Wednesday, August 17, 2022
Homeरिपोर्टमीडियातीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी होते ही इकोसिस्टम का 'खतरे में लोकतंत्र' रोना शुरू, मुंबई...

तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी होते ही इकोसिस्टम का ‘खतरे में लोकतंत्र’ रोना शुरू, मुंबई प्रेस क्लब ने कहा- रिहा करो

मुंबई प्रेस क्लब की ओर से जारी बयान में तीस्ता की गिरफ्तारी पर दुख और निराशा व्यक्त की गई। इसमें कहा गया कि उन्हें ये बात स्वीकार्य नहीं है कि लोगों को न्याय दिलाने के लिए लड़ने वाले व्यक्ति पर साक्ष्य गढ़ने और एसआईटी को गुमराह करने का आरोप लगे।

गुजरात ATS द्वारा स्वघोषित सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ की गिरफ्तारी के बाद पूरा इकोसिस्टम मोदी सरकार को तानाशाह घोषित करने में जुटा है। मुबंई प्रेस क्लब ने तो इस गिरफ्तारी की निंदा भी की है। अपने पत्र में प्रेस क्लब के सदस्यों ने प्रशासन की कार्रवाई को कोसने के साथ तीस्ता सीतलवाड़ को रिहा करने की माँग की है।

इसमें कहा गया, मुंबई प्रेस क्लब, पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ की 25 जून 2022 को हुई गिरफ्तारी पर दुख और निराशा व्यक्त करता है। ये तब हुआ जब 24 जून को सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका को खारिज किया जिसमें सीतलवाड़ सह-याचिकाकर्ता थीं।

इसमें ये भी कहा गया कि मुंबई प्रेस क्लब को ये बात स्वीकार्य नहीं है कि लोगों को न्याय दिलाने के लिए लड़ने वाले व्यक्ति पर साक्ष्य गढ़ने और एसआईटी को गुमराह करने का आरोप लगे।

अब यहाँ मालूम हो कि एनजीओ चलाकर खुद को सामाजिक कार्यकर्ता कहलाने वाली सीतलवाड़ को प्रेस क्लब की ओर से पत्रकार की उपाधि सिर्फ इस आधार पर दी गई है क्योंकि वह ‘सबरंग’ नाम से एक प्रोपेगेंडा मैगजीन चलाती हैं। इसमें वह नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ माहौल बनाने का काम करती आई हैं।

इकोसिस्टम हुआ सक्रिया, प्रदर्शन की माँग

बता दें कि तीस्ता की गिरफ्तारी पर केवल प्रेस क्लब ही एक पत्र से रिहाई नहीं माँग रहा, बल्कि पूरा इकोसिस्टम लोकतंत्र को खतरे में बताकर सोशल मीडिया पर ऐसी माँग उठा रहा है।

कॉन्ग्रेस एक्टिविस्ट व कई बार फेक न्यूज फैलान के लिए पहचानी जाने वाली शबनम हाशमी ने भी ट्विटर पर पोस्टर शेयर करते हुए सीतलवाड़ के लिए समर्थन माँगा। उन्होंने तीस्ता की गिरफ्तारी के विरुद्ध दिल्ली में प्रदर्शन करने को कहा। पोस्टर में देख सकते हैं कि वो इस समय में अघोषित इमरजेंसी बता रही हैं और लोगों से अपील कर रही हैं कि मोदी सरकार के खिलाफ आवाज उठाएँ।

हिंदुत्व को तालिबान के बराबर बताने वाली कम्युनिस्ट कविता कृष्णन ने भी तीस्ता की गिरफ्तारी के विरुद्ध सुप्रीम कोर्ट के फैसले को कोसा। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, “ये काफी बुरा है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा जाकिया जाफरी की याचिका रद्द कर दी गई और तीस्ता सीतलवाड़ समेत उन अन्य लोगों को अपराधी बना दिया गया, जिन्होंने गुजरात 2002 की हिंसा के पीड़ितों के लिए न्याय माँगा था।”

राणा अयूब ने भी इसी तरह करुणा नुंदी के ट्वीट को रीट्वीट किया जिसमें दावा था कि सुप्रीम कोर्ट संविधान को कमजोर करने का काम कर रही है।

एम्नेस्टी इंडिया की ओर से तीस्ता की गिरफ्तारी को कहा गया कि ये भारतीय प्रशासन मानवाधिकार की बात करने वालों पर सवाल खड़ा कर रही है।

बता दें कि तीस्ता सीतलवाड़ को गुजरात एटीएस ने 25 जून 2022 को गिरफ्तार किया था। इसके बाद उन्हें सड़क के रास्ते अहमदाबाद ले जाया गया। इस गिरफ्तारी से एक दिन पहले सुप्रीम कोर्ट ने ही गुजरात दंगों से जुड़े मामले में सीतलवाड़ की भूमिका पर और जाँच करने को कहा था। कोर्ट ने कहा था कि तीस्ता इस मामले में अपने फायदे के लिए घुसीं और जाफरी की भावनाओं का इस्तेमाल किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नूपुर शर्मा पर फिदायीन हमले की योजना, PDF पढ़वाने देवबंद जाता था आतंकी नदीम; 3 महीने में 18 बार मिली मदरसे में लोकेशन: ATS...

यूपी ATS द्वारा गिरफ्तार मोहम्मद नदीम अंग्रेजी और उर्दू नहीं जानता था। वह पाकिस्तान से उर्दू में आए PDF को पढ़वाने के लिए मदरसे जाता था।

काम की तलाश में विनोद कांबली, इनकम केवल ₹30000: कहा- सचिन तेंदुलकर सब जानते हैं, पर मैं उनसे उम्मीद नहीं रखता

कांबली ने मिड-डे से बातचीत में कहा कि उन्हें काम की जरूरत है। इस वक्त उनकी आय का एकमात्र स्रोत केवल बीसीसीआई की पेंशन है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
214,819FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe