Monday, June 17, 2024
Homeरिपोर्टराजद विधायक प्रह्लाद यादव की सरेआम गुंडागर्दी, जमीन विवाद में मार-पीट

राजद विधायक प्रह्लाद यादव की सरेआम गुंडागर्दी, जमीन विवाद में मार-पीट

12 मई 2002 में बालू उठाव के दौरान जातिय रंजिश में 14 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था। इस मामले में मोस्ट वांटेड विधायक प्रह्लाद यादव के भाई जीवन यादव पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था।

बिहार के लखीसराय से एक वीडियो वायरल हो रही है। यह वीडियो राजद के सूर्यगढ़ा विधायक प्रह्लाद यादव की है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने प्रह्लाद यादव से जुड़े 34 सेकेंड के इस वीडियो को ट्वीटर पर साझा किया है। इस वीडियो में प्रह्लाद यादव एक शख्स को थप्पड़ मारते हुए दिख रहे हैं। यही नहीं कई बार माँ-बहन से जुड़ी गंदी गालियाँ देते हुए भी राजद विधायक को इस वीडियो में सुना जा सकता है। इस पूरे वीडियो को देखने पर यह स्पष्ट हो जाता है कि यह मामला जमीन विवाद से जुड़ा हुआ है। एएनआई ने अपने ट्वीट में लिखा है कि इस मामले में एक मुकदमा रजिस्टर कर लिया गया है।

प्रह्लाद यादव की शह पर जीवन यादव ने नबालिग को बेरहमी से पीटा था

यह अक्टूबर 2016 की बात है। लखीसराय विधायक प्रह्लाद यादव से जुड़ी एक ख़बर मुख्यधारा की मीडिया आ रही थी। इस ख़बर में राजद विधायक प्रह्लाद यादव और उनके भाई के दबंगई की चर्चा की गई थी। दरअसल राजद विधायक के भाई ने राजा कुमार नाम के एक नाबालिग को जमकर पीटा था। अपने विधायक भाई की शह पर जीवन ने इस घटना को अंजाम दिया था। राजा विधायक और उसके भाई के आतंक का शिकार सिर्फ इसलिए हो गया था, क्योंकि उसने अपने जमीन पर विधायक के भाई द्वारा जबरन कब्ज़े का विरोध किया था। लखीसराय में प्रह्लाद यादव का आतंक कुछ इस तरह है कि लोग उसके ख़िलाफ़ बोलने के लिए मुँह तक नहीं खोलते।

2002 में विधायक के भाई पर 14 लोगों की हत्या का आरोप

जानकारी के लिए आपको बता दें कि प्रह्लाद यादव और उनके भाई जीवन यादव लखीसराय व आसपास जिला में बड़े बालू माफ़िया के रूप में जाने जाते हैं। 12 मई 2002 में बालू उठाव के दौरान जातिय रंजिश में 14 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था। इस मामले में मोस्ट वांटेड विधायक प्रह्लाद यादव के भाई जीवन यादव पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -