Thursday, August 18, 2022
Homeरिपोर्टमीडियाअब मुंबई पुलिस ने TRP मामले में रिपब्लिक की COO प्रिया मुखर्जी को किया...

अब मुंबई पुलिस ने TRP मामले में रिपब्लिक की COO प्रिया मुखर्जी को किया तलब, डिस्ट्रीब्यूशन हेड भी हैं गिरफ्तार

घनश्याम सिंह रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के असिसटेंट वाइस प्रेसिडेंट और डिस्ट्रीब्यूशन हेड हैं। उन्हें पिछले हफ्ते फेक टीआरपी के मामले में गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद उन्हें 16 नवंबर तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

टीआरपी हेरफेर घोटाले की जाँच कर रही मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने रिपब्लिक टीवी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (COO) प्रिया मुखर्जी को तलब किया है। मुंबई पुलिस ने प्रिया मुखर्जी को मंगलवार (नवंबर 17, 2020) को पूछताछ के लिए बुलाया है। पुलिस ने बताया कि प्रिया मुखर्जी घनश्याम सिंह (44) की गतिविधियों के बारे में प्राप्त जानकारी के संबंध में बुलाया गया है। 

बता दें कि घनश्याम सिंह रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के असिसटेंट वाइस प्रेसिडेंट और डिस्ट्रीब्यूशन हेड हैं। उन्हें पिछले हफ्ते फेक टीआरपी के मामले में गिरफ्तार किया गया था। शुक्रवार (नवंबर 13, 2020) को हॉलीडे कोर्ट में पेश किया गया, जिसके बाद उन्हें 16 नवंबर तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

पुलिस का कहना है कि घनश्याम सिंह ने केबल ऑपरेटरों और मल्टी सिस्टम ऑपरेटर्स (MSOs) के साथ मिलकर रिपब्लिक टीवी को ड्यूल लॉजिकल चैनल नंबर (LCNs) या दो फ्रीक्वेंसी पर चलाया, जो भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) के दिशानिर्देशों का उल्लंघन है।

एक अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, “घनश्याम सिंह ने कथित तौर पर केबल ऑपरेटरों और MSOs को दो आवृत्तियों पर चैनल चलाने के लिए पैसे का भुगतान किया, जिससे उन्हें टीआरपी में सुधार करने में मदद मिली। हम वित्तीय पहलुओं की जाँच करना चाहते हैं।”

गौरतलब है कि टीआरपी हेरफेर मामले में हंसा रिसर्च ग्रुप ने मुंबई पुलिस पर बेहद संगीन आरोप लगाए थे। ग्रुप ने कहा था कि मुंबई पुलिस द्वारा उन्हें रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के खिलाफ गलत बयान देने के लिए मजबूर किया जा रहा है। बार और बेंच की रिपोर्ट के अनुसार, BARC के बार-ओ-मीटर (ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल) का संचालन करने वाली कंपनी ने बॉम्बे हाईकोर्ट का रुख करते हुए इस मामले की जाँच मुंबई पुलिस के बजाय केंद्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) को सौंपने की माँग की।

बॉम्बे हाई कोर्ट में दायर याचिका में हंसा रिसर्च ने आरोप लगाया कि पुलिस उनके कर्मचारियों को फर्जी बयान जारी करने के लिए दबाव बनाने की रणनीति अपना रही है। साथ ही रिपब्लिक टीवी द्वारा जारी एक डॉक्यूमेंट को फर्जी करार देने के लिए कह रही है।

वहीं वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता कपिल सिब्बल के बेटे अखिल सिब्बल ने बॉलीवुड के एक प्रख्यात प्रोडक्शन हाउस का पक्ष रखते हुए स्वीकार किया था कि रिपब्लिक टीवी की दर्शक दीर्घा (audience base) और टीआरपी काफी ज़्यादा है। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रोहिंग्या और बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए आधार कार्ड बनवा रहा है PFI : पटना पुलिस की जाँच में बड़ा खुलासा

फर्जी दस्तावेज से पीएफआई बनवा रहा है रोहिंग्याओं और बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए आधार कार्ड। पटना पुलिस की जाँच में बड़ा खुलासा।

श्रीकृष्ण ही सत्य हैं, अब तो ‘सुलेमान’ भी साक्षी है: द्वापर के इतिहास को आज से जोड़ती है ‘कार्तिकेय 2’, नए पैन-इंडिया स्टार का...

'कार्तिकेय 2' ने ये सुनिश्चित कर दिया है कि इस फ्रैंचाइजी जी अगली फिल्म पैन-इंडिया होगी। निखिल सिद्धार्थ का अभिनय उम्दा और उनकी स्क्रीन प्रेजेंस दमदार है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
215,056FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe