Friday, June 21, 2024
Homeरिपोर्टमीडियानवीन की 'प्रोफाइल' के सहारे, इंडिया टुडे बेंगलुरु को जलाने वाली भीड़ का हिस्सा...

नवीन की ‘प्रोफाइल’ के सहारे, इंडिया टुडे बेंगलुरु को जलाने वाली भीड़ का हिस्सा बन गया, जो खून की प्यासी थी: जानिए कैसे

चरित्र प्रोफ़ाइल का लहजा और सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि इंडिया टुडे का उद्देश्य क्या है। इसका उद्देश्य नवीन को पूरे प्रकरण के खलनायक के रूप में घोषित करना है ताकि....

हाल ही में बेंगलुरु में हुए दंगों में जहाँ संप्रदाय विशेष की एक भीड़ पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ एक कथित ईशनिंदा पोस्ट के कारण भड़की थी, उसको लेकर मेनस्ट्रीम मीडिया ने एक बार फिर से साबित कर दिया है कि वो आम लोगों का दुश्मन है। मीडिया जो अब असल अपराधी को छिपाने का काम कर रही है।

ईशनिंदा के आरोपित नवीन के खिलाफ चरित्र हनन का एक ठोस अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें उसके कथित आपत्तिजनक पोस्ट को गलत बताते हुए संप्रदाय विशेष की भीड़ द्वारा की गई हिंसा को सही ठहराया जा रहा है। जबकि सच्चाई यह है कि यह पोस्ट हिन्दू घृणा से प्रेरित पोस्ट के कमेंट में लिखा था।

डेक्कन हेराल्ड द्वारा नवीन को ‘सीरियल अपराधी’ के रूप में चित्रित करने के बाद, अब इंडिया टुडे ने दलित कॉन्ग्रेस विधायक के भतीजे की एक ‘कैरेक्टर प्रोफ़ाइल’ प्रकाशित की है, जिसके आधार पर यह दावा किया गया है कि 35 वर्षीय नवीन, सनी लियोन के प्रशंसक हैं। इंडिया टुडे ने इस विशेष तथ्य पर विशेष जोर दिया है कि मंगलवार रात को जो कुछ भी हुआ, उससे सनी लियोन का कोई संबंध नहीं है, कारण इंडिया टुडे को ही बेहतर पता होगा।

Rahul Kanwal tweet sharing the India Today report

चरित्र प्रोफ़ाइल का लहजा और सिद्धांत यह स्पष्ट करता है कि इंडिया टुडे का उद्देश्य क्या है। इसका उद्देश्य नवीन को पूरे प्रकरण के खलनायक के रूप में चित्रित करना है ताकि संप्रदाय विशेष की भीड़ के अपराधों को समाप्त किया जा सके और हिंसा को उचित ठहराया जा सके, जो न सिर्फ कॉन्ग्रेस विधायक के परिवार के खिलाफ थी। बल्कि उस क्षेत्र के अन्य आम लोगों के भी भी खिलाफ थी।

चरित्र प्रोफ़ाइल की शुरुआत बुरे तरीके से की जाती है। इसमें लिखा गया है, कॉमर्स ग्रेजुएट पी नवीन पिछले दिनों बेंगलुरु में हुई हिंसा के बाद से ही विवादों में है। जो कि अब गिरफ्तार है। और पूरे रिपोर्ट में, इंडिया टुडे को उनके बारे में एक अच्छी बात नहीं मिली।

इसमें कुछ सबटाइटल्स भी दिए गए हैं। जिसमें ‘किसी विशेष राजनीतिक विचारधारा से जुड़ाव नहीं’, ‘राजनीतिक महत्वाकांक्षी’, ‘सनी लियोनी का फैन’, ‘विवादों से अजनबी नहीं’, ‘मेधावी छात्र नहीं’ जैसे सब टाइटल्स शामिल हैं।

The post was blasphemous, rules India Today

उदाहरण के लिए, यह दावा किया जाता है कि नवीन की कठोर राजनीतिक विचारधारा नहीं है। इसमें कहा गया है कि वो अपने मामा और कॉन्ग्रेस विधायक आर अखंड श्रीनिवास मूर्ति के साथ संप्रदाय विशेष को ईद की शुभकामनाएँ देने वाली पोस्ट में दिखा।

आगे लिखा गया है कि 5 अगस्त को, अयोध्या में भूमिपूजन वाले दिन नवीन ने राम मंदिर निर्माण के समर्थन में पोस्ट लिखी। इस पर कुछ आलोचनात्मक कमेंट भी आए। लेकिन इंडिया टुडे के ओपन-सोर्स इंटेलिजेंस से इस शख्स के बारे में अधिक खुलासा हुआ। नवीन के फेसबुक हैंडल को बारीकी से खंगालने पर पता चला कि उसकी कोई दृढ़ राजनीतिक विचारधारा नहीं है।

जन्माष्टमी की शुभकामनाओं वाली एक पोस्ट में, भारत की धर्मनिरपेक्षता पर वह गर्व जताता है। इसने ऐसी तस्वीर अपलोड की जिसमें बुर्का पहने एक महिला के साथ राधा-कृष्ण बने बच्चे देखे जा सकते हैं।

ये इंडिया टुडे द्वारा प्रदान किए गए औचित्य हैं जिनसे साबित होता है कि नवीन की कठोर राजनीतिक विचारधारा नहीं है। यह वास्तव में काफी प्रफुल्लित करने वाला है। ये टिप्पणियाँ वास्तव में नवीन को धर्मनिरपेक्ष के रूप में चित्रित करती हैं। इंडिया टुडे जैसे लिबरल मीडिया हाउस को जश्न मनाया जाना चाहिए, न कि आलोचना करना चाहिए।

This was reason enough for India Today to brand Naveen a Sunny Leone fan

इंडिया टुडे की रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि एक्ट्रेस सनी लियोनी नवीन के लिए एक और रोल-मॉडल लगती हैं। 12 मई को, नवीन ने सनी लियोनी की तस्वीर पोस्ट करने के साथ कैप्शन लिखा- “सनी लिओनी ने साबित किया कि हमारा अतीत कभी हमारे भाग्य का फैसला नहीं कर सकता।”

ऐसा प्रतीत होता है कि इंडिया टुडे भी इस बात के लिए इतना उतावला था कि चरित्र प्रोफाइल का एकमात्र उद्देश्य कॉन्ग्रेस विधायक के भतीजे की चरित्र की हत्या के अलावा और कुछ नहीं था। इसमें कहा गया है, “एक दशक से क्षेत्र में सुरक्षा गार्ड और ड्राइवर का काम करने वाले एक शख्स ने इंडिया टुडे को बताया कि नवीन को कभी काम पर जाते नहीं देखा, इसके बजाय उन्हें अक्सर “दोस्तों के साथ मस्ती” करते देखा गया था।”

ऐसा मालूम होता है कि इंडिया टुडे ने उस व्यक्ति को चरित्र हनन के माध्यम से दंडित करने की बेबसी महसूस की, जिसने इस्लाम के पैगंबर का अपमान किया। वैसे तो मुख्यधारा का मीडिया, जो दलितों के बारे में बहुत परवाह करने का दिखावा करता है, मगर संप्रदाय विशेष के भीतर कट्टरपंथी तत्वों के प्रति उनका पूर्णतया समर्पण प्रतीत होता है। डेक्कन हेराल्ड और इंडिया टुडे इसकी अगुवाई करते हुए दिखाई देते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -