Wednesday, May 25, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाअसम में अलकायदा से जुड़े 5 आतंकी गिरफ्तार, बड़ी जिहादी साजिश का भंडाफोड़: दबोचे...

असम में अलकायदा से जुड़े 5 आतंकी गिरफ्तार, बड़ी जिहादी साजिश का भंडाफोड़: दबोचे गए सैफुल, खैरुल, सुलेमान, नौशान और तैमूर

इनकी साजिश थी कि असम के बारपेटा को जिहादी कार्य के लिए आधार के रूप में विकसित किया जा सके और अल-कायदा की गैरकानूनी गतिविधियों को अंजाम दिया जा सके।

असम पुलिस ने शुक्रवार (4 मार्च, 2022) को पाँच आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। इन लोगों पर बांग्लादेश से बाहर के एक संगठन से जुड़ने का आरोप है जिसका संबंध अलकायदा (Al-Qaeda) से है। इन आरोपितों को असम के हाउली, बारपेटा और कलगछिया से गिरफ्तार किया गया है। 

मामले की आगे की जाँच में पुलिस जुटी है। पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत ने शनिवार को इसकी जानकारी दी। महंत ने कहा कि राज्य पुलिस की विशेष शाखा द्वारा साझा की गई एक खुफिया रिपोर्ट के आधार पर, बारपेटा पुलिस ने हाउलिया और कलगछिया पुलिस थानों के इलाकों से पाँच लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों की पहचान सैफुल इस्लाम उर्फ हारुन राशिद उर्फ मोहम्मद सुमन, खैरुल इस्लाम, बादशाह सुलेमान खान, नौशाद अली और तैमूर रहमान खान के रूप में हुई है।

एक आधिकारिक प्रेस रिलीज में कहा गया है कि बांग्लादेश के नागरिक मोहम्मद सुमन ने अवैध रूप से भारत में प्रवेश किया और एक मस्जिद में शिक्षक के रूप में काम कर रहा था। उसने कथित तौर पर अन्य चार को अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (ABT) के मॉड्यूल में शामिल होने के लिए प्रेरित किया, ताकि बारपेटा को जिहादी कार्य के लिए आधार के रूप में विकसित किया जा सके और अल-कायदा की गैरकानूनी गतिविधियों को अंजाम दिया जा सके। आरोपितें के पास से आपत्तिजनक दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण भी बरामद किए गए हैं।

गौरतलब है कि पिछले दिनों राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आईईडी विस्फोट की साजिश में शामिल अलकायदा (Al-Qaeda) के एक सदस्य को गिरफ्तार किया था। जाँच एजेंसी के एक अधिकारी ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले के निवासी तौहीद अहमद शाह (Tawheed Ahmad Shah) को गिरफ्तार किया गया। इससे पहले एनआईए ने इस मामले में 5 आरोपितों को गिरफ्तार किया था, जिनके खिलाफ 5 जनवरी 2022 को चार्जशीट दाखिल की गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

आतंकी यासीन मलिक को उम्रकैद: टेरर फंडिग में सजा के बाद बजे ढोल, श्रीनगर में कट्टरपंथियों ने की पत्थरबाजी

कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं के नरसंहार के आरोपित यासीन मलिक को टेरर फंडिंग केस में 25 मई को सजा मुकर्रर हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,731FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe