Saturday, July 31, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा₹4 हजार दे भारत की सीमा से सटे नेपाली इलाकों में बस रहे रोहिंग्या,...

₹4 हजार दे भारत की सीमा से सटे नेपाली इलाकों में बस रहे रोहिंग्या, जेहादी संगठन का हाथ

पिछले दिनों खुफिया एजेंसियों ने जानकारी दी थी कि आईएसआई ने भारत में आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए रोहिंग्याओं का एक दस्ता तैयार किया है। इसके लिए करीब 40 रोहिंग्याओं को ट्रेनिंग दी जा रही है। इसमें आंतकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन आईएसआई की मदद कर रहा है।

सीएए और एनआरसी की सख्ती के बाद रोहिंग्याओं का नया ठिकाना बनकर नेपाल उभरा है। भारत में अवैध तरीके से रह रहे रोहिंग्याओं अब नेपाल में जाकर बस रहे हैं। अब तक लगभग 378 रोहिंग्या नेपाल में बस चुके हैं। इसके पीछे जेहादी संगठन इस्लामिक संघ नेपाल (आईएसएन) का हाथ बताया जा रहा है। जमीन खरीद कर इन्हें बसाने के लिए बड़े पैमाने पर फंडिंग की जा रही है।

जानकारी के मुताबिक वे नेपाल की नागरिकता से संबंधित दस्तावेज हासिल करने के लिए रोहिंग्या हजारों रुपए रिश्वत भी दे रहे हैं। कुछ मामलों में बिचौलियों को नेपाल में बसने के लिए 4-50 हजार रुपए तक कमीशन दिए जा रहे हैं। नेपाल के ढाढिंग जिले में रोहिंग्याओं के करीब 35 अस्थायी घर भी देखे गए हैं, जो पिछले कुछ दिनों में बने हैं।

भारत-नेपाल सीमा पर बीरगंज, बिरतमोड और बर्गनिया के रास्ते रुपए लेकर कुछ संगठन नेपाल में प्रवेश दिला रहे हैं। इसी तरह लासंतूर में 104 रोहिंग्या और इसी समुदाय के कुछ लोगों के पनौती जिले में भी बसने की खबर मिली है। रुपन्देही में ऐसे ही 20 परिवारों को काठमांडू से लाकर बसाया गया है। जानकारी के मुताबिक जिहादी संगठनों और बिचौलियों के मदद से ये रोहिंग्या भारतीय सीमा से सटे क्षेत्र में जमीन भी खरीद रहे हैं।

इसको लेकर भारतीय खुफिया सुरक्षा एजेंसियाँ काफी चौकन्नी हो गई हैं। एजेंसियाँ सीमावर्ती क्षेत्र में रोहिंग्या परिवारों की हर गतिविधि पर नजर रख रही हैं। फंडिंग की रिपोर्ट खुफिया एजेंसियों ने गृह मंत्रालय को भेजी है। गृह मंत्रालय का कहना है कि रोहिंग्या की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने की जरूरत है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई लंबे वक्त से भारत-नेपाल सीमा पर लश्कर और जैश जैसे आतंकी गुटों के बेस बनाने की साजिश में लगी हुई है। ऐसे में रोहिंग्या की सीमा पर बसने को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए। यह भारत के खिलाफ साजिश का हिस्सा भी हो सकता है।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों खुफिया एजेंसियों ने जानकारी दी थी कि पाकिस्तान की कुख्यात खुफिया एजेंसी आईएसआई ने भारत में आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए रोहिंग्याओं का एक दस्ता तैयार किया है। बताया गया कि भारत पर हमले के लिए आईएसआई करीब 40 रोहिंग्याओं को बांग्लादेश में ट्रेनिंग दे रही है। इसमें बांग्लादेशी आंतकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन (जेएमबी) आईएसआई की मदद कर रहा है।

समुद्र के रास्ते घुसी रोहिंग्याओं की पलटन, अंडमान में पैर रखते ही पकड़े गए

20 साल पुराने निर्जन टापू पर रखे जाएँगे 1 लाख रोहिंग्या , चारों तरफ फैला है पानी

ईसाइयों पर टूट पड़े रोहिंग्या: चर्च में तोड़फोड़, बाइबिल फाड़ डाला

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20 से ज्यादा पत्रकारों को खालिस्तानी संगठन से कॉल, धमकी- 15 अगस्त को हिमाचल प्रदेश के CM को नहीं फहराने देंगे तिरंगा

खालिस्तान समर्थक सिख फॉर जस्टिस ने हिमाचल प्रदेश के 20 से अधिक पत्रकारों को कॉल कर धमकी दी है कि 15 अगस्त को सीएम तिरंगा नहीं फहरा सकेंगे।

‘हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेजी’: PM मोदी के खिलाफ पोस्टर पर 25 FIR, रद्द करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना वाले पोस्टर चिपकाने को लेकर दर्ज एफआईआर को रद्द करने से इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,090FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe