Friday, August 6, 2021
Homeविविध विषयअन्यपाक के झूठ का पर्दाफाश: नहीं लगा आतंकी हाफिज सईद के संगठनों पर बैन

पाक के झूठ का पर्दाफाश: नहीं लगा आतंकी हाफिज सईद के संगठनों पर बैन

मुंबई हमले सहित कई अन्य हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज का संगठन जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत आज भी पाकिस्तान में खुलेआम चल रहा है।

पाकिस्तान भले ही अमेरिका और भारत समेत सभी देशों से ये कह रहा है कि उसने आतंकी हाफिज सईद के संगठनों जमात-उद-दावा पर बैन लगा दिया है, लेकिन ये सच नहीं है। पाकिस्तान का झूठ एक बार फिर से सामने आ गया है। मुंबई हमले सहित कई अन्य हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज का संगठन जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत आज भी पाकिस्तान में खुलेआम चल रहा है।

बता दें कि पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले के बाद इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक बुलाई, जिसमें आर्मी के शीर्ष ऑफिसर मौजूद थे। इस बैठक में इमरान खान ने बढ़ते वैश्विक दवाब के बाद आतंकी हाफिज सईद के नेतृत्व वाले जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन पर प्रतिबंध लगाने की बात कही थी।

लेकिन अभी हाल ही में एक रिपोर्ट आई है। जिसके मुताबिक पाकिस्तान द्वारा कही ये बात भी झूठी निकली, क्योंकि जो लिस्ट सामने आई है उससे खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान सरकार की तरफ से इन संगठनों पर बैन नहीं लगाया गया है। इसमें उन संगठनों पर सिर्फ निगरानी रखने की बात कही गई है।

पाकिस्तान के इस झूठ से साफ जाहिर हो रहा है कि पाकिस्तान जो शांति और आतंकवाद से लड़ने की बात कर रहा है, वो महज एक दिखावा भर है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,145FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe