Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षायूपी के 30 जिलों में ATS ने मारी ताबड़तोड़ रेड, PFI से जुड़े 55...

यूपी के 30 जिलों में ATS ने मारी ताबड़तोड़ रेड, PFI से जुड़े 55 संदिग्धों को दबोचा: SP नेता अब्दुल खालिक भी हिरासत में

एटीएस ने मेरठ के लिसाड़ीगेट थाना क्षेत्र से अब्दुल खालिक अंसारी और अताउर रहमान नामक व्यक्तियों को हिरासत में लिया है। अब्दुल खालिक समाजवादी पार्टी का नेता है। वह बुलंदशहर से महानगर अध्यक्ष भी है। वहीं, मवाना थाना क्षेत्र से मवाना थाना क्षेत्र से मोहम्मद मूसा नामक व्यक्ति को हिरासत में लेने की बात सामने आई है।

प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर शिकंजा कसता जा रहा है। उत्तर प्रदेश की आतंकवाद रोधी शाखा (UP ATS) ने राज्य के 30 जिलों में छापेमारी कर 55 संदिग्धों को हिरासत में लिया है। ये सभी पीएफआई और उसके सहयोगी संगठनों से जुड़े बताए जा रहे हैं। छापेमारी की यह कार्रवाई शनिवार (6 मई 2023) को शुरू हुई।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, PFI से जुड़े लोगों पर कार्रवाई करने के लिए यूपी एटीएस ने लखनऊ, मेरठ, मुरादाबाद, वाराणसी, आजमगढ़, सहारनपुर, गाजियाबाद समेत कई शहरों में छापेमारी की। शनिवार (6 मई 2023) रात एटीएस ने गाजियाबाद जिले के मोदीनगर क्षेत्र के कई गाँवों में छापेमारी की। घण्टों तक कार्रवाई के बाद एटीएस ने कलछीना और नेकपुर गाँव से 6 लोगों को हिरासत में ले लिया।

इसके अलावा, एटीएस ने मेरठ के लिसाड़ीगेट थाना क्षेत्र से अब्दुल खालिक अंसारी और अताउर रहमान नामक व्यक्तियों को हिरासत में लिया। अब्दुल खालिक समाजवादी पार्टी का नेता है। वह बुलंदशहर से महानगर अध्यक्ष भी है। वहीं, मवाना थाना क्षेत्र से मोहम्मद मूसा नामक व्यक्ति को हिरासत में लेने की बात सामने आई है।

यही नहीं, लखनऊ के विकास नगर में भी एटीएस ने छापा मारते हुए एक व्यक्ति को हिरासत में लिया। विकास नगर में हुई इस कार्रवाई का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है। साथ ही बीकेटी के अचरामऊ गाँव से भी 2 व्यक्तियों को एटीएस अपने साथ ले गई। इनकी पहचान मोहम्मद फरहान और जफर के रूप में हुई। इसके अलावा, रिहाई मंच के अध्यक्ष कथित एक्टिविस्ट मोहम्मद शोएब और एएमयू से पढ़ाई कर रहे नज्म कमर जमां की गिरफ्तारी की बात सोशल मीडिया पर कही जा रही है।

गौरतलब है कि इससे पहले, राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने गत 24 अप्रैल को देशभर के 4 राज्यों में छापेमारी कर PFI से जुड़े कई लोगों को गिरफ्तार किया था। कार्रवाई बिहार, उत्तर प्रदेश, पंजाब और गोवा में हुई। सबसे ज्यादा 12 जगहों पर बिहार में कार्रवाई हुई। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में दो और पंजाब तथा गोवा में एक-एक जगहों पर एजेंसी ने दबिश दी थी।

बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद अब तक एनआईए कई बार छापेमार कार्रवाई कर चुकी है। इस छापेमारी में PFI के कई बड़े नेता और कैडर जाँच एजेंसी के हत्थे चढ़ चुके हैं। अब इन्हीं नेताओं और कैडरों की निशानदेही व इंटेलिजेंस एजेंसी के इनपुट पर एनआईए लगातार इस तरह की कार्रवाई कर रही है। माना जा रहा है कि पीएफआई के बड़े नेताओं की गिरफ्तारी के बाद निचले स्तर के लोग एक बार फिर संगठन को खड़ा करने में जुटे हुए हैं। ज्ञात हो कि देश विरोधी और आतंकी गतिविधियों में संलिप्तता के चलते केंद्रीय गृह मंत्रालय ने PFI पर प्रतिबंध लगाया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -