Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयबाल्टीमोर हादसे के 2 महीने बाद भी फँसे हैं 22 भारतीय क्रू मेंबर, फोन...

बाल्टीमोर हादसे के 2 महीने बाद भी फँसे हैं 22 भारतीय क्रू मेंबर, फोन भी छीना गया: वीजा से जुड़ी समस्याओं की वजह से नहीं लौट पा रहे स्वदेश

सिनर्जी मरीन ग्रुप के प्रवक्ता डेरेल विल्सन ने कहा कि एफबीआई ने इस हादसे की जाँच के दौरान क्रू मेंबर्स के फोन जब्त कर लिए थे।

अमेरिका में 2 महीने पहले बाल्टीमोर में एक जहाज पुल से टकराकर वहीं फँस गया था। इस हादसे के 2 माह बीत जाने के बाद भी मर्चेट शिप ‘डॉली’ अब भी वहीं फँसा हुआ है। उस जहाज के साथ ही उसका चालक दल भी उसी पर फँसा हुआ है। उस चालक दल के 22 सदस्य अब भी जहाज पर फँसे हुए हैं। यहाँ तक कि उस क्रू के सभी मेंबर्स के पास फोन तक नहीं है, वो भी उनसे ले लिए गए हैं। बताया जा रहा है कि वीजा से जुड़ी दिक्कतों के चलते सभी लोग वहाँ पर फँसे हुए हैं।

बता दें कि 26 मार्च 2024 को डॉली नाम का जहाज फ्रांसिस स्कॉट ब्रिज से टकरा गया था। इस टक्कर से पुल टूट गया था और पटाप्स्को नदी में गिर गया। इस जहाज पर कुल 22 लोग सवार थे, जिसमें एक व्यक्ति श्रीलंका से था और बाकी के लोग भारत से। इस हादसे के बाद जहाज की बिजली गुम हो गई और जहाज आगे बढ़ने में नाकाम रहा। लेकिन अब जानकारी सामने आ रही है कि पूरा का पूरा क्रू मेंबर उसी जहाज पर फँसा हुआ है। न तो वो बाहर आ पा रहा है और न ही उस क्रू टीम के पास कोई मोबाइल फोन है।

रिपोर्टों में कहा गया है कि चालक दल वीजा प्रतिबंधों, अपेक्षित तट पास की कमी और राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा बोर्ड (एनटीएसबी) और एफबीआई की जाँच की वजह से उन्हें जाने नहीं दिया गया है।

द इंडिपेंडेंट से बात करते हुए सिनर्जी मरीन ग्रुप के प्रवक्ता डेरेल विल्सन ने कहा कि एफबीआई ने इस हादसे की जाँच के दौरान क्रू मेंबर्स के फोन जब्त कर लिए थे। हालाँकि उनके फोन क्यों जब्त किए गए, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है और न ही ये बात पता चल पाई है कि उनके फोन कब लौटाए जाएँगे। उन्होंने कहा कि ये पता नहीं चल पा रहा है कि अभी तक क्रू मेंबर्स को जहाज पर क्यों रोक कर रखा गया है।

बाल्टीमोर इंटरनेशनल सीफरर्स सेंटर के कार्यकारी निदेशक जोशुआ मेसिक ने कहा कि क्रू मेंबर ऑनलाइन बैंकिंग तक नहीं कर सकते। वो अपने बिलों का भुगतान भी नहीं कर सकते न ही को किसी से संपर्क कर सकते हैं। वो लोग पूरी दुनिया से अलग-थलग हैं। ये बेहद दुखद स्थिति है। 11 मई को एक संयुक्त बयान में सिंगापुर मैरीटाइम ऑफिसर्स यूनियन और सिंगापुर ऑर्गनाइजेशन ऑफ सीमेन ने भी फँसे हुए क्रू मेंबर्स को लेकर चिंता जताई थी।

गौतरलब है कि 26 मार्च 2024 को बाल्टीमोर के फ्रांसिस स्कॉट ब्रिज से डॉली नाम का मर्चेंट शिप टकरा गया था। इस धमाके की वजह से जहाज में भी थोड़ी आग लग गई थी और पुल भी छतिग्रस्त होकर गिर गया था। इस जहाज पर 22 लोगों का क्रू मेंबर था, लेकिन इसे स्थानीय कैप्टन चला रहे थे। ये शिप बाल्टीमोर बंदरगाह से दूर जा रहा था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -