वामपंथी प्रदर्शनकारियों ने मचाया उत्पात, ममता बनर्जी की पुलिस को मारे पत्थर

प्रदर्शन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) और डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (DYFI) की ओर से आयोजित किया गया था। धारा 144 लागू होने के बावजूद प्रदर्शनकारियों ने आगे बढ़ने की कोशिश की और जवानों पर हमले किए।

राजनीतिक हिंसा के लिए बदनाम पश्चिम बंगाल में अब वामपंथी संगठन का उत्पात देखने को मिला है।रोजगार एवं अन्य मुद्दे पर राज्य की ममता बनर्जी सरकार को घेरने के लिए वामपंथी संगठन की ओर से प्रदर्शन किया गया। हावड़ा से सचिवालय तक के इस प्रदर्शन में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गई। वामपंथी प्रदर्शनकारियों ने जमकर उत्पात मचाते हुए पुलिस पर पत्थरबाजी की।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को आँसू गैस के गोले और वॉटर कैनन का इस्तेमाल करना पड़ा। कई लोग जख्मी हो गए। पूरा इलाका घंटो तक हिंसक माहौल की चपेट में रहा। पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है।

प्रदर्शन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) और डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (DYFI) की ओर से आयोजित किया गया था। इसमें लेफ्ट विंग के यूथ और स्टूडेंट संगठनों ने भाग लिया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इनका इरादा राज्य के सचिवालय तक मार्च करना था। लेकिन इलाके में धारा 144 लगने से इन्हें प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं दी गई। जिसके बाद इन्होंने जबरन वहाँ से रास्ता निकालकर जाने का प्रयास किया। कुछ ने सुरक्षाबल पर ईंट और पत्थर से हमले भी किए। इसके कारण कुछ जवान गंभीर रूप से घायल हो गए।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शरजील इमाम
“अब वक्त आ गया है कि हम गैर मुस्लिमों से बोलें कि अगर हमारे हमदर्द हो तो हमारी शर्तों पर आकर खड़े हो। अगर वो हमारी शर्तों पर खड़े नहीं होते तो वो हमारे हमदर्द नहीं हैं। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है। असम और इंडिया कटकर अलग हो जाए, तभी ये हमारी बात सुनेंगे।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,052फैंसलाइक करें
36,145फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: