Sunday, May 29, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाRDX के साथ पकड़े गए आतंकियों के परिजन और रिश्तेदार गायब, हिंदुवादी नेताओं की...

RDX के साथ पकड़े गए आतंकियों के परिजन और रिश्तेदार गायब, हिंदुवादी नेताओं की कर चुके हैं हत्या: जयपुर में बम प्लांट कर सरगना को भेजना था Video

आतंकी नेटवर्क से जुड़े लोगों की तलाश में उज्जैन, इंदौर, मंदसौर और नीमच जिलों में छापेमारी की जा रही है। इस मामले में NIA भी सक्रिय हो गई है।

राजस्थान पुलिस की ATS और SOG विंग ने बुधवार (30 मार्च 2022) को चित्तौड़गढ़ जिले से 12 किलोग्राम विस्फोटक के साथ 3 आतंकियों को गिरफ्तार किया था। इनके नाम जुबेर, सैफुल्लाह और अल्तमस हैं। ये अल सुफा नाम के आतंकी संगठन से जुड़े हैं। इनसे हुई पूछताछ के बाद मध्य प्रदेश की रतलाम पुलिस ने लगभग 25 अन्य लोगों को हिरासत में लिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जुबेर, सैफुल्लाह और अल्तमस की गिरफ्तारी के बाद इनके परिजन और रिश्तेदार अपने घरों पर ताला लगा गायब हैं। तीनों के घर रतलाम में हैं। सैफुल्लाह उर्फ़ सरफुद्दीन शेरानीपुर, जुबेर आनंद नगर और अल्तमस ऑफिसर कॉलोनी का रहने वाला है। इन तीनों आतंकियों के 2 अन्य सहयोगियों को राजस्थान ATS ने हिरासत में ले लिया है।

तीनों आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद इनके नेटवर्क पर राजस्थान और मध्यप्रदेश पुलिस मिल कर छापेमारी कर रही है। इस नेटवर्क के कई संदिग्धों के हवाई जहाज से भी भागने का अंदेशा है, जिसके चलते भोपाल और इंदौर एयरपोर्ट पर भी कड़ी निगरानी की जा रही है। इस आतंकी नेटवर्क से जुड़े लोगों की तलाश में उज्जैन, इंदौर, मंदसौर और नीमच जिलों में छापेमारी की जा रही है। इस मामले में NIA भी सक्रिय हो गई है। बताया जा रहा है कि NIA के अधिकारी जयपुर पहुँचने वाले हैं।

सैफुल्लाह, अल्तमस और जुबेर की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने तीनों का आपराधिक रिकॉर्ड खंगाला है। तीनों आतंकी इससे पहले हिंदुवादी नेताओं की हत्या में शामिल रह चुके हैं। रतलाम में वर्ष 2017 में तरुण सांखला की हत्या में जुबेर और अल्तमस शामिल थे। सैफुल्लाह उर्फ़ सरफुद्दीन साल 2014 में हुई कपिल की हत्या में आरोपित है।

जिस कार में विस्फोटक मिला वह इमरान अंसारी के नाम से रजिस्टर्ड है। इमरान भी रतलाम का ही रहने वाला है। जयपुर में बम प्लांट कर आतंकियों को उसका वीडियो बनाना था और उसे अपने आका को व्हाट्सएप पर भेजना था। गिरफ्तारी के दिन पुलिस ने चेकप्वाइंट पर रोका तो आतंकियों ने अपनी कार की स्पीड बढ़ा दी। आखिरकार पुलिस ने कार के आगे बैरियर अड़ा दिया। पकड़े जाने के बाद पुलिस को रिश्वत की भी पेशकश की। कोर्ट ने तीनों आरोपितों को 8 दिन के रिमांड पर भेज दिया है। आगे की जाँच ATS कर रही है।

आतंकी संगठन अल सुफा लगभग 50 चरमपंथियों का समूह है। यह अक्सर स्लीपर सेल की भूमिका में रहता है और युवाओं को आतंकवाद के लिए बरगलाता है। साल 2014 में इस संगठन के लोगों ने रतलाम के महू रोड बस स्टैंड पर बजरंग दल के नेता कपिल राठौड़ और उनकी होटल पर काम करने वाले पुखराज की हत्या कर दी थी। सितम्बर 2017 में इसी से जुड़े लोगों ने रतलाम में ही तरुण सांखला की गोली मार कर हत्या कर दी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नूपुर शर्मा का सिर कलम करने वाले को ₹20 लाख इनाम का ऐलान, बताया ‘गुस्ताख़-ए-रसूल’: मुस्लिमों को उकसा रहा AltNews वाला जुबैर

तहरीक-ए-लब्बैक (TLP) वही समूह है जिसने कुछ दिनों सियालकोट में पहले श्रीलंकाई नागरिक की हत्या कर दी थी। अब नूपुर शर्मा का सिर कलम करने पर रखा इनाम।

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe