Friday, May 31, 2024
Homeबड़ी ख़बर9 सेकंड का खेल... PM मोदी ऐसे जीत लेते हैं अपने कार्यकर्ताओं का दिल

9 सेकंड का खेल… PM मोदी ऐसे जीत लेते हैं अपने कार्यकर्ताओं का दिल

पीएम मोदी की यह ख़ासियत रही है। विदेश दौरों पर भी वह प्यार से कभी किसी बच्चे के कान खींचते नज़र आते हैं, तो कभी मदमस्त अंदाज़ में ड्रम बजाते।

नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता किसी से छिपी नहीं है। और ऐसा नहीं है कि यह प्रधानमंत्री बनने के बाद हुआ है। लोगों से स्वतः जुड़ जाना उनकी आदत कह सकते हैं आप। अपनी संस्था या अपने मातहत लोगों को नाम से याद रखना उनकी फितरत है। बदले में लोग भी उन्हें टूट कर प्यार करते हैं।

भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में PM मोदी जब सुरक्षा दलों से घिर कर चल रहे थे तो अचानक से एक शख़्स की ओर मुड़ गए। और डाँटने वाले अंदाज़ में पूछा – “क्यों रे बाला, तेरी किताब नहीं मिली यार, कौन-सी किताब लिखी तुमने?” इसके बाद उस कार्यकर्ता के कान पकड़ खींचे भी और कंधे पर एक चपत भी लगाई।

पीएम मोदी की यह ख़ासियत रही है। विदेश दौरों पर भी वह प्यार से कभी किसी बच्चे के कान खींचते नज़र आते हैं, तो कभी मदमस्त अंदाज़ में ड्रम बजाते। हालाँकि, उनकी आलोचना करने वाले इन पर भी कह देते हैं – ‘बच्चों के कान ऐसे तो मत खींचो। शायद कल तक कोई कह भी दे – मोदी ने अपने कार्यकर्ता को मारा थप्पड़!

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -