Friday, May 31, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयसमुद्र में पेशाब किया तो देने होंगे ₹61000, साबुन-शैंपू पर भी बैन: स्पेन में...

समुद्र में पेशाब किया तो देने होंगे ₹61000, साबुन-शैंपू पर भी बैन: स्पेन में Beach को बचाने के लिए प्रशासन ने लिए फैसले

बताया जा रहा है कि स्पेन के समुद्र को सुरक्षित रखने के लिए कुछ अन्य नियम भी बनाए गए हैं। इनमें साबुन-शैंपू के इस्तेमाल पर बैन है और नंगे आने पर भी। अगर ऐसा करता कोई पाया गया तो उसे भी 620 पाउंड यानी 59, 534 रुपए देने पड़ सकते हैं।

स्पेन के वीगो नामक शहर में स्पेनिश रिजॉर्ट्स ने समुद्र में पेशाब करने वालों के ऊपर 645 पाउंड यानी ₹61 हजार रुपए का फाइन लगाने का निर्णय लिया है। रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तरी गैलिसिया क्षेत्र में बसे वीगो में अधिकारियों ने समुद्र को बचाने के लिहाज से ऐसा निर्णय लिया है।

अधिकारियों ने कहा है कि वह बीच के नजदीक पब्लिक टॉयलेट बनाएँगे। मगर, किसी कीमत पर बीच में पेशाब करने वालों को रियायत नहीं दी जाएगी। हालाँकि अभी ये बात साफ नहीं है कि इस बात का पता कैसे लगाया जाएगा कि किसने समुद्र में पेशाब किया है या किसने नहीं।

बताया जा रहा है कि स्पेन के समुद्र को सुरक्षित रखने के लिए कुछ अन्य नियम भी बनाए गए हैं। जैसे यहाँ आने वालों के लिए अपने साबुन और शैंपू लाना सख्त मना है और बर्तन आदि धोने का सवाल तो इस बीच पर उठता ही नहीं। अगर ऐसा करता कोई पाया गया तो उसे भी 620 पाउंड यानी 59, 534 रुपए देने होंगे।

इसके अलावा अच्छे पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए इस बीच पर धूम्रपान को बैन किया गया है। अधिकारी उम्मीद कर रहे हैं कि इस तरह के प्रतिबंध लगाकर वह तटीय क्षेत्र को प्रदूषण रहित रख सकेंगे। इसी तरह जो लोग बीच पर छुट्ठी मनाने आएँगे, अगर वह नंगे होकर बीच पर जाते हैं तो इसके लिए भी उन्हें फाइन देना होगा।

बता दें कि केवल बीच के नजदीक ही प्रतिबंध नहीं लगाए गए हैं। कई सी-साइड रेस्टोरेंट्स ने भी अपने बैन लगाए हैं। इनमें कपड़ों पर लगाया प्रतिबंध भी शामिल है। जैसे यहाँ फुटबॉल वाली जर्सी पहनकर या बिन शर्ट के आने की अनुमति नहीं है। इसके अलावा तैरने के लिए कपड़े, शॉर्ट्स आदि को भी रोडसाइड विक्रेताओं से खरीदना बैन है। सामने आई जानकारी के अनुसार बार्सेलोना और मल्लोर्का में अब तक सबसे तक जुर्माना लगा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -