Tuesday, October 19, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयश्री लंका: सेना की वर्दी का ग़लत इस्तेमाल कर फिर हमले कर सकते हैं...

श्री लंका: सेना की वर्दी का ग़लत इस्तेमाल कर फिर हमले कर सकते हैं आतंकी, अलर्ट जारी

श्री लंकाई जनप्रतिनिधियों को लिखे एक पत्र में कहा गया है कि ताज़ा सूचनाओं व जाँच के हवाले से पता लगा है कि आतंकी सेना की वर्दी का ग़लत इस्तेमाल कर सकते हैं।

श्री लंका में अधिकारियों ने नई चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि ईस्टर के दिन कोलंबो में हुए धमाकों के पीछे जिन इस्लामिक आतंकियों का हाथ है, वो नए हमलों की भी योजना बना रहे हैं। श्री लंकाई अधिकारियों के अनुसार, ये आतंकी सेना द्वारा प्रयोग किए जाने वाली ड्रेस और गाड़ियों का प्रयोग कर हमलों को अंजाम देने की फ़िराक़ में हैं। श्री लंका पुलिस ने कहा है कि आतंकी और भी हमले कर सकते हैं, ऐसी संभावना है। ऐसा उन्होंने श्री लंकाई जनप्रतिनिधियों को लिखे एक पत्र में कहा है। इस पत्र में ताज़ा सूचनाओं व जाँच के हवाले से यह भी कहा गया है कि आतंकी सेना की वर्दी का ग़लत इस्तेमाल कर सकते हैं। ये लोग बीते रविवार (अप्रैल 28, 2019) को भी हमले करने की फ़िराक़ में थे लेकिन कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आतंकी कामयाब नहीं हो पाए।

श्री लंका में अबतक कई आरोपितों व आतंकियों को गिरफ़्तार किया जा चुका है और इस्लामिक आतंकवाद से निपटने के लिए सरकार ने कई नए नियम लागू किए हैं। गिरफ़्तार आरोपितों से पूछताछ जारी है। 21 अप्रैल को हुए हमले में 250 से भी अधिक लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। हालाँकि खूँखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है लेकिन स्थानीय आतंकी संगठन नेशनल तौहीद जमात और जम्मियातुल मिलातुल इब्राहिम पर भी पुलिस की शक की सूई जा रही है। भारतीय एजेंसियों ने भी जब आईएस मॉड्यूल का पर्दाफाश किया था, तब श्री लंका को ऐसे किसी हमले को लेकर आगाह किया गया था।

रविवार की रात श्री लंका सरकार ने ईस्टर ब्लास्ट्स के बाद पहली बार कर्फ्यू में ढील दी। लेकिन, राजधानी कोलंबो में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद रखी गई और लोगों व वाहनों की तलाशी ली गई। पत्र में कहा गया है कि श्री लंका के पूर्वी किनारों पर बेस बातिकालोवा में हमले किए जा सकते हैं। इसी जगह पर चर्च में हुए विस्फोट के दौरान ईस्टर के दिन 27 लोग मारे गए थे। आतंकियों का अन्य निशाना क्या हो सकता है, इस बारे में अधिक कुछ नहीं बताया गया है। श्री लंका के मंत्रियों ने भी कहा है कि सुरक्षा एजेंसियों द्वारा नए सिरे से चेतावनी जारी की गई है।

श्री लंका सरकार ने चेहरा ढँकने वाले बुर्का का प्रयोग भी बैन कर दिया है। एक इमरजेंसी क़ानून के माध्यम से इस नियम को लागू करते हुए सरकार ने कहा कि किसी भी प्रकार से ऐसी चीजों का सार्वजनिक तौर पर उपयोग प्रतिबंधित रहेगा, जिससे व्यक्ति की पहचान छुपती हो। श्री लंका के एक इस्लामी संगठन ने बुर्के को प्रयोग न करने की सलाह दी है। अबतक ईस्टर धमाकों के सम्बन्ध में 150 आरोपितों को गिरफ़्तार किया जा चुका है। इसके अलावा 150 अन्य पुलिस के रडार पर हैं, जिसकी तलाश चल रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

प्रतिकार का आरंभ: 8 महीने से सूरत में लाउडस्पीकर पर सुबह-शाम बजती है हनुमान चालीसा, सत्संग भी हर शनिवार

स्थानीयों का कहना कि अन्य मजहब के लोग प्रार्थना समय में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करते हैं और किसी भी उठने वाली आपत्ति का मजाक बनाकर उसे नीचा दिखाते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe