Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजहिंदू महिला, मुस्लिम प्रेमी व लिव-इन: पति-बच्चों को छोड़ इस्लाम अपनाया लेकिन...

हिंदू महिला, मुस्लिम प्रेमी व लिव-इन: पति-बच्चों को छोड़ इस्लाम अपनाया लेकिन…

निधि के दो बच्चे भी हैं। बावजूद इसके उसने जुलाई में अपने पति को छोड़ दिया और इंतज़ार के साथ रहने लगी थी। उसने इस्लाम अपनाते हुए अपना नाम बदलकर इकरा रख लिया था।

दिल्ली के उस्मानपुर में लव-जिहाद का एक मामला सामने आया है। इंतज़ार नाम का युवक निधि नाम की लड़की को प्यार के झांसे में लेकर लिव-इन में रहता है। जब युवती ने शादी का दबाव डाला तो मौत के घाट उतार दिया। बिजनौर के खत्रियान गाँव में रहने वाले इंतज़ार को पुलिस ने उस वक्त गिरफ़्तार किया, जब वो शव को दफन करने की कोशिश कर रहा था।

दरअसल, युवक ने युवती की हत्या दिल्ली में की और उसके बाद दिल्ली से बिजनौर जाने के लिए एक कार किराए पर लेकर निधि के शव को ठिकाने लगाने गाँव चला गया। जिसके बाद स्थानीय लोगों को उस पर शक हुआ, तो इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुँची यूपी पुलिस ने महिला के शव को कब्जे में लेकर दिल्ली पुलिस को सौंप दिया। दिल्ली पुलिस ने आरोपी से पूतताछ कर पूरे मामले का खुलासा किया। इंतजार ने गुनाह कबूल करते हुए कहा कि शादी का दबाव बनाने के चलते दोनों में बहस हुई थी, जिसके बाद उसने निधि की हत्या की।

मामले पर डिप्टी पुलिस कमिश्नर (पूर्वोत्तर) अतुल ठाकुर ने कहा, “हमने गुरुवार को एक टीम बिजनौर भेजी और आरोपी को शनिवार को दिल्ली लाया गया।” एक पुलिस अधिकारी की मानें तो, पहले इंतज़ार ने दिल्ली में शव को एक नाले में फेंकने की कोशिश की थी, लेकिन गणतंत्र दिवस के कारण सुरक्षा व्यवस्था ज्यादा थी, इसलिए वो इसमें सफल नहीं हुआ।

फेसबुक के जरिए हुई थी दोनों की दोस्ती

इंतजार और निधि की दोस्ती फेसबुक के जरिए हुई थी। इसके बाद दोनों ने मिलना शुरू किया था। हालाँकि निधि की शादी पहले ही दिल्ली के एक व्यापारी संजय मिश्रा से हो चुकी थी। निधि के दो बच्चे भी हैं, बावजूद इसके उसने जुलाई में अपने पति को छोड़ दिया और इंतज़ार के साथ रहने लगी थी। यही नहीं उसने इस्लाम अपनाते हुए अपना नाम बदलकर इकरा रख लिया था। निधि के छोड़ने के बाद संजय ने पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक शक्तिपीठ जहाँ गर्भगृह में नहीं है प्रतिमा, जहाँ हुआ श्रीकृष्ण का मुंडन संस्कार: गुजरात का अंबाजी मंदिर

गुजरात के बनासकांठा जिले में राजस्थान की सीमा पर अरासुर पर्वत पर स्थित है शक्तिपीठों में से एक श्री अरासुरी अंबाजी मंदिर।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,576FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe