Saturday, May 15, 2021
Home राजनीति PM मोदी ने भारत में नई शक्ति का निर्माण कर सांस्कृतिक बदलाव को दिया...

PM मोदी ने भारत में नई शक्ति का निर्माण कर सांस्कृतिक बदलाव को दिया जन्म, उन्हें रोकना मुश्किल: संजय बारू

"इंडियाज पावर एलीट: क्लास, कास्ट एंड ए कल्चरल रिवॉल्यूशन" को लॉन्च करते हुए संजय बारू ने कहा कि नए बुद्धिजीवी अमित शाह और योगी आदित्यनाथ पूरी तरह से अलग दुनिया से हैं। देश के कई हिस्सों में सरकार और नौकरशाही ने स्थानीय संस्कृति और परंपराओं को अधिक महत्व देना शुरू कर दिया है। इससे पहले इस पर अंग्रेजी उच्च-मध्यम वर्ग का वर्चस्व था।

पॉलिटिकल कमेंटेटर और विश्लेषक संजय बारू ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में एक नए एलीट क्लास का निर्माण किया है। उन्होंने एक ऐसे सांस्कृतिक बदलाव को जन्म दिया है, जो देश पर राज करेगा, उसके विचार, भारत के विचार होंगे। बारू ने यह बात हाल ही में वामपंथी ऑनलाइन पोर्टल द वायर के लिए पत्रकार करण थापर को दिए इंटरव्यू में कही।

इंटरव्यू में बोलते हुए उन्होंने अपनी नई किताब, “इंडियाज पावर एलीट: क्लास, कास्ट एंड ए कल्चरल रिवॉल्यूशन” को लॉन्च किया। बारू ने कहा कि नए बुद्धिजीवी अमित शाह और योगी आदित्यनाथ पूरी तरह से अलग दुनिया से हैं। उन्होंने कहा कि देश के कई हिस्सों में सरकार और नौकरशाही ने स्थानीय संस्कृति और परंपराओं को अधिक महत्व देना शुरू कर दिया है। इससे पहले इस पर अंग्रेजी उच्च-मध्यम वर्ग का वर्चस्व था।

संजय बारू ने इसके बारे में विस्तार से बताते हुए कहा, “नई एलीट पॉवर प्रांतीय है, अंग्रेजी में सहज नहीं है। मुझे लगता है कि हमारे पास दिल्ली में और भारत के कई हिस्सों में जो नौकरशाही है। वह मौखिक रूप से सोचती है। प्रशासनिक व्यवस्था में जिस तरह की उपमाओं प्रतीकवाद का उपयोग करते हैं, उसमें सांस्कृतिक क्रांति मिली हुई है। यह एक ऐसा तरीका है, जिसके बारे में शासक वर्ग गहनता से विचार करता है।”

बारू ने कहा, “नई एलीट शक्ति पूरी तरह से क्षेत्रीय है। ये लोग बातचीत में हिंदी अथवा मौखिक भाषाओं का इस्तेमाल करते हैं। ये अपने पूर्ववर्तियों के विपरीत अपर-मिडिल-क्लास से आते हैं। देश में नई शक्तियां मध्यम वर्ग की हैं, जिन्होंने अपनी मेहनत से ऊंचा मुकाम हासिल किया हैं। ये उन परिवारों में पैदा नहीं हुए, जिन्हें हर तरह की चीजें आसानी से मिल जाती हैं।”

उन्होंने यह भी बताया कि पीएम मोदी के सत्ता में आने से पहले नई दिल्ली में सरकार ने किस तरह से बदलाव किया? BJP के सत्ता में आने से पहले राजधानी के पावर एलीट का गठन करने वाले सामाजिक वर्ग में आमूल-चूल परिवर्तन नहीं हुआ था। उन्होंने यह भी कहा कि ज्यादातर मौकों पर सत्ता के एलीट क्लास में भी समान विशेषताएं मिल जाती थीं।

पॉलिटिकल कमेंटेटर ने यह भी कहा कि पुराना एलीट क्लास अक्सर एक ही यूनिवर्सिटी अथवा स्कूल से होता था, जो कि जिमखाना या आईआईसी से होता था। बारू ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि ऐसा पहली बार है जब देश के पीएमओ में सेंट स्टीफेंस अथवा जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट कोई भी अधिकारी नहीं है।

बारू ने कहा, “पुराने जन बुद्धिजीवियों और लेफ्ट लिबरल्स को हिंदू राष्ट्रवादी बुद्धिजीवियों से बदल दिया गया है।”

उन्होंने ये दावा किया कि सत्ता के एलीट क्लास की उभरती हुई सांस्कृतिक क्रांति ने इंडिया को दरिकनार कर सांस्कृतिक तौर पर भारत को प्रदर्शित किया है। राजनीतिक टिप्पणीकार ने कहा कि देश में सांस्कृतिक बदलाव की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता में आगमन के साथ ही शुरू हो गया था। यह ठीक उसी तरह है जैसे माओ के आने से बदलाव शुरू हुआ था। बारू ने आगे कहा कि दोनों ही उदाहरणों में एक ही उद्देश्य निहित था और वो यह कि पुरानी शक्तियों को किसी भी तरह से हटाना था।

करण थापर के साथ 32 मिनट के साक्षात्कार में बारू ने जनता के बीच पीएम मोदी की लोकप्रियता और राजनीतिक सफलता के लिए उनके मंत्र का विश्लेषण किया। उन्होंने कहा कि यह भाजपा के हिंदुत्व, राष्ट्रवाद, राम मनोहर लोहिया की जाति-आधारित सामाजिक कल्याण और वामपंथी वर्ग आधारित समर्थक गरीब कट्टरपंथ से मिला-जुला है। उन्होंने कहा कि यह वामपंथियों और कुलीनों के लिए भी शत्रुतापूर्ण है।

यह पूछे जाने पर कि मोदी को किस प्रकार से चुनौती दी जा सकती है। इस पर बारू ने कहा कि विपक्ष का पुनरुद्धार या आर्थिक पतन केवल दो चीजें ऐसी हैं, पीएम मोदी को रोक सकती हैं। उन्होंने कहा कि नए आकांक्षी भारत के लोग पीएम मोदी की ओर आकर्षित हो रहे हैं क्योंकि वह उन्हें पहचानते हैं। वो उन्हीं के विचारों को दर्शाते हैं। हालाँकि, बारू के मुताबिक अगर अर्थव्यवस्था पर बुरा असर होता है तो पीएम मोदी के प्रति लोगों का यह अटूट समर्थन मोहभंग और हताशा में बदल सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ईद के अगले दिन बंगाल में कंप्लिट लॉकडाउन का आदेश: 20000+ मामले, 30 मई तक लागू रहेंगे प्रतिबंध

पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। संक्रमण के चलते ममता बनर्जी के छोटे भाई का निधन हो गया। लॉकडाउन...

लॉकडाउन पर Confuse राहुल गाँधी: पहले जिनके लिए दी PM मोदी को ‘गाली’ अब उन्हीं पर बजा रहे ‘ताली’

ऐसा क्या है जिसने कॉन्ग्रेस को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की वकालत करने के लिए मजबूर कर दिया है? किस कारण कॉन्ग्रेस और उसके युवराज राहुल गाँधी लगातार मोदी सरकार पर राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगाने का दबाव बना रहे हैं?

जहाँ अभी अल-अक्शा मस्जिद, वहाँ पहले था यहूदियों का मंदिर: जानिए कहाँ से शुरू हुआ येरुशलम विवाद

येरुशलम में जहाँ अल अक्सा मस्जिद है उसी स्थान पर टेंपल माउंट पर ही यहूदियों का सेकेंड टेंपल हुआ करता था। सेकंड टेम्पल को यहूदी विद्रोह की सजा के रूप में 70 ईस्वी में रोमन साम्राज्य ने नष्ट कर दिया था।

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...

पुणे में बनेगी कोरोना वैक्सीन, इसलिए 50% सिर्फ महाराष्ट्र को मिले: महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि राज्य सरकार हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक के पुणे में लगने वाले वैक्सीन निर्माण संयंत्र से...

‘लगातार बम बरसाए, एकदम निर्ममता से… हमारा (हमास) एक भी लड़ाका नहीं था’: 10000+ फिलिस्तीनी घर छोड़ कर भागे

इजराइल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच खूनी संघर्ष और तेज हो गया है। हमास को इजराइल की जवाबी कार्रवाई में कम से कम...

प्रचलित ख़बरें

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

इजरायली रॉकेट से मरीं केरल की सौम्या… NDTV फिर खेला शब्दों से, Video में कुछ और, शीर्षक में जिहादियों का बचाव

केरल की सौम्या इजरायल में थीं, जब उनकी मौत हुई। वह अपने पति से बात कर रही थीं, तभी फिलिस्तीनी रॉकेट उनके पास आकर गिरा। लेकिन NDTV ने...

इजरायल के विरोध में पूर्व पोर्न स्टार मिया खलीफा: ट्वीट कर बुरी तरह फँसीं, ‘किसान’ प्रदर्शन वाला ‘टूलकिट’ मामला

इजरायल और फिलिस्तीनी आंतकियों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पूर्व पोर्न-स्टार मिया खलीफा ने गलती से इजरायल के विरोध में...

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,351FansLike
94,220FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe