Sunday, June 16, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'Playboy' मैगजीन ने मिया खलीफा को निकाला, चैनल भी किया डिलीट: रेडियो होस्ट भी...

‘Playboy’ मैगजीन ने मिया खलीफा को निकाला, चैनल भी किया डिलीट: रेडियो होस्ट भी कर चुका है छुट्टी, हमास आतंकियों को बता चुकी है ‘स्वतंत्रता सेनानी’

मिया खलीफा सिर्फ 'प्लेबॉय' से ही नहीं निकाला गया है। इससे पहले कनाडाई ब्रॉडकास्टर और रेडियो होस्ट टॉड शापिरो ने भी उन्हें नौकरी से निकाल दिया था।

‘Playboy’ मैग्जीन ने सोमवार (9 अक्टूबर,2023) को लेबनानी पॉर्न स्टार मिया खलीफा को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। ‘प्लेबॉय’ क्रिएटर कम्युनिटी को एक मेल में कंपनी ने कहा कि उसने इज़रायल पर हमास के हमले के बारे में की ‘घिनौनी और निंदनीय’ टिप्पणियों पर उसके साथ सारे रिश्ते खत्म कर दिए हैं।

इस लेटर में ‘प्लेब्वॉय’ ने कहा, “हम आज आपको मिया खलीफा के साथ ‘प्लेबॉय’ के रिश्ते को खत्म करने के अपने फैसले के बारे में बताने के लिए लिख रहे हैं, जिसमें हमारे क्रिएटर प्लेटफॉर्म पर मिया के ‘प्लेबॉय’ चैनल को हटाना भी शामिल है। पिछले कुछ दिनों में, मिया ने इज़रायल पर हमास के हमलों और निर्दोष लोगों और बच्चों की हत्या का जश्न मनाते हुए घिनौनी और निंदनीय टिप्पणियाँ की हैं।”

‘प्लेब्वॉय’ ने इस बात पर जोर देते हुए लिखा, “हम स्वतंत्र अभिव्यक्ति और रचनात्मक राजनीतिक बहस को प्रोत्साहित करते हैं, लेकिन नफरती भाषण के लिए हमारी जीरो टॉलरेंस की पॉलिसी है। हम उम्मीद करते हैं कि मिया यह समझेगी कि उसके शब्दों और कामों के क्या नतीजे होंगे।”

लेटर का स्क्रीनशॉट फोटो साभार: एम्बर लिन/फेसबुक

मैग्जीन ने मिया के कॉन्ट्रेक्ट खत्म करने के लिए भेजा गया लेटर भी शेयर किया। इसमें लिखा है, “प्लेबॉय हमेशा से अभिव्यक्ति की आज़ादी का समर्थक रहा है। हमने सभी लोगों के किसी भी सरकारी दखलअंदाजी से आजाद होकर बोलने के हक के लिए अदालतों में लड़ाई लड़ी है। 70 साल से हमने अपनी मैग्जीन के पन्नों में, अपनी वेबसाइटों पर हमारी संगोष्ठियों में नेताओं के विचारों, रचनाकारों और कलाकारों के अलग-अलग नजरिए को उजागर किया है जिन्हें हमने अपने मीडिया के कई प्रारूपों पर मंच दिया है।”

उन्होंने आगे कहा, “घिनौने और अमानवीय भाषण के लिए हमारी कंपनी में और न ही हमारे प्लेटफॉर्म पर कोई जगह है। इजरायल में निर्दोष पुरुषों, महिलाओं और बच्चों पर बलात्कार, अंग-भंग, हत्या और यातना सहित हमास के हमलों का जश्न मनाने वाले आपके हालिया बयान घिनौने और निंदनीय हैं। परिणामस्वरूप, हम आपको ‘प्लेबॉय’ क्रिएटर प्लेटफ़ॉर्म से स्थायी तौर से हटा रहे हैं और आपके साथ हमारे अन्य सभी कारोबारी सौदे खत्म कर रहे हैं।”

लेटर का स्क्रीनशॉट फोटो साभार: एम्बर लिन/फेसबुक

इसमें आगे कहा गया है, “हम बिल्कुल साफ करना चाहते हैं: हम अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के आपके अधिकार का सम्मान करते हैं। हम यह भी उम्मीद करते हैं कि आप यह समझें कि आप अपनी वाणी का इस्तेमाल कैसे करते हैं इसके क्या नतीजे होते हैं। आज, हम आपके नफरत फैलाने वाले व्यवहार के लिए आपके साथ सभी रिश्ते तोड़ रहे हैं। हम अपने क्रिएटर समुदाय को भी अपने फैसले के बारे में बताएँगे।” ऑपइंडिया ने भी पाया कि प्लेबॉय से मिया खलीफा का चैनल हटा दिया गया है।

‘प्लेब्वॉय’ अकेला नहीं है मिया के खिलाफ एक्शन लेने वाला

मिया खलीफा को सिर्फ ‘प्लेबॉय’ से ही नहीं निकाला गया है। इससे पहले कनाडाई ब्रॉडकास्टर और रेडियो होस्ट टॉड शापिरो ने भी उसे नौकरी से निकाल दिया था। उन्होंने ‘X’ हैंडल से ट्वीट किया, “यह बहुत ही भयावह ट्वीट है मिया खलीफ़ा। खुद को तुरंत प्रभाव से निकाल दिया गया समझें। बिल्कुल घिनौना, नफर से परे। कृपया खुद को बेहतर करें और एक बेहतर इंसान बनें। यह तथ्य कि आप मौत, बलात्कार, मारपीट और बंधक बनाने को नज़रअंदाज कर रहे हैं, वास्तव में घिनौना है। कोई भी लफ्ज आपकी अज्ञानता को बयाँ नहीं कर सकता।”

उन्होंने कहा, “हम इंसानों को एक साथ आने की जरूरत है, खासकर त्रासदी के हालात में। मैं आपके लिए एक बेहतर इंसान बनने की प्रार्थना करता हूँ। हालाँकि, यह साफ लगता है कि आपके लिए बहुत देर हो चुकी है।” शापिरो ने अपनी पोस्ट में मिया के ट्वीट का जिक्र किया है। इसमें मिया ने हमास के आतंकवादियों का जिक्र ‘फिलिस्तीन में स्वतंत्रता सेनानियों’ के तौर पर किया।

दिलचस्प बात यह है कि नौकरी से निकाले जाने के बाद बगैर किसी का नाम लिए मिया ने शाप्रियो के जवाब में ट्वीट किया, “मैं कहूँगी कि फ़िलिस्तीन का समर्थन कर के मैंने कमाई के कई मौके खो दिए हैं। हालाँकि, मैं खुद पर ज़्यादा गुस्सा हूँ क्योंकि मैंने कभी इस पर गौर किया ही नहीं कि मैं यहूदियों के साथ काम कर रही हूँ।”

फोटो साभार एक्स हैंडल मिया

मिया खलीफा ने शापिरो की कंपनी को ‘शि*ट’ और घटिया कहा था और साथ ही ‘फ्री फिलिस्तीन’ का नारा भी दिया था।

बाद में मिया खलीफा ने इस ट्वीट के लिए सफाई देते हुए कहा, “मैं बस यह पक्का करना चाहती हूँ कि मेरे लोगों के पास खुली हवा वाली जेल की दीवारों को तोड़ने के 4k फुटेज हों, उन्हें अपने घरों से बाहर निकलने के लिए मजबूर किया गया था। कृपया दोबारा मेरा नाम लेने से पहले अपनी ओछी सोच वाली कंपनी के बारे में फ़िक्र करें। मैं जुल्म से लड़ने वाले सभी लोगों के साथ खड़ी हूँ, अभी भी और हमेशा, अपने छोटे से प्रोजेक्ट में मेरे निवेश के लिए मेरे से भीख माँगने से पहले अपना रिसर्च करें, मैं लेबनान से हूँ, तुम चाहते हो कि मैं उपनिवेशवाद के पक्ष में रहूँ, तुम मूर्ख हो।”

आगे उसने दावा किया कि 4k फुटेज के लिए कहना किसी भी तरह से हिंसा को उकसाने और बढ़ाने जैसा नहीं है।

मिया खलीफा एक लेबनानी-अमेरिकी पॉर्न स्टार और सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर है। वो हमास का समर्थन करने वाले देश लेबनान में पैदा हुई। वहीं लेबनान के शिया इस्लामी आतंकवादी समूह हिजबुल्ला ने इज़रायल के खिलाफ युद्ध में हमास के साथ शामिल होने की इच्छा जाहिर की है।

हिजबुल्ला को जवाब देते हुए इजरायल ने इस आतंकी संगठन को चेतावनी दी कि वे IDF के साथ खिलवाड़ न करें अन्यथा उन्हें गंभीर नतीजे भुगतने होंगे। उधर अमेरिका ने लेबनानी आतंकी संगठन को इजरायल के खिलाफ नया मोर्चा न खोलने की चेतावनी भी दी है।

हमास के इजरायली क्षेत्र पर आतंकवादी हमला शुरू करने के बाद से मिया खलीफा खासी सक्रिय हैं। 7 अक्टूबर को ही उसने एक्स पर पोस्ट करते हुए दावा किया कि जो कोई भी फिलिस्तीन के पक्ष में नहीं है, वह इतिहास के गलत पक्ष में है। लोगों ने इसका उन्हें माकूल जवाब देते हुए कहा कि मिया एक पॉर्न स्टार हैं और उन्हें कम से कम ‘नैतिकता’ पर ज्ञान देने की जरूरत नहीं है। ये भी ध्यान देने की बात है कि पॉर्न फिल्मों में काम करने की वजह से खलीफा अपने देश लेबनान वापस नहीं जा सकती।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गलत वीडियो डालने वाले अब नहीं बचेंगे: संसद के अगले सत्र में ‘डिजिटल इंडिया बिल’ ला सकती है मोदी सरकार, डीपफेक पर लगाम की...

नरेंद्र मोदी सरकार आगामी संसद सत्र में डीपफेक वीडियो और यूट्यूब कंटेंट को लेकर डिजिटल इंडिया बिल के नाम से पेश किया जाएगा।

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -