात्रों का अपहरण, पश्चिमी शिक्षा को बताया इस्लाम विरोधी: नाइजीरिया में बोको हरम ने ली जिम्मेदारी

"केटसीना में जो कुछ भी हुआ वह इस्लाम को बढ़ावा देने और गैर-इस्लामी प्रथाओं को हतोत्साहित करने के लिए किया गया, क्योंकि पश्चिमी शिक्षा अल्लाह और उनके पवित्र पैगंबर द्वारा बताई गई शिक्षा के अनुरुप नहीं है।"

जिहादी समूह बोको हरम ने उत्तर पश्चिमी नाइजीरिया में हुए सैकड़ों स्कूली छात्रों के अपहरण की जिम्मेदारी ली है। 2014 के सैकड़ों छात्राओं के अपहरण के पीछे रहे समूह के नेता ने एक ऑडियो मैसेज में कहा, “मैं अबूबकर शेकू हूँ और केटसीना में हुए अपहरण के लिए हमारे ही लोग जिम्मेदार हैं।” 

‘डेली नाइजीरियन’ ने जानकारी दी है कि उसे बोको हराम के नेता अबूबकर शेकू का एक ऑडियो संदेश मिला है, जिसमें कहा गया है कि इसी संगठन ने स्कूली बच्चों का अपहरण किया है क्योंकि उनके अनुसार पश्चिमी शिक्षा इस्लाम के सिद्धांतों के खिलाफ है।

अखबार ने शेकू के हवाले से कहा, “केटसीना में जो कुछ भी हुआ वह इस्लाम को बढ़ावा देने और गैर-इस्लामी प्रथाओं को हतोत्साहित करने के लिए किया गया, क्योंकि पश्चिमी शिक्षा अल्लाह और उनके पवित्र पैगंबर द्वारा बताई गई शिक्षा के अनुरुप नहीं है।”

मैसेज में आगे कहा गया, “वे यह भी नहीं सिखा रहे हैं कि अल्लाह और उनके पवित्र पैगंबर ने क्या आदेश दिया था। वे इस्लाम को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं। ऊपर आसमान और नीचे धरती का भगवान अल्लाह है। वो उन चीजों को भी जानता है, जिसे कोई नहीं जानता है। अल्लाह इस्लाम को बरक्कत दे।”

उसने कहा, “संक्षेप में, केटसीना में जो हुआ उसके पीछे हम हैं।” आतंकी सरगना ने मैसेज के अंत में कहा कि वह अबूबकर शेकू है, जो जमात अहलूस्सना लिद-दवती वाल जिहाद का नेता है।

बता दें कि बंदूकधारियों ने राष्ट्रपति मुहम्मद बुहारी के गृह राज्य केटसीना में छात्रों के हॉस्टल पर हमला किया था और उसके बाद वहाँ से 400 छात्रों को अगवा कर लिया था। संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी यूनिसेफ ने इस हमले की निंदा की। कांकरा में शुक्रवार 11 दिसंबर 2020 की रात सरकारी साइंस माध्यमिक स्कूल पर हथियारबंद हमलावरों ने हमला किया और उनकी सुरक्षाकर्मियों से भिड़ंत हुई। संघर्ष के दौरान सैकड़ों बच्चे जान बचाने के लिए पास के जंगलों में भाग गए थे।

हमले को अंजाम देने वाले बंदूकधारी AK 47 से लैस थे। केटसीना प्रांत की पुलिस के प्रवक्ता गेंबो ईसा ने इसकी जानकारी देते हुए बताया था कि 400 छात्र लापता हैं, जबकि 200 का पता लगाया जा चुका है। बताया जा रहा है कि स्कूल में 600 से अधिक छात्र पढ़ते हैं। कुछ मीडिया रिपोर्टों में स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों की संख्या 800 बताई गई।

हालाँकि, राज्य के गवर्नर अमीनू मसारी ने दावा किया कि केवल 333 छात्र लापता हैं, लेकिन डेली ट्रस्ट रिपोर्टर के अनुसार स्कूल रजिस्टर रजिस्टर में 668 कर्मचारी गायब हैं। अमीनू मसारी ने शनिवार (दिसंबर 12, 2020) को स्कूल का दौरा किया और कहा कि सुरक्षाबल अगवा हुए छात्रों को छुड़ाने की कोशिश में जुटे हुए हैं। 

बता दें कि नाइजीरिया में 2014 में इसी तरह बोको हरम के आतंकियों ने एक हॉस्टल से 276 लड़कियों को उठा लिया था। जिसमें से 100 लड़कियों का अब तक कोई सुराग नहीं है। वहीं नवंबर 2020 के अंत में बोको हरम ने कम से कम 110 किसानों को मौत के घाट उतार दिया था। इनमें से तकरीबन 30 की तो गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। आतंकियों ने यहाँ एक गाँव पर हमला बोला। यहाँ खेतों में काम कर रहे किसानों और मजदूरों को आंतकियों ने निशाना बनाया। उन्हें पकड़कर पहले उनके हाथ-पाँव बाँध दिए और फिर सबका गला रेत दिया। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पास में थी सिर्फ 11 बोतल इसलिए छोड़ दिया… तमिलनाडु में जिसने घर-घर बाँटा ‘जहर’, उसे गिरफ्तारी के तुरंत बाद छोड़ा गया था: रिपोर्ट,...

छानबीन में पता चला है कि आरोपित गोविंदराज कुछ दिन पहले ही गिरफ्तार किया गया था, लेकिन तब उसके पास कम बोतल थी, इसलिए उसे तुरंत छोड़ दिया गया था।

अभी तिहाड़ जेल से बाहर नहीं आ पाएँगे दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल, हाई कोर्ट ने बेल पर लगाई रोक: ED ने बताया- अब...

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट से बेल मिलने के बाद भी अभी सीएम केजरीवाल जेल से रिहा नहीं होंगे। ईडी के विरोध पर दिल्ली हाई कोर्ट ने बेल पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -