Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाबरखा दत्त के मीडिया वेंचर मोजो ने शेयर किया फर्जी फ़ोटो: 2018 शोपियां की...

बरखा दत्त के मीडिया वेंचर मोजो ने शेयर किया फर्जी फ़ोटो: 2018 शोपियां की फोटो दिखाकर किया कठुआ में हमले का दावा

बरखा दत्त ने कहा, "मुझे बताया गया है कि फ़ोटो को हटा दिया गया है और टीम को यह जाँचने के लिए कहा गया है कि उन्होंने बिना वेरिफिकेशन के फ़ोटो कैसे साझा की।” अहमर खान ने कहा कि तस्वीर 1 अप्रैल, 2018 को खींची की गई थी। मोजो स्टोरी में दावा किया गया है कि तस्वीरें हाल ही की हैं।

जर्नलिस्ट बरखा दत्त के मीडिया वेंचर मोजो द्वारा कश्मीर की वर्तमान स्थिति को दर्शाने के लिए दो साल पहले क्लिक की गई तस्वीरों का इस्तेमाल किया है। असल में मोजो में दिखाई गई तस्वीर शोपियां की है जिसका दावा कठुआ जिले का होने से किया गया है। जिस पर फ़ोटोग्राफ़र अहमर ख़ान ने ट्विटर पर बरखा दत्त और उनके मीडिया वेंचर से जवाब माँगा है।

बता दें फ़ोटोग्राफ़र द्वारा माँगे गए जवाब पर बरखा दत्त ने प्रतिक्रिया देते हुए मोजो स्टोरी पर डाली गई फर्जी फ़ोटो की गलती को स्वीकार कर लिया है। बरखा दत्त ने कहा, “मुझे बताया गया है कि फ़ोटो को हटा दिया गया है और टीम को यह जाँचने के लिए कहा गया है कि उन्होंने बिना वेरिफिकेशन के फ़ोटो कैसे साझा की।” अहमर खान ने कहा कि तस्वीर 1 अप्रैल, 2018 को खींची की गई थी। मोजो स्टोरी में दावा किया गया है कि तस्वीरें हाल ही की हैं।

मोजो स्टोरी ने तस्वीर की कैप्शन में लिखा, “कठुआ जिले में पाकिस्तान द्वारा भारी गोलाबारी से घरों को नुकसान पहुँचा है। वहाँ रहने वाले स्थानीय लोगों का कहना है, “हम हर दिन यह झेलते हैं, गोलीबारी सुबह 10 बजे शुरू होती है और शाम 5 बजे तक जारी रहती है।” हालाँकि, तस्वीर में क्षतिग्रस्त घर शोपियां में इस्लामिक आतंकवादियों और भारतीय सेना के बीच हुए मुठभेड़ के बाद का परिणाम था।

गौरतलब है कि धीरे-धीरे बरखा दत्त अपने अस्तित्व को खोती हुई नजर आ रही हैं। हाल ही में, वे प्रधानमंत्री मोदी की दाढ़ी के कथित सांप्रदायिक स्वरूप को लेकर कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर के साथ गंभीर चर्चा करते हुई नजर आई थी। इसके अलावा, उन्होंने जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के कुछ इस्लामिक कट्टरपंथी ‘छात्रों’ को ‘शेरो’ के रूप में नामांकित भी किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -