Wednesday, February 8, 2023
Homeदेश-समाजहिंदू महिला, मुस्लिम प्रेमी व लिव-इन: पति-बच्चों को छोड़ इस्लाम अपनाया लेकिन...

हिंदू महिला, मुस्लिम प्रेमी व लिव-इन: पति-बच्चों को छोड़ इस्लाम अपनाया लेकिन…

निधि के दो बच्चे भी हैं। बावजूद इसके उसने जुलाई में अपने पति को छोड़ दिया और इंतज़ार के साथ रहने लगी थी। उसने इस्लाम अपनाते हुए अपना नाम बदलकर इकरा रख लिया था।

दिल्ली के उस्मानपुर में लव-जिहाद का एक मामला सामने आया है। इंतज़ार नाम का युवक निधि नाम की लड़की को प्यार के झांसे में लेकर लिव-इन में रहता है। जब युवती ने शादी का दबाव डाला तो मौत के घाट उतार दिया। बिजनौर के खत्रियान गाँव में रहने वाले इंतज़ार को पुलिस ने उस वक्त गिरफ़्तार किया, जब वो शव को दफन करने की कोशिश कर रहा था।

दरअसल, युवक ने युवती की हत्या दिल्ली में की और उसके बाद दिल्ली से बिजनौर जाने के लिए एक कार किराए पर लेकर निधि के शव को ठिकाने लगाने गाँव चला गया। जिसके बाद स्थानीय लोगों को उस पर शक हुआ, तो इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुँची यूपी पुलिस ने महिला के शव को कब्जे में लेकर दिल्ली पुलिस को सौंप दिया। दिल्ली पुलिस ने आरोपी से पूतताछ कर पूरे मामले का खुलासा किया। इंतजार ने गुनाह कबूल करते हुए कहा कि शादी का दबाव बनाने के चलते दोनों में बहस हुई थी, जिसके बाद उसने निधि की हत्या की।

मामले पर डिप्टी पुलिस कमिश्नर (पूर्वोत्तर) अतुल ठाकुर ने कहा, “हमने गुरुवार को एक टीम बिजनौर भेजी और आरोपी को शनिवार को दिल्ली लाया गया।” एक पुलिस अधिकारी की मानें तो, पहले इंतज़ार ने दिल्ली में शव को एक नाले में फेंकने की कोशिश की थी, लेकिन गणतंत्र दिवस के कारण सुरक्षा व्यवस्था ज्यादा थी, इसलिए वो इसमें सफल नहीं हुआ।

फेसबुक के जरिए हुई थी दोनों की दोस्ती

इंतजार और निधि की दोस्ती फेसबुक के जरिए हुई थी। इसके बाद दोनों ने मिलना शुरू किया था। हालाँकि निधि की शादी पहले ही दिल्ली के एक व्यापारी संजय मिश्रा से हो चुकी थी। निधि के दो बच्चे भी हैं, बावजूद इसके उसने जुलाई में अपने पति को छोड़ दिया और इंतज़ार के साथ रहने लगी थी। यही नहीं उसने इस्लाम अपनाते हुए अपना नाम बदलकर इकरा रख लिया था। निधि के छोड़ने के बाद संजय ने पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आफताब ने श्रद्धा की हड्डियों को पीस कर बनाया पाउडर, जला डाला चेहरा, डस्टबिन में डाल दी थी आँतें, ₹2000 की ब्रीफकेस में पैक...

आफताब ने पुलिस को यह भी बताया है कि उसने जिस दिन श्रद्धा की हत्या की थी। उसी दिन श्रद्धा के अकांउट से अपने अकाउंट में 54000 रुपए भेजे थे।

‘मैं रामचरितमानस को नहीं मानती, तुलसीदास कोई संत नहीं’: सपा MLA को तुलसीदास के ग्रन्थ से दिक्कत, कहा – हिम्मत है तो मेरी ताड़ना...

सपा विधायक पल्लवी पटेल ने कहा है कि वह रामचरितमानस को नहीं मानती हैं और इसमें शूद्र शब्द हटाने के लिए आंदोलन करेंगी। उनके लिए तुलसीदास संत नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
244,326FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe