Wednesday, February 21, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाबरखा दत्त के मीडिया वेंचर मोजो ने शेयर किया फर्जी फ़ोटो: 2018 शोपियां की...

बरखा दत्त के मीडिया वेंचर मोजो ने शेयर किया फर्जी फ़ोटो: 2018 शोपियां की फोटो दिखाकर किया कठुआ में हमले का दावा

बरखा दत्त ने कहा, "मुझे बताया गया है कि फ़ोटो को हटा दिया गया है और टीम को यह जाँचने के लिए कहा गया है कि उन्होंने बिना वेरिफिकेशन के फ़ोटो कैसे साझा की।” अहमर खान ने कहा कि तस्वीर 1 अप्रैल, 2018 को खींची की गई थी। मोजो स्टोरी में दावा किया गया है कि तस्वीरें हाल ही की हैं।

जर्नलिस्ट बरखा दत्त के मीडिया वेंचर मोजो द्वारा कश्मीर की वर्तमान स्थिति को दर्शाने के लिए दो साल पहले क्लिक की गई तस्वीरों का इस्तेमाल किया है। असल में मोजो में दिखाई गई तस्वीर शोपियां की है जिसका दावा कठुआ जिले का होने से किया गया है। जिस पर फ़ोटोग्राफ़र अहमर ख़ान ने ट्विटर पर बरखा दत्त और उनके मीडिया वेंचर से जवाब माँगा है।

बता दें फ़ोटोग्राफ़र द्वारा माँगे गए जवाब पर बरखा दत्त ने प्रतिक्रिया देते हुए मोजो स्टोरी पर डाली गई फर्जी फ़ोटो की गलती को स्वीकार कर लिया है। बरखा दत्त ने कहा, “मुझे बताया गया है कि फ़ोटो को हटा दिया गया है और टीम को यह जाँचने के लिए कहा गया है कि उन्होंने बिना वेरिफिकेशन के फ़ोटो कैसे साझा की।” अहमर खान ने कहा कि तस्वीर 1 अप्रैल, 2018 को खींची की गई थी। मोजो स्टोरी में दावा किया गया है कि तस्वीरें हाल ही की हैं।

मोजो स्टोरी ने तस्वीर की कैप्शन में लिखा, “कठुआ जिले में पाकिस्तान द्वारा भारी गोलाबारी से घरों को नुकसान पहुँचा है। वहाँ रहने वाले स्थानीय लोगों का कहना है, “हम हर दिन यह झेलते हैं, गोलीबारी सुबह 10 बजे शुरू होती है और शाम 5 बजे तक जारी रहती है।” हालाँकि, तस्वीर में क्षतिग्रस्त घर शोपियां में इस्लामिक आतंकवादियों और भारतीय सेना के बीच हुए मुठभेड़ के बाद का परिणाम था।

गौरतलब है कि धीरे-धीरे बरखा दत्त अपने अस्तित्व को खोती हुई नजर आ रही हैं। हाल ही में, वे प्रधानमंत्री मोदी की दाढ़ी के कथित सांप्रदायिक स्वरूप को लेकर कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर के साथ गंभीर चर्चा करते हुई नजर आई थी। इसके अलावा, उन्होंने जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के कुछ इस्लामिक कट्टरपंथी ‘छात्रों’ को ‘शेरो’ के रूप में नामांकित भी किया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाचती ऐश्वर्या राय, ₹25 लाख में आई तृषा कृष्णन… उत्तर से दक्षिण तक राजनीति का वही कीचड़: हिरोइन भी किसी की माँ, किसी की...

राहुल गाँधी ने अपने भाषण को दमदार दिखाने के लिए ऐश्वर्या रॉय जैसी नामी अभिनेत्री का नाम उछाला। लेकिन, ऐसा करते समय वो भूल गए कि ऐश्वर्या का अपमान भी नारी का अपमान है।

‘गोली लगने से किसान की मौत’: हरियाणा पुलिस ने आंदोलनकारी नेताओं के दावे को बताया अफवाह, अब तक 3 पुलिसकर्मियों की हो चुकी है...

"अभी तक की जानकारी के अनुसार, बुधवार (21 फरवरी, 2024) को 'किसान आंदोलन' में किसी भी किसान की मृत्यु नहीं हुई है। यह मात्र एक अफवाह है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe