Friday, July 1, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाकश्मीर स्वर्ग नहीं, हमारे लिए नर्क है: मृतक शिक्षक दीपक चंद के रिश्तेदार ने...

कश्मीर स्वर्ग नहीं, हमारे लिए नर्क है: मृतक शिक्षक दीपक चंद के रिश्तेदार ने कहा- ‘अभी भी मिल रही है धमकी’

आतंकी हमले में अपनी जान गंवाने वाले शिक्षक दीपक चंद के एक रिश्तेदार का कहना है, "हमें अभी भी धमकी भरे फोन आ रहे हैं। कश्मीर स्वर्ग नहीं है, नर्क है। हमें पिछले 30 सालों से निशाना बनाया जा रहा है।"

जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में आतंकी लगातार गैर-मुस्लिम समुदाय को टारगेट कर हमले कर रहे हैं। इसी क्रम में गुरुवार को श्रीनगर में दो शिक्षकों की हत्या कर दी गई। इस केंद्र-शासित प्रदेश के उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा ने इस्लामी आतंकियों की इस कायराना हरकत की कड़ी निंदा की है।

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, राज्यपाल सिन्हा ने घटना की निंदा करते हुए कहा, “निर्दोंष लोगों पर आतंकी हमले करने वालों को करारा जबाव दिया जाएगा। आतंकी और उनके आका जम्मू-कश्मीर में शांति भंग करने, यहाँ की प्रगति को रोकने और खलल पैदा करने में कभी भी सफल नहीं होंगे।”

वहीं, इस घटना को लेकर राज्य के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा, “बीते कुछ दिनों में जिस तरह से आम नागरिकों को टारगेट करने की घटनाएँ हुई हैं, ये अपने आप में दरिंदगी, वहशत और दहशत का बड़ा उदाहरण है। इसमें समाज की सेवा में लगे बेगुनाह लोग, जिनका किसी से भी कोई लेना-देना नहीं है उन्हें टारगेट किया जा रहा है। इस तरह की हत्याएँ इसलिए की जा रही हैं, ताकि एक साम्प्रदायिक माहौल बनाया जा सके। ये लोग भाइचारे को बिगाड़ने की साजिश रच रहे हैं।”

डीजीपी ने आगे कहा, “ये पाकिस्तान की साजिश है। वे लोग कश्मीर की इमेज को धूमिल करने की कोशिश कर रहे हैं। ये स्थानीय कश्मीरी मुस्लिमों को बदनाम करने की साजिश है, जिसे हम जल्द ही बेनकाब करेंगे।”

हत्या के पीछे पाक का हाथ

श्रीनगर के मेयर जुनैद मट्टू ने दावा किया है कि इस आतंकी हमले के पीछे पाक समर्थित तत्व हैं। उन्होंने कहा, “हम सभी को सड़कों पर उतरना चाहिए और एक समाज के रूप में एक स्टैंड लेना चाहिए कि हम इसकी अनुमति नहीं देंगे। मैं सभी समुदायों से एक साथ खड़े होने की अपील करता हूँ। कश्मीर सभी धार्मिक विश्वासों के लोगों का है।”

गुरुवार को आतंकी हमले में अपनी जान गंवाने वाले शिक्षक दीपक चंद के एक रिश्तेदार का कहना है, “हमें अभी भी धमकी भरे फोन आ रहे हैं। कश्मीर स्वर्ग नहीं है, नर्क है। हमें पिछले 30 सालों से निशाना बनाया जा रहा है।”

बता दें कि बीते कुछ दिनों से जिस तरह से कश्मीर में गैर मुस्लिम समुदाय के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। इससे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि जिस तरह से 90 के दशक में आतंकियों ने घाटी में आतंक फैलाया था उसकी फिर से शुरुआत की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,261FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe