Tuesday, September 21, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाNDTV ने भूटान के भीतर चीन द्वारा एक गाँव की स्थापना को लेकर चलाई...

NDTV ने भूटान के भीतर चीन द्वारा एक गाँव की स्थापना को लेकर चलाई फर्जी खबर: वहाँ के राजदूत ने रिपोर्ट किया खारिज

NDTV ने कल यह दावा किया था कि चीन ने भूटान के क्षेत्र के भीतर एक गाँव की स्थापना की है। राजदूत ने भूटान में किसी भी चीनी गाँव की उपस्थिति को नकार दिया है।

NDTV ने भूटान में चीन के अतिक्रमण को लेकर एक रिपोर्ट की थी, जिसे शुक्रवार (20 नवंबर, 2020) को भारत में भूटान के राजदूत ने स्पष्ट रूप से खारिज करते हुए उसे फर्जी खबर करार दिया है। दरअसल, NDTV ने कल यह दावा किया था कि चीन ने भूटान के क्षेत्र के भीतर एक गाँव की स्थापना की है। राजदूत ने भूटान में किसी भी चीनी गाँव की उपस्थिति को नकार दिया है।

एनडीटीवी ने गुरुवार को रिपोर्ट किया था कि चीन ने भूटान के इलाके में दो किमी अंदर एक गाँव की स्थापना की है, जो डोकलाम साइट के बहुत करीब है, जहाँ 2017 में चीनी और भारतीय सेना के बीच तनावपूर्ण झड़प हुआ था।

एनडीटीवी के एंकर विष्णु सोम ने गुरुवार को चीनी राज्य मीडिया के एक वरिष्ठ पत्रकार द्वारा पोस्ट की गई तस्वीरों को साझा करते हुए ट्विटर पर दावा किया कि यह ‘चीन द्वारा भूटान क्षेत्र की भूमि को हथियाने के स्पष्ट सबूत’ थे।

इसके अलावा सोम ने कई नक्शों की एक सीरीज भी साझा की और दावा किया कि चीन ने भूटानी क्षेत्रों में गहरी घुसपैठ की है, जो रणनीतिक रूप से पूर्वी क्षेत्र में भारतीय सीमाओं के करीब है।

सोम ने कहा कि चीनी गाँव पंगड़ा भूटानी क्षेत्र के भीतर दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और यह इस बात का एक इंडिकेटर है कि भारत ने हमेशा चीन द्वारा ‘सलामी स्लाइसिंग’ की आशंका जताई है। बता दें ‘सलामी स्लाइसिंग’ बीजिंग के भारतीय और भूटानी क्षेत्र में कटौती के प्रयासों को संदर्भित करता है।

गौरतलब है कि एनडीटीवी ही नहीं बल्कि इंडिया टीवी, मनीकंट्रोल, डीएनए, लॉजिकल इंडियन और विभिन्न अन्य मीडिया नेटवर्क ने भी भूटानी क्षेत्र में चीन की घुसपैठ के बारे में रिपोर्ट की थी।

हालाँकि, भूटानी क्षेत्रों पर चीन के कब्जे वाली मीडिया रिपोर्ट्स को खारिज करते हुए भारत में भूटान के राजदूत ने स्पष्ट किया कि भूटान के अंदर चीन द्वारा कोई गाँव स्थापित नहीं किया गया है।

उल्लेखनीय है कि, चीनी पत्रकार शेन शिवेई ने सबसे पहले भूटानी भूमि के अंदर कथित चीनी गाँव की तस्वीरें डाली थीं और गाँव को लेकर उल्लेख किया था। लेकिन विवाद खड़ा खोने के बाद उन्होंने चुपचाप अपने फर्जी दावे वाले पोस्ट को हटा दिया। हालाँकि, चीनी पत्रकार द्वारा किए गए दावे पर NDTV ने भूटान सरकार के स्पष्टीकरण के बावजूद गलत सूचना वाली रिपोर्टिंग को जारी रखा।

CGTN न्यूज़ प्रोड्यूसर शेन श्वेई ने गाँव को दिखाने के लिए एक मानचित्र साझा करते हुए कहा, “हमारे पास नवस्थापित पंगड़ा गाँव में स्थाई निवास हैं। यह यदोंग काउंटी से 35 किमी दक्षिण में घाटी के साथ है।”

बता दें हो सकता है कि चीन जानबूझकर अपनी चालबाजियों को जारी रखते हुए भूटान को लेकर फर्जी दावे करके गंदे राजनीतिक खेल खेल सकता है। और इसी कड़ी में NDTV और अन्य भारतीय मीडिया नेटवर्क चीनी प्रोपेगेंडा का शिकार हो गए और भूटान के अंदर चीनी उपस्थिति पर असत्यापित समाचार रिपोर्ट की रिपोर्टिंग में जुट गए और लोगों को भ्रमित करने लगें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘Pak आकर खेलना चाहिए इंग्लैंड को’ – वसीम जाफर ने बोली अफरीदी के ‘एहसान’ वाली भाषा, आपत्ति पर ट्विटर यूजर ब्लॉक

अब जब 'इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB)' ने अपनी महिला व पुरुष टीमों का पाकिस्तान दौरा रद्द कर दिया है, भारत के पूर्व क्रिकेटर वसीम जाफर नाराज़ हो गए हैं।

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,486FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe