Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनवाज शरीफ ने भाई शहबाज को सौंपा पाकिस्तान, बेटी मरियम को पंजाब: अब्बा जरदारी...

नवाज शरीफ ने भाई शहबाज को सौंपा पाकिस्तान, बेटी मरियम को पंजाब: अब्बा जरदारी को राष्ट्रपति बनाने की शर्त पर बिलावल ने दिया समर्थन

पाकिस्तान में चल रही राजनीतिक उथल-पुथल के बीच पाकिस्तान मुस्लिम लीग और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने निर्णय लिया है कि वो मुल्क में मिलकर सरकार चलाएँगे। इस सरकार का नेतृत्व शहबाज शरीफ करेंगे।

पाकिस्तान में चल रही राजनीतिक उथल-पुथल के बीच पाकिस्तान मुस्लिम लीग और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने निर्णय लिया है कि वो मुल्क में मिलकर सरकार चलाएँगे। इस सरकार का नेतृत्व पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाई शहबाज शरीफ करेंगे। वहीं नवाज की बेटी मरियम नवाज को पंजाब प्रांत की नई मुख्यमंत्री बनाया जाएगा। नवाज शरीफ ने कहा है कि वो अपने भाई और बेटी को सत्ता में पीछे रहकर ही समर्थन देंगे। इसके अलावा मुल्क के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी हो सकते हैं।

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने इस बीच जानकारी दी कि उनकी पार्टी सरकार का हिस्सा बने बिना प्रधानमंत्री पद के लिए पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के उम्मीदवार का समर्थन करेगी। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी को पर्याप्त जनादेश नहीं मिला है, इसलिए वह प्रधानमंत्री पद के लिए दावेदारी नहीं करेंगे।

बिलावल ने इस दौरान अपने अब्बा को आसिफ अली जरदारी को अगला राष्ट्रपति बनाने की इच्छा जरूर व्यक्त की। वह बोले, “मैं यह इसलिए नहीं कह रहा हूँ क्योंकि वह मेरे अब्बा हैं, मैं यह इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि देश इस समय भारी संकट में है और अगर कोई इस आग को बुझा सकता है तो वह आसिफ अली जरदारी हैं।”

बता दें कि पाकिस्तान में फरवरी में चुनाव हुए थे। लेकिन प्रमुख चेहरे होने के बावजूद किसी पार्टी को स्पष्ट बहुमत यानी 133 सीट नहीं मिली। चुनाव में सबसे ज्यादा (100+) सीट इमरान खान की पीटीआई समर्थित निर्दलीय उम्मीदवारों को मिलीं, लेकिन वो बहुमत तक नहीं पहुँच पाए। वहीं नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएलएन को 72 सीटें मिली और बिलावल भुट्टो की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी को 54 सीट मिली और सबसे कम यानी 17 सीट एमक्यूएम के हिस्से आई।

ऐसे में सत्ता कौन बनाएगा इसे लेकर लगातार बहस हो रही थे। लेकिन अब निर्णय आ गया है। शहबाज शरीफ दूसरी बार मुल्क के प्रधानमंत्री बनेंगे। साल 2022 के अप्रैल में इमरान खान की सरकार जाने के बाद भी उन्हीं को देश के पीएम होने की कमान मिली थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

NEET पर जिस आयुषी पटेल के दावों को प्रियंका गाँधी ने दी हवा, उसके खुद के दस्तावेज फर्जी: कहा था- NTA ने रिजल्ट नहीं...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में झूठी साबित होने के बाद आयुषी पटेल ने अपनी याचिका भी वापस लेने का अनुरोध किया। कोर्ट ने NTA को छूट दी है कि वह आयुषी पटेल के खिलाफ नियमानुसार एक्शन ले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -