Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसमझौता एक्सप्रेस बंद: सीमा पर ट्रेन छोड़ भागा पाकिस्तानी ड्राइवर-गार्ड, भारतीय फिल्मों पर भी...

समझौता एक्सप्रेस बंद: सीमा पर ट्रेन छोड़ भागा पाकिस्तानी ड्राइवर-गार्ड, भारतीय फिल्मों पर भी प्रतिबंध

पाकिस्तान की इस घटिया हरकत से 62 मुसाफिर रास्ते में फँस गए। सीमा से ट्रेन लाने के लिए भारत ने अपना गार्ड और ड्राइवर भेजा है।

आर्टिकल 370 के निष्प्रभावी होने से बौखलाए पाकिस्तान ने गुरुवार को समझौता एक्सप्रेस का परिचालन बंद कर दिया। भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर भी रोक लगा दी है। हालाँकि भारत के कदम से वह कितना डरा-सहमा है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पाकिस्तानी ड्राइवर और गार्ड समझौता एक्सप्रेस के साथ भारतीय सीमा में दाखिल होने का हौसला नहीं जुटा पाए। सीमा पर ही ट्रेन छोड़ दोनों भाग खड़े हुए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, आज पाकिस्तान से समझौता एक्सप्रेस को वापस आना था, लेकिन पाकिस्तान ने उसे वाघा बॉर्डर पर रोक दिया। इससे कई लोग सीमा पर फॅंस गए। पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रसीद अहमद ने इस फैसले की जानकारी देते हुए कहा कि जिन लोगों ने पहले से टिकट खरीद रखा है वे अपने पैसे वापस ले सकते हैं। यह ट्रेन हफ्ते में दो दिन चलती है।

पाकिस्तान की इस घटिया हरकत से 62 मुसाफिर रास्ते में फँस गए। सीमा से ट्रेन लाने के लिए भारत ने अपना गार्ड और ड्राइवर भेजा है। अंतरराष्ट्रीय रेलवे स्टेशन के सुपरिटेंडेंट अरविंद कुमार गुप्ता ने बताया कि आज (अगस्त 8, 2019) पाकिस्तान से समझौता एक्सप्रेस को भारत आना था लेकिन इस दौरान पाकिस्तान से संदेश आया कि भारतीय रेल अपने ड्राइवर और क्रू मेंबर को भेज कर ट्रेन को बॉर्डर से ले जाए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काटेंगे-मारेंगे और दिखाएँगे भी… फिर करेंगे जिम्मेदारी की घोषणा: आखिर क्यों पाकिस्तानी कानून को दिल में बसा लिया निहंग सिखों ने?

क्या यह महज संयोग है कि पाकिस्तान की तरह 'किसान' आंदोलन की जगह पर भी हुई हत्या का कारण तथाकथित तौर पर ईशनिंदा है?

डीजल डाल कर जला दिया दलित लखबीर का शव, चेहरा तक नहीं देखने दिया परिजनों को: ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

डीजल डाल कर मोबाइल की रोशनी में दलित लखबीर सिंह के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शव से पॉलीथिन नहीं हटाया गया। परिजन चेहरा तक न देख पाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe