Wednesday, April 17, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयफैक्ट चेक: मेघालय में गिरा बीएसएफ़ का बस: पाक ने फैलाया झूठ, कहा- हमने...

फैक्ट चेक: मेघालय में गिरा बीएसएफ़ का बस: पाक ने फैलाया झूठ, कहा- हमने एंडियन आर्मी को मार गिराया

31 अक्टूबर, 2019 को बीएसएफ का एक बस मेघालय की पूर्वी जयंतिया पहाड़ियों में सड़क हादसे का शिकार हो गया था जिसमें 1 जवान की मृत्यु हो गई थी और 20 अन्य घायल हुए थे। पाकिस्तान की सेना के प्रोपेगंडा को आगे बढ़ाने वाले ट्विटर हैंडलों.....

पाकिस्तान भारत को उकसाने वाली अलग-अलग तरह की हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है। कभी वह ख़ालिस्तानी आतंकवादी भिंडरावाले का इस्तेमाल करतारपुर कॉरिडोर के अपने वीडियो में करता है, तो कभी वह भारत को नीचा दिखाने के लिए कश्मीर पर समर्थन की भीख माँगने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से लेकर एक-एक देश के नेताओं के दरवाजे तक खटखटाने लगता है।

इसी तरह की एक ओछी हरकत को अंजाम देते हुए पाकिस्तान ने भारत में, भारत-पाकिस्तान सीमा से हज़ारों किलोमीटर दूर हुए एक हादसे को अपनी सेना की बहादुरी और भारत की शिकस्त बताते हुए प्रोपेगंडा करने की कोशिश की है।

टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार असल में 31 अक्टूबर, 2019 को बीएसएफ का एक बस मेघालय की पूर्वी जयंतिया पहाड़ियों में सड़क हादसे का शिकार हो गया था जिसमें 1 जवान की मृत्यु हो गई थी और 20 अन्य घायल हुए थे। पाकिस्तान की सेना के प्रोपेगंडा को आगे बढ़ाने वाले ट्विटर हैंडलों, जिनमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की तहरीक ए इंसाफ़ पार्टी का प्रोपेगंडाबाज अदनान मुग़ल शामिल है, ने खबर उड़ानी शुरू कर दी कि पाकिस्तानी सेना ने इस बस को एलओसी पर मार गिराया है और इसमें भारतीय सेना के सैनिक बैठे हुए थे।

इस पर एक ट्विटर यूज़र ने पाकिस्तानियों पर तंज़ कसते हुए कहा कि उनके खुद के पीएम और उनकी खुद की सेना ने पहले ही उनका इंटरनेट सीमित कर रखा है। बचे-खुचे का पाकिस्तानियों को सदुपयोग करना चाहिए, दुरुपयोग नहीं।

गौरतलब है कि पाकिस्तान की प्रोपेगंडा मशीन का मुख्य इंजन ट्विटर हैंडल इंटर सर्विसेज़ पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) है, जिसके मुखिया जनरल आसिफ गफूर हैं। जनरल ग़फ़ूर खुद भारत के खिलाफ अकसर झूठ फैलाते पकड़े जाते हैं। जुलाई में उन्होंने रिटायर्ड एयर मार्शल डेन्ज़िल कीलोर का डॉक्टर्ड (छेड़-छाड़ किया हुआ) वीडियो शेयर किया था, इसमें 62 के युद्ध में हिंदुस्तानी फ़ौज को हुई कुछ ऐसी जान की हानि के किस्सों की बात की जा रही है, जिनसे शायद बचा जा सकता था। उसे गफूर ने उनका बालाकोट के बारे में बयान बताया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्कूल में नमाज बैन के खिलाफ हाई कोर्ट ने खारिज की मुस्लिम छात्रा की याचिका, स्कूल के नियम नहीं पसंद तो छोड़ दो जाना...

हाई कोर्ट ने छात्रा की अपील की खारिज कर दिया और साफ कहा कि अगर स्कूल में पढ़ना है तो स्कूल के नियमों के हिसाब से ही चलना होगा।

‘क्षत्रिय न दें BJP को वोट’ – जो घूम-घूम कर दिला रहा शपथ, उस पर दर्ज है हाजी अली के साथ मिल कर एक...

सतीश सिंह ने अपनी शिकायत में बताया था कि उन पर गोली चलाने वालों में पूरन सिंह का साथी और सहयोगी हाजी अफसर अली भी शामिल था। आज यही पूरन सिंह 'क्षत्रियों के BJP के खिलाफ होने' का बना रहा माहौल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe