Tuesday, September 21, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया'अपनी ही कब्र खोद ली': टाइम्स ऑफ इंडिया ने टोक्यो ओलंपिक में भारतीय तीरंदाजी...

‘अपनी ही कब्र खोद ली’: टाइम्स ऑफ इंडिया ने टोक्यो ओलंपिक में भारतीय तीरंदाजी टीम की हार का उड़ाया मजाक

दीपिका खुद विश्व की नंबर 1 तीरंदाज हैं, ऐसे में टाइम्स ऑफ इंडिया के लेख का शीर्षक और गैर-तार्किक आलोचना सिर्फ दोनों खिलाड़ियों के प्रयासों को धूमिल ही करती है।

टोक्यो ओलंपिक के तीरंदाजी (आर्चरी) के मिक्स्ड इवेंट में दीपिका कुमारी और प्रवीण जाधव की जोड़ी क्वार्टर फाइनल तक पहुँच कर हार गई। उनकी हार ने करोड़ों भारतीयों को निराश कर दिया लेकिन देश के अग्रणी समाचार पत्र टाइम्स ऑफ इंडिया ने खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाने के स्थान पर उनका मजाक उड़ाया।

रविवार (25 जुलाई 2021) को टाइम्स ऑफ इंडिया ने एक लेख प्रकाशित किया जिसका शीर्षक था, “Tokyo Olympics : India’s archers dig their own grave, again (टोक्यो ओलंपिक : भारतीय तीरंदाजों ने एक बार फिर अपनी ही कब्र खोद ली)”। लेख को आर्चिमन भादुड़ी ने लिखा है जिनके अनुसार किसी खेल में हारना अपनी कब्र खोदने के जैसा है। जहाँ एक ओर लेख का शीर्षक खिलाड़ियों का अपमान करने जैसा था वहीं लेख का रवैया खिलाड़ियों के प्रति मिला-जुला था।

टाइम्स ऑफ इंडिया के लेख का स्क्रीनशॉट

दक्षिण कोरिया के किम जे ड्योक और आन सन से हारने के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया ने दावा किया कि भारतीय खिलाड़ी औसत से भी कम थे और उन्होंने विरोधियों को थाली में सजाकर जीत सौंप दी। लेख में कहा गया कि हालाँकि दोनों ही तरफ के खिलाड़ी कमजोर थे लेकिन तीरंदाजी का पावरहाउस माने जाने वाले दक्षिण कोरिया के खिलाड़ियों द्वारा 35 का स्कोर किया जाना यह बताता है कि भारत ने उन्हें जीत का तोहफा खुद ही दे दिया।

तीरंदाजी के कथित एक्सपर्ट आर्चिमन भादुड़ी ने लिखा कि दीपिका कुमारी और प्रवीण जाधव में कोई सामंजस्य नहीं था। लेख में बताया गया कि पहले खेल में भी दीपिका और प्रवीण सहज नहीं नजर आ रहे थे, भले ही उन्होंने 1-3 से पिछड़ने के बाद वापसी की और चीनी जोड़ी को हरा दिया। लेख में लिखा गया कि प्रवीण ने अपने गलत शॉट्स के कारण ओलंपिक में भारत के अभियान को समाप्त कर दिया।

आलोचना किसी भी खिलाड़ी के जीवन का हिस्सा है और उसके बेहतर बेहतर प्रदर्शन के लिए जरूरी है लेकिन उस खिलाड़ी की उपलब्धियों को कमजोर बताना मात्र उसके विश्वास को ठेस ही पहुँचाता है। दीपिका और प्रवीण, दोनों ही एक साधारण से परिवेश से उठकर आज खेलों के सबसे बड़े इवेंट में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। दीपिका खुद विश्व की नंबर 1 तीरंदाज हैं, ऐसे में टाइम्स ऑफ इंडिया के लेख का शीर्षक और गैर-तार्किक आलोचना सिर्फ दोनों खिलाड़ियों के प्रयासों को धूमिल ही करती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe