Thursday, April 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयवो मौके, जब लाखों मौतों के बावजूद फेल रहा संयुक्त राष्ट्र: रूस-यूक्रेन युद्ध और...

वो मौके, जब लाखों मौतों के बावजूद फेल रहा संयुक्त राष्ट्र: रूस-यूक्रेन युद्ध और UN की ‘कड़ी निंदा’ का इतिहास

संयुक्त राष्ट्र का जन्म द्वितीय विश्व युद्ध के अंत के साथ हुआ। 1945 में अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा और नागाशाकी पर परमाणु बम से हमला कर दिया। इसके परिणाम स्वरूप लाखों लोग अकाल ही काल के ग्रास बन गए।

रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध (Russia-Ukraine War) शुरू हुए एक महीने से अधिक समय हो गया है। लाखों लोग इस युद्ध की विभीषिका से बचने के लिए अपना देश छोड़कर जा चुके हैं। युद्ध थमने के आसार भी नहीं दिख रहे हैं। दोनों देशों के बीच कई दौर की वार्ता भी हुई, लेकिन उसका कोई पॉजिटिव असर नहीं निकला है। इस बीच सारी दुनिया की निगाहें उस वैश्विक संस्था पर टिकी हुई हैं, जिसकी स्थापना ही विश्व शांति के लिए हुई थी। हालाँकि, संयुक्त राष्ट्र (United Nation) वैश्विक शांति स्थापित करने में सफल नहीं हो सका है।

संयुक्त राष्ट्र का जन्म द्वितीय विश्व युद्ध के अंत के साथ हुआ। घटनाक्रम कुछ यूँ है कि 1945 में अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा और नागाशाकी पर परमाणु बम से हमला कर दिया। इसके परिणाम स्वरूप लाखों लोग अकाल ही काल के ग्रास बन गए। इसी के साथ जापान ने आत्मसमर्पण कर दिया। विश्व युद्ध की विभीषिका को देखते हुए एक ऐसे अंतरराष्ट्रीय संगठन की जरूरत महसूस की गई, जो कि दुनिया भर में शांति की स्थापना करने का जिम्मा ले सके। इसी उद्देश्य के साथ 24 अक्टूबर 1945 को अमेरिका, रूस समेत 51 देश सेन फ्रांसिस्को में इकट्ठे हुए। इसी के बाद यूएन का गठन किया गया। इसमें ये देश अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा बनाए रखने, राष्ट्रों के बीच मैत्रीपूर्ण संबंध विकसित करने और सामाजिक प्रगति, बेहतर जीवन स्तर और मानवाधिकारों को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध थे।

यूएन की सुरक्षा परिषद के कुल 20 सदस्य हैं। इनमें से पाँच अमेरिका, रूस, फ्रांस, ब्रिटेन औऱ चीन परमानेंट मेंबर हैं। आइए अब ये जानते हैं कि क्या संयुक्त राष्ट्र अपनी स्थापना के उद्देश्यों को पूरा कर पाया है या नहीं। ऐसे कुछ युद्ध की बात करते हैं, जब यूएन विफल रहा।

वियतनाम-अमेरिका युद्ध (Vietnam-America War)

1954 में वियतनाम औऱ अमेरिका के बीच भीषण युद्ध शुरू हुआ, जो करीब 10 सालों तक चला। इस युद्ध में 20 लाख लोगों की मौत हो गई थी। 30 लाख से अधिक लोग बुरी तरह से घायल हुए। इस युद्ध में अमेरिका को अपने 55 हजार सैनिक खोने पड़े थे। ये युद्ध यूएन की स्थापना के 10 साल बाद ही हुआ, जिसे रोकने में वो पूरी तरह से विफल रहा।

ईराक-ईरान युद्ध में भी फेल रहा यूएन

1980 के दशक में ईराक और ईरान के बीच युद्ध शुरू हुआ, जो 8 सालों तक चलता रहा। इसमें अनुमान लगाया जाता है कि करीब 10 लाख लोगों की मौत हुई थी। इस बार भी संयुक्त राष्ट्र शांति की स्थापना कर पाने में विफल रहा।

रवांडा नरसंहार

अफ्रीकी देश रवांडा में 1994 में हुतु-तुत्सी वार हुआ। इस युद्ध में भीषण नरसंहार हुआ था। इसमें खुलकर फ्रांस ने वहाँ के बहुसंख्यक समुदाय हुतु का साथ दिया और तुत्सी लोगों का जमकर नरसंहार किया गया। 100 दिनों में ही 8 लाख लोगों की निर्मम हत्या कर दी गई थी। लोग यूएन की तरफ आशा भरी नजरों से देख रहे थे, लेकिन संयुक्त राष्ट्र फेल हुआ। इस मामले में पिछले साल मई 2021 में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने रवांडा से इस नरसंहार के लिए माफी भी माँगी थी।

इस तरह से संयुक्त राष्ट्र की स्थापना के बाद से कई युद्ध हो चुके हैं, लेकिन ये संस्था अंतरराष्ट्रीय संस्था वैश्विक शांति और सामूहिक विकास के अपने उद्देश्य को पूरा करने में विफल रही है। रूस-यूक्रेन की बीच बीते एक महीने से अधिक समय से जारी युद्ध में संयुक्त राष्ट्र की भूमिका केवल ‘कड़ी निंदा’ तक सीमित रह गई है। युद्ध के शुरू होने के बाद से संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक, अब तक 3.7 मिलियन यूक्रेनियन लोग पलायन कर चुके हैं। लेकिन अंतरराष्ट्रीय समुदाय इस युद्ध को रोकने के लिए कोई भी सकारात्मक पहल नहीं कर सका है। इससे ये स्पष्ट है कि संयुक्त राष्ट्र ‘विश्व शांत और स्थायित्व’ के अपने मूल उद्देह्यों को पूरा करने में विफल रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Kuldeep Singh
Kuldeep Singh
हिन्दी पत्रकारिता के क्षेत्र में करीब आधे दशक से सक्रिय हूँ। नवभारत, लोकमत और ग्रामसभा मेल जैसे समाचार पत्रों में काम करने के अनुभव के साथ ही न्यूज मोबाइल ऐप वे2न्यूज व मोबाइल न्यूज 24 और अब ऑपइंडिया नया ठिकाना है।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माली और नाई के बेटे जीत रहे पदक, दिहाड़ी मजदूर की बेटी कर रही ओलम्पिक की तैयारी: गोल्ड मेडल जीतने वाले UP के बच्चों...

10 साल से छोटी एक गोल्ड-मेडलिस्ट बच्ची के पिता परचून की दुकान चलाते हैं। वहीं एक अन्य जिम्नास्ट बच्ची के पिता प्राइवेट कम्पनी में काम करते हैं।

कॉन्ग्रेसी दानिश अली ने बुलाए AAP , सपा, कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ता… सबकी आपसे में हो गई फैटम-फैट: लोग बोले- ये चलाएँगे सरकार!

इंडी गठबंधन द्वारा उतारे गए प्रत्याशी दानिश अली की जनसभा में कॉन्ग्रेस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता आपस में ही भिड़ गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe