Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजउत्तर प्रदेश में बम ब्लास्ट की साजिश का पर्दाफाश, NIA ने अलकायदा आतंकी तौहीद...

उत्तर प्रदेश में बम ब्लास्ट की साजिश का पर्दाफाश, NIA ने अलकायदा आतंकी तौहीद अहमद शाह को गिरफ्तार किया: कश्मीर का है रहने वाला

"उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने पिछले साल 14 जुलाई को अलकायदा से जुड़े तीन संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया था।"

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने सोमवार (7 फरवरी 2022) को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आईईडी विस्फोट की साजिश में शामिल अलकायदा (Al-Qaeda) के एक सदस्य को गिरफ्तार किया। जाँच एजेंसी के एक अधिकारी ने मंगलवार (8 फरवरी, 2022) को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले के निवासी तौहीद अहमद शाह (Tawheed Ahmad Shah) को गिरफ्तार किया गया। इससे पहले एनआईए ने इस मामले में 5 आरोपितों को गिरफ्तार किया था, जिनके खिलाफ 5 जनवरी 2022 को चार्जशीट दाखिल की गई थी।

एनआईए अधिकारी ने कहा, “उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने पिछले साल 14 जुलाई को अलकायदा से जुड़े तीन संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया था। इनकी पहचान शकील, मो मुस्तकीम और मुईद के तौर पर हुई थी। इन तीनों ने लखनऊ में आतंकवादी घटना को अंजाम देने के लिए अल-कायदा के सहयोगी संगठन अंसार गजवतुल हिंद (एजीएच) के लिए सदस्यों की भर्ती करने की साजिश रची थी।”

एनआईए अधिकारी ने यह भी बताया कि तौहीद उत्तर प्रदेश में हमलों के लिए इस्तेमाल होने वाले हथियारों, गोला-बारूद और विस्फोटक सामग्री की खरीद सहित एजीएच के नाम पर भर्ती और आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने का मास्टरमाइंड था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दिखाता खुद को सेकुलर है, पर है कट्टर इस्लामी’ : हिंदू पीड़िता ने बताया आकिब मीर ने कैसे फँसाया निकाह के जाल में, ठगे...

पीड़िता ने ऑपइंडिया को बताया कि आकिब खुद को सेकुलर दिखाता है, लेकिन असल में वो है इस्लामवादी। उसने महिला से कहा हुआ था वह हिंदू देवताओं को न पूजे।

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -