Sunday, October 17, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापटना: पकड़े गए दो संदिग्ध बांग्लादेशी, पुलवामा हमले से जुड़े काग़ज़ात बरामद

पटना: पकड़े गए दो संदिग्ध बांग्लादेशी, पुलवामा हमले से जुड़े काग़ज़ात बरामद

दोनों संदिग्ध बिना किसी पासपोर्ट, वीजा या वैध दस्तावेज के अवैध रूप से बांग्लादेश सीमा पार कर भारत में प्रवेश कर गए थे और दोनों अपनी पहचान छिपाने के लिए फ़र्ज़ी भारतीय मतदाता पत्र बनवाकर उसका इस्तेमाल कर रहे थे।

बिहार पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स को बड़ी कामयाबी मिली है। बता दें कि पटना पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर पटना रेलवे स्टेशन के पास घूम रहे दो बांग्लादेशी नागरिकों को संदिग्ध अवस्था में गिरफ्तार किया है। दोनों के पास से कई संदिग्ध कागजात बरामद हुए हैं। पुलिस के मुताबिक पकड़े गए दोनों शख्स बांग्लादेश के प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जमीयत-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश और इस्लामिक स्टेट बांग्लादेश के सक्रिय सदस्य हैं।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को उनके पास से जम्मू के पुलवामा की घटना से जुड़े कुछ कागजात मिले हैं। दोनों के पास से पुलिस की टीम को अर्धसैनिक बलों की प्रतिनियुक्ति संबंधी रिपोर्ट की कॉपी भी मिली है। पुलिस ने इस कार्रवाई में दोनों के पास से आईएसआईएस और अन्य आतंकवादी संगठनों के पोस्टर और पैंपलेट की फोटोकॉपी भी जब्त की है। गिरफ्तार अभियुक्तों के नाम खैरुल मंडल और अबु सुल्तान बताया जा रहा है। फिलहाल पुलिस दोनों को गुप्त स्थान पर ले जाकर पूछताछ कर रही है।

पुलिस के मुताबिक, ये दोनों बिना किसी पासपोर्ट वीजा या वैध दस्तावेज के अवैध रूप से बांग्लादेश सीमा पार कर भारत में प्रवेश कर गए और दोनों ने अपनी पहचान छिपाने के लिए फ़र्ज़ी भारतीय मतदाता पत्र बनवाकर उसका इस्तेमाल कर रहे थे। दोनों देश के विभिन्न शहरों में अपने आतंकी संगठन में जुड़ने के लिए युवकों की तलाश कर रहे थे। इसके साथ ही वो बौद्ध धार्मिक स्थलों पर आतंकी घटना को अंजाम देने के लिए रेकी भी कर रहे थे। दोनों युवक पिछले 11 दिनों से गया शहर में रह रहे थे और ये सीरिया जाकर आतंकी संगठन आईएसआईएस के साथ मिलकर जेहाद में शामिल होना चाहते थे।

गौरतलब है कि 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकी हमले में 40 सीआरपीएफ जवान वीरगति को प्राप्त हुए थे। इस आतंकी हमले की ज़िम्मेदारी प्रतिबंधित संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। भारतीय वायु सेना ने इस आतंकी हमले जवाब पाकिस्तान के बालाकोट पर एयर स्ट्राइक करके दिया था। बता दें कि बीते 2 मार्च को भी बिहार में पुलिस ने एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार संदिग्ध के पुलवामा हमले की साजिश से जुड़े होने की बात सामने आने के बाद पुलिस ने उससे पूछताछ की थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe