Sunday, July 25, 2021
Homeबड़ी ख़बरमुंबई हमले के दोषी आतंकी तहव्वुर राणा को जल्द भारत लाया जा सकता है

मुंबई हमले के दोषी आतंकी तहव्वुर राणा को जल्द भारत लाया जा सकता है

मुंबई हमले में लगभग 166 लोगों ने अपनी जान गँवाई थी, जिनमें अमरीकी नागरिक भी शामिल थे

वर्ष 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमले के दोषी तहव्वुर राणा को जल्द भारत लाए जाने की संभावना है। मीडिया में आ रही ख़बर के मुताबिक़ भारत सरकार अमरीकी प्रशासन के पूरे सहयोग से आतंकी को भारत लाने की कोशिश की जा रही है।

बता दें कि मुंबई को दहला देने वाले इस कांड की साज़िश रचने वाला आतंकी तहव्वुर राणा पिछले 14 साल से अमरीका की जेल में सज़ा काट रहा है। तहव्वुर को साल 2009 में गिरफ़्तार किया गया था, और उसकी सज़ा 2021 में पूरी होगी।

ख़बरों के अनुसार, भारत सरकार ट्रम्प प्रशासन की मदद से पाकिस्तानी-कैनिडियन नागरिक के प्रत्यर्पण के लिए सभी ज़रूरी काग़ज़ी कार्रवाई पूरा कर रही है। राणा को 2013 में 14 साल की सज़ा सुनाई गई थी, जो अब 2021 को रिहा किया जाएगा।

मुंबई को दहला देने की साज़िश को तहव्वुर राणा ने रचा था और पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मिलकर उसे अंजाम तक पहुँचाया था। इन 10 हमलावर आतंकियों में से 9 आतंकियों को मौक़े पर ही ढेर कर दिया गया था, जबकि बाक़ी ज़िंदा बचे 1 आतंकी (अजमल कसाब) को फ़ाँसी दे दी गई थी।

इस जानलेवा आतंकी हमले में लगभग 166 लोगों ने अपनी जान गँवाई थी, जिनमें अमरीकी नागरिक भी शामिल थे। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि अमरीका में राणा की सज़ा पूरी होने के बाद उसे भारत लाया जा सकता है। प्रत्यर्पण प्रक्रिया के धीमे होने से तहव्वुर राणा के भारत आने तक के सफर में भले ही थोड़ा विलंब हो, लेकिन भारत सरकार की यह कोशिश पुरज़ोर पर है कि राणा को जल्द से जल्द भारत लाया जाए और इसके लिए सभी ज़रुरी कार्रवाई समय पर पूरी की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सचिन पायलट को CM बनाओ’: कॉन्ग्रेस के बड़े नेताओं के सामने जम कर हंगामा, मंत्रिमंडल विस्तार से पहले बुलाई थी बैठक

राजस्थान में मंत्रिमंडल में फेरबदल से पहले ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट के समर्थकों के बीच बहस और हंगामेबाजी हुई।

‘गाँधी की हत्या के बाद कॉन्ग्रेस ने करवाया था ब्राह्मणों का नरसंहार, पुलिस ने दर्ज नहीं किया एक भी केस’: इतिहासकार का खुलासा

लेखक व इतिहासकार विक्रम सम्पत ने कहा है कि महात्मा गाँधी की हत्या के बाद ब्राह्मण-विरोधी नरसंहार कॉन्ग्रेस नेताओं ने करवाया था। एक भी केस दर्ज नहीं किया गया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,128FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe