Tuesday, May 21, 2024
Homeरिपोर्टमीडियाभगवंत मान के 'पुल' की खोली थी पोल, अब गिरफ्तार किए गए PTC चैनल...

भगवंत मान के ‘पुल’ की खोली थी पोल, अब गिरफ्तार किए गए PTC चैनल के एमडी: लड़कियों का यौन शोषण करवाने के आरोप

पीटीसी ने भगवंत मान के दावों की पोल खोलते हुए उनकी धज्जियाँ उड़ा दी थीं। चैनल ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि संगरूर जिले के दिर्बा गाँव में जलमार्ग के ऊपर एक पुल की बजाए एक कंक्रीट पावर स्लैब बिछाया गया था।

पीटीसी नेटवर्क के प्रेसिडेंट और एमडी रबींद्र नारायण (PTC TV MD Rabindra Narayan) को गिरफ्तार कर लिया गया है। एक ‘मिस पंजाब’ कंटेस्टेंट ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी, जिसको लेकर पंजाब पुलिस ने उन्हें बुधवार (6 अप्रैल, 2022) तड़के सुबह उनके गुरुग्राम स्थित आवास से पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। शिकायतकर्ता ने बताया कि ‘मिस पंजाब’ कॉन्टेस्ट के दौरान पीटीसी स्टाफ के एक सदस्य ने उसे जबरदस्ती एक कमरे में बंद कर दिया और उसका शोषण किया

कंटेस्टेंट ने यह भी आरोप लगाया है कि चैनल द्वारा हर साल कराने जाने वाले ब्यूटी कॉन्टेस्ट की आड़ में मानव तस्करी हो रही है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, PTC नेटवर्क पर यह आरोप भी है कि चैनल में मिस पंजाबी कॉन्टेस्ट के नाम पर भोली-भली लड़कियाँ बुलाई जाती थीं और फिर बड़े-बड़े लोगों से उनका यौन शोषण करवाया जाता था।

पीटीसी नेटवर्क ने एमडी को हिरासत में लिए जाने को सियासी रंजिश करार दिया है। उधर, पीटीसी के एमडी ने आरोप लगाया है कि यह जाँच मीडिया पर हमला है। नारायण ने भगवंत मान सरकार पर मीडिया की आवाज दबाने का आरोप लगाते हुए इसे राजनीति से प्रेरित कदम बताया। पीटीसी चैनल के प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा कि इस मामले में गठित एसआईटी पहले ही हमारे एमडी रबींद्र नारायण का बयान दर्ज कर चुकी है और एमडी ने भी जाँच में पूरा सहयोग किया है। साथ ही कहा कि पुलिस को सभी डीवीआर सौंप दिए हैं, जिन्हें देखने से साफ पता चलता है कि आरोप लगाने वाली लड़की हमारे साथ कभी जुड़ी ही नहीं थी।

बता दें कि नारायण को आज उनके गुरुग्राम स्थित आवास से गिरफ्तार किया गया था, जबकि उनके खिलाफ मोहाली में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। कथित तौर पर, पंजाब पुलिस इस मामले में एक और संदिग्ध की तलाश कर रही है, जबकि अधिकारियों ने इसमें शामिल बड़े रैकेट की भूमिका की पहचान करने के लिए गहन जाँच शुरू कर दी है।

भगवंत मान के पुल पर पीटीसी की रिपोर्ट

मालूम हो कि 31 मार्च, 2022 को पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। अरविंद केजरीवाल के साथ एक इंटरव्यू में मान ने सांसद के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान 1.80 करोड़ रुपए के कोटेशन के मुकाबले सिर्फ 6 लाख रुपए में पंजाब में एक पुल बनाने के बारे में हास्यास्पद दावे किए थे। स्थानीय समाचार चैनल पीटीसी न्यूज ने पुल को कवर करने के लिए एक रिपोर्टर को वहाँ भेजने का फैसला किया।

पीटीसी ने मान के दावों की पोल खोलते हुए उनकी धज्जियाँ उड़ा दी थीं। चैनल ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि संगरूर जिले के दिर्बा गाँव में जलमार्ग के ऊपर एक पुल की बजाए एक कंक्रीट पावर स्लैब बिछाया गया था।

गौरतलब है कि पीटीसी के एमडी रबींद्र नारायण की गिरफ्तारी चैनल द्वारा भगवंत मान के कथित झूठे दावों को उजागर करने के कुछ दिनों बाद हुई है। पीटीसी टेलीविजन नेटवर्क का स्वामित्व शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल के पास है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -