Wednesday, November 30, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमर्लिन मुनरो को 'श्रद्धांजलि' के नाम पर मैडोना हुई पूरी न्यूड, सोशल मीडिया पर...

मर्लिन मुनरो को ‘श्रद्धांजलि’ के नाम पर मैडोना हुई पूरी न्यूड, सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा- बैड टेस्ट

63 वर्षीय गायिका ने अमेरिकी फैशन पत्रिका वी (V) के लिए फोटोशूट कराने के दौरान अपना अंडरवियर उतार दिया था और खुद को फर में लपेट लिया था, ताकि वह लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर सकें।

गायिका मैडोना एक बार फिर नए फोटोशूट को लेकर विवादों में हैं। अभिनेत्री मर्लिन मुनरो को अनुचित तरीके से श्रद्धांजलि देने के लिए मैडोना की सोशल मीडिया पर खिंचाई की गई। मर्लिन मुनरो के डेथ बेड सीन को रीक्रिएट करने के दौरान यौन उत्तेजित फोटोशूट कराने को लेकर लोगों ने मैडोना को फटकार लगाई।

63 वर्षीय गायिका ने अमेरिकी फैशन पत्रिका वी (V) के लिए फोटोशूट कराने के दौरान अपना अंडरवियर उतार दिया था और खुद को फर में लपेट लिया था, ताकि वह लोगों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर सकें। वी मैगज़ीन के लिए मैडोना और फोटोग्राफर स्टीवन क्लेन ने बर्ट स्टर्न की ‘द लास्ट सिटिंग’ का उपयोग करने का निर्णय लिया। एक फोटो में वह पूरी न्यूड है। यह फोटो पीछे की तरफ से ली गई है। वह बेड पर लेटी हुई हैं। इसमें उनका चेहरा नहीं दिख रहा है।

क्लेन के अनुसार, वह केवल तस्वीरों को फिर से बनाना नहीं चाहते थे, बल्कि एक श्रद्धांजलि देना चाहते थे। वी मैगज़ीन के फोटोशूट में मैडोना को गद्दे पर लेटते हुए देखा गया था, जबकि एक अन्य शॉट में प्रिस्क्रिप्शन गोली की बोतलें एक नाइटस्टैंड पर रखी हुई देखी जी सकती हैं।

कुछ प्रशंसकों ने मैडोना के नए वी मैगज़ीन शूट पर नकारात्मक प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि यह मर्लिन की स्मृति के लिए अपमानजनक है और इसे आत्महत्या को ‘ग्लैमराइज’ करने के तौर पर देखा जा सकता है।

एक फैन ने ट्विटर पर अपनी राय व्यक्त करते हुए लिखा, “किसी रुग्ण और भयानक कारण से मैडोना ने मर्लिन मुनरो की मौत के बिस्तर को रीक्रिएट किया।” एक अन्य ने इसे अनुचित बताया। एक सोशल मीडिया यूजर ने कहा कि यह कूल नहीं है।

बता दें कि यह अभिनेत्री मर्लिन मुनरो की 1962 में 36 साल की आयु में असामयिक मृत्यु हो गई थी। यह उनकी ली गई अंतिम तस्वीर थी। मुनरो 1962 में अपने ब्रेंटवुड, कैलिफ़ोर्निया स्थित घर में मृत पाई गई थीं। कहा जाता है कि एक रात पहले उन्होंने ड्रग्स लिया था। मर्लिन की मृत्यु को उस समय ‘संभावित आत्महत्या’ करार दिया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोता हुआ आम का पेड़, आरती के समय मंदिर में देवता को प्रणाम करने वाला ताड़ का वृक्ष… वेदों से प्रेरित था जगदीश चंद्र...

छुईमुई का पौधा हमारे छूते ही प्रतिक्रिया देता है। जगदीश चंद्र बोस ने दिखाया कि अन्य पेड़-पौधों में भी ऐसा होता है, लेकिन नंगी आँखों से नहीं दिखता।

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,143FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe