Monday, July 15, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयउम्र 45 साल, पर ब्रेन-दिल-लिंग… सबकुछ चाहिए 18 साल के युवक का: सॉफ्टवेयर उद्यमी...

उम्र 45 साल, पर ब्रेन-दिल-लिंग… सबकुछ चाहिए 18 साल के युवक का: सॉफ्टवेयर उद्यमी करवा रहा ट्रीटमेंट, ₹16 करोड़ खर्च होने का अनुमान

जॉनसन ब्रॉयन के इस निर्णय की आलोचना करने वालों की भी कमी नहीं है। कुछ लोग उन्हें खाने से संबंधित डिस्ऑर्डर बताते हैं तो कुछ उन्हें साइकोलॉजिकल डिस्ऑर्डर (मनोवैज्ञानिक विकार) होने की बात करते हैं। हालाँकि, इन सबसे से परे जॉनसन आज भी अपने काम में लगे हैं।

कोई बूढ़ा होना नहीं चाहता, लेकिन यह प्रकृति का एक ऐसा नियम है जिस पर मानव का बस नहीं चलता। हालाँकि, अमेरिका का 45 वर्षीय एक बिजनेसमैन इस प्रक्रिया को उल्टा करना चाहता है।

खास बात यह है कि इसमें उसे कुछ सफलता भी मिली है। मतलब डॉक्टरों और उसके खुद के अथक प्रयास से उसके कई अंगों की उम्र कम हो गई है। इसके लिए वह हर साल करोड़ों रुपए खर्च भी करता है। 

सॉफ्टवेयर के क्षेत्र में काम करने वाले इस अमेरिकी बिजनेसमैन का नाम ब्रायन जॉनसन है। जॉनसन के पास 30 से अधिक डॉक्टर और स्वास्थ्य विशेषज्ञों की टीम है, जो उनके हर शारीरिक कार्य की निगरानी करते हैं।

29 वर्षीय चिकित्सक (Regenerative Medicine Physician) ओलिवर ज़ोलमैन के नेतृत्व में डाॅक्टरों की टीम जॉनसन के प्रत्येक अंग में उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को कम करने के लिए काम कर रही है।

तस्वीर साभार-ब्लूमबर्ग

जॉनसन को इन सब प्रक्रियाओं के लिए करोड़ों रुपए खर्च करने पड़ते हैं। इस साल वह अपने शरीर पर कम-से-कम 2 मिलियन डॉलर (करीब 16 करोड़ रुपए) खर्च करने वाले हैं। जॉनसन और उनके डॉक्टर इसे एक परियोजना की तरह चला रहे हैं और इसका नाम ‘प्रोजेक्ट ब्लूप्रिंट’ रखा है।

वह 18 साल के बच्चे की तरह दिमाग, दिल, फेफड़े, लीवर, किडनी, दाँत, त्वचा, बाल, शिश्न (Penis) सहित शरीर के अन्य अंग करना चाहते हैं। इसके लिए वे हर महीने दर्जनों चिकित्सा प्रक्रियाओं से गुजरते हैं। इनमें से कई काफी दर्दनाक होते हैं। उन्हें एमआरआई, अल्ट्रासाउंड और कॉलोनोस्कोपी भी कराना पड़ता है।

उनकी देखरेख करने वाले एक डॉक्टर का कहना है कि उन पर किए गए टेेेस्ट से पता चलता है कि उन्होंने अपनी समग्र जैविक आयु (overall biological age) कम-से-कम पाँच वर्ष कम कर ली है। डॉक्टरों ने इसे एक बड़ी उपलब्धि बताया है।

बकौल डॉक्टर, “नतीजे बताते हैं कि उनके पास 37 साल के व्यक्ति का दिल, 28 साल के व्यक्ति की त्वचा और 18 साल के युवा के फेफड़े की क्षमता और फिटनेस है। हमारा लक्ष्य बायो स्टैटिस्टिक्स के माध्यम से 2030 तक सभी 78 अंगों में उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में 25% की कमी लाना है।”

ऐसा नहीं है कि जॉनसन सिर्फ डॉक्टरों के सहयोग से ही ऐसा कर पा रहे हैं। वह खुद भी इसके लिए काफी मेहनत करते हैं। जॉनसन रोज़ सुबह साढ़े पाँच बजे उठते हैं और संयमित आहार लेते हैं। इसके अलावा, वे व्यायाम भी करते हैं। सुबह उठने के बाद वे करीब 2 दर्जन दवाइयाँ और सप्लिमेंट लेते हैं।

अपने 30 के दशक में जॉनसन ने ब्रेंट्री पेमेंट सॉल्यूशंस एलएलसी नामक भुगतान कंपनी बनाई थी। यह एक बड़ी सफलता थी, लेकिन देर तक काम करने और तनाव के कारण उनका वजन अधिक हो गया और वे अत्महत्या की सीमा तक अवसाद के शिकार हो गए।

जॉनसन ने साल 2013 में ईबे इंक (EBay Inc.) को 800 मिलियन डॉलर (6575 करोड़ रुपए) में बेच दिया। इसके बाद उन्होंने खुद पर ध्यान शुरू किया और जीव विज्ञान के बारे में अधिक से अधिक पढ़ने लगे। उन्होंने इसे अपने काम का हिस्सा बना लिया।

जॉनसन ने ओएस फंड नामक एक बायोटेक-केंद्रित फर्म की स्थापना की। इसके बाद साल 2016 में कर्नेल नामक एक कंपनी की स्थापना की, जो हेलमेट बनाती है। यह हेलमेट दिमाग की आंतरिक कार्यप्रणाली के बारे में अधिक जानने के लिए मस्तिष्क की गतिविधियों का विश्लेषण भी करती है।

शोधकर्ता वर्तमान में इस हेलमेट का उपयोग ध्यान और मतिभ्रम के प्रभावों को निर्धारित करने तथा पुराने दर्द को कम करने के तरीके खोजने के लिए कर रहे हैं। इसके साथ ही जॉनसन ने अपने शरीर में बदलाव करने की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। इसके बाद उन्होंने डॉक्टरों की टीम को हायर किया।

जॉनसन ब्रॉयन के इस निर्णय की आलोचना करने वालों की भी कमी नहीं है। कुछ लोग उन्हें खाने से संबंधित डिस्ऑर्डर बताते हैं तो कुछ उन्हें साइकोलॉजिकल डिस्ऑर्डर (मनोवैज्ञानिक विकार) होने की बात करते हैं। हालाँकि, इन सबसे से परे जॉनसन आज भी अपने काम में लगे हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -