Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया'मैं तुम्हारा रहने-खाने का खर्च उठाऊँगा, पता नहीं क्यों तुमसे जुड़ गया हूँ': महिला...

‘मैं तुम्हारा रहने-खाने का खर्च उठाऊँगा, पता नहीं क्यों तुमसे जुड़ गया हूँ’: महिला पत्रकार ने शेयर किए अविनाश दास के चैट्स

'खुद को अकेला मत समझना, मैं हूँ...' और 'प्रोड्यूसर को पटा कर बिग शॉट खेलो...' से लेकर 'तुमसे जुड़ गया हूँ, पता नहीं क्यों...' और 'तुम कुछ ज्यादा ही सख्त हो' - सिर्फ एक बार मिली लड़की को ऐसे मैसेज करने का आरोप है 'अनारकली ऑफ आरा' के निर्देशक अविनाश दास पर।

पत्रकार उत्पन्ना चक्रवर्ती ने ‘अनारकली ऑफ आरा’ के निर्देशक अविनाश दास के साथ अपने चैट्स सार्वजनिक किए हैं। ब्लॉगर रहे अविनाश दास एनडीटीवी में बतौर आउटपुट एडिटर भी काम कर चुके हैं। सबसे पहले उत्पन्ना चक्रवर्ती ने तीन स्क्रीनशॉट्स शेयर किए, जिसने बहुत कुछ साफ़ नहीं हो रहा था। उसे देख कर ऐसा लग रहा था कि वो परेशान हैं और अविनाश उनकी मदद करने की कोशिश कर रहे हैं।

इस चैट में अविनाश दास उत्पन्ना को लिखते हैं कि तुम कुछ ज्यादा ही सख्त हो और मुझे पसंद हो। इसमें उत्पन्ना अपनी किसी समस्या को लेकर बात करती नजर आ रही हैं। साथ ही उन्हें अविनाश ‘बेहिचक’ उनसे वित्तीय मदद लेने की सलाह दे रहे हैं, क्योंकि उत्पन्ना काम को लेकर परेशान नजर आ रही हैं। इसके बाद वो कहते हैं कि ‘मैं हूँ और तुम खुद को अकेला मत समझना।’ इसके बाद वो किसी ‘प्रोड्यूसर को पटा कर बिग शॉट खेलने’ और सीधे प्रोड्यूसर बन जाने की सलाह देते हैं।

अविनाश दास ने लिखा कि इसे अपने लिए ‘प्यार’ मान कर पढ़ो

इसके बाद अविनाश दास लिखते हैं कि उत्पन्ना चक्रवर्ती इसे उनका ‘प्यार’ मान कर पढ़ें और वो उनसे इतना क्यों ‘जुड़ गए हैं’, उन्हें नहीं पता। इन तीन स्क्रीनशॉट्स के बाद जब चीजें साफ़ नहीं हुईं तो उत्पन्ना ने कई अन्य स्क्रीनशॉट्स भी शेयर किए, ताकि वो अपने आरोपों को साबित कर सकें। इसके बाद अविनाश दास ने उत्पन्ना को लिखा कि तुम भरोसेमंद नहीं हो और शशि ने उन्हें बताया है कि जो उनकी मदद करता है, वो उसे ही धोखा देती हैं। इससे पहले दास उत्पन्ना के खाने-रहने का खर्च उठाने की बात कर रहे थे।

अविनाश दास ने लिखा कि मैं तुमसे जुड़ गया हूँ

साथ ही वो उत्पन्ना को ‘मल्टीप्ल पर्सनालिटी डिसऑर्डर’ की बीमारी होने का आरोप भी लगाते हैं और कहते हैं कि दीपावली के बाद वो वापस संपर्क में आएँगे। इसके बाद उत्पन्ना ने लिखा कि वो शशि को कॉल पर ले रही हैं और अविनाश दास उन्हें बताएँ कि उनके किस सूत्र से इस बीमारी की बात पता चली। साथ ही दावा किया कि उन्होंने कभी किसी से रुपए उधार लिए ही नहीं हैं। हालाँकि, उत्पन्ना ने फेसबुक पर कहा कि उन्होंने कोई आरोप नहीं लगाए हैं, सिर्फ मंशा समझाई है। उत्पन्ना ने अपनी सफाई में लिखा:

“मैंने फेसबुक पर अविनाश दास और मेरे वॉट्सऐप चैट के तीन स्क्रीनशॉट शेयर किए थे, सिर्फ इसीलिए कि आप सब को इनकी मंशा समझ आए तो मुझे भी समझाएँ। मैंने आरोप नहीं लगाए थे और आज भी किसी पर कोई आरोप नहीं लगाऊँगी। बस चैट में कही गई बातों को हाईलाइट करके आपसे जानना चाहूँगी कि आप इस चैट का क्या अर्थ समझते हैं? आप ही फ़ैसला करें कि प्रभावशाली पद पर बैठा हुआ कोई व्यक्ति यदि नौकरी चाहने वाली किसी लड़की से एक ही मुलाक़ात के बाद – ध्यान दीजिए, केवल एक मुलाकात के बाद – उसके खाने-रहने का ख़र्चा उठाने को तैयार हो जाए तो क्या यह केवल स्नेहवश है? यदि हाँ, तो मैं जानना चाहूँगी और शायद आप भी जानना चाहेंगे कि अविनाश दास मुंबई में काम की तलाश में आई मुझ जैसी कितनी लड़कियों के खाने और रहने का ख़र्चा उठा रहे हैं या उठाने को तैयार हैं?”

अविनाश ने की उत्पन्ना की खर्च उठाने की पेशकश

उत्पन्ना चक्रवर्ती ने व्हाट्सप्प पर अविनाश दास द्वारा लिखी गई बातों, जैसे कि “मैं इतना किसी से जुड़ता, जितना तुमसे जुड़ गया हूँ और तुमसे बातें कर रहा हूँ“, “पता नहीं क्यों, मुझे भी नहीं मालूम, इसलिए सब सच बोल रहा हूँ। इसे अपने लिए मेरा प्यार मानकर पढ़ना“, की तरफ ध्यान दिलाया। उत्पन्ना ने बताया कि उनके और अविनाश दास बीच केवल एक मुलाक़ात हुई है और वह भी उनके ऑफिस में जब उन्होंने काम के लिए अपने ऑफिस बुलाया था और काम के अलावा इन्होंने बाकी सारी बातें की।

अविनाश दास ने उत्पन्ना को बीमारी होने की बात कही

उत्पन्ना चक्रवर्ती ने बताया कि जब बार-बार अविनाश दास की तरफ से मदद का ऑफर आना बंद नहीं हुआ, तो कुछ इनकी नीयत परखने को और कुछ अपना पीछा छुड़ाने को उन्होंने कहा कि वो अपना घर शिफ्ट कर रही हैं और उन्हें डिपॉजिट के तौर पर पचास हज़ार रुपए की रकम देनी थी, उसमें मदद कर दीजिए। उन्होंने बताया कि ये सुनते ही ‘ख़ुदाई मददगार’ अविनाश दास को अचानक पता लगा कि उन्हें ‘मल्टिपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर’ है और कुछ भूत प्रेत की भी कहानी है।

उन्होंने दावा किया कि अविनाश दास एक साथ ‘बैकग्राउंड वैरीफायर, साईकोलॉजिस्ट और तांत्रिक’ तीनों हो गए। उन्होंने बताया कि जो अविनाश दास उन्हें सख्त न होने की सलाह दे रहे थे और जो प्यार से प्रोड्यूसर पटाने की करियर से जुड़े सलाह दे रहे थे, जब उन्होंने इस मल्टिपल पर्सनालिटी डिसऑर्डर और भूत-प्रेत वाली बात पर सवाल किया तो उन्होंने शशि का हवाला दिया कि तुम भरोसेमंद नहीं हो, तुमने शशि से पैसे लिए थे और लौटाए नहीं।

उत्पन्ना ने फेसबुक पोस्ट कर के अविनाश दास के चैट्स पर उठाए सवाल

बकौल उत्पन्ना चक्रवर्ती, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स का कहना है कि वो यह सब इसलिए कर रही हैं कि उन्होंने अविनाश से 50 हजार रुपए माँगे थे और जब उन्होंने नहीं दिए तो उनको बदनाम करने के लिए चैट के स्क्रीनशॉट सार्वजनिक कर दिए। उत्पन्ना ने बताया कि जब उन्होंने फोन पर ‘भड़ास मीडिया’ के संचालक से बात की तो उनका कहना था कि पर्सनल चैट को इस तरह सार्वजनिक करना ग़लत है और सही-ग़लत समझाते हुए उन्होंने बिना अनुमति लिए या बताए ही वो कॉल टैप करके अपने पोर्टल पर डाल दिया।

ज्ञात हो कि अविनाश दास ‘डीबी स्टार’ से बतौर एडिटर जुड़े थे, जो कि हिंदी अखबार ‘दैनिक भास्कर’ का टैबलॉयड है। वहाँ काम करते हुए जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन की एक महिला विद्यार्थी ने उनके खिलाफ यौन शोषण की लिखित शिकायत की थी। अविनाश अतिथि शिक्षक के रूप में भोपाल की माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में पढ़ाने के लिए जाते थे। विश्वविद्यालय के एक दल द्वारा मामले की जाँच किए जाने पर आरोप सही पाए गए थे और अविनाश दास को ‘दैनिक भास्कर’ द्वारा उनकी नौकरी से निकाल दिया गया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,335FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe