Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजछुट्टा गायों को गौशाला पहुँचाने के लिए सेल्फी विद काउ की शुरुआत

छुट्टा गायों को गौशाला पहुँचाने के लिए सेल्फी विद काउ की शुरुआत

इस पहल से जहाँ एक्सीडेंट में कमी आएगी, वहीं ट्रैफिक व्यवस्था में भी सुधार होगा। साथ ही इस अभियान से ऐसे शहरों को भी प्रेरणा मिलेगी, जहाँ सड़क पर छुट्टा गायों के घूमने से लोग परेशान हैं।

नोएडा में कुछ युवाओं द्वारा ‘सेल्फी विद काउ’ अभियान की शुरुआत की गई है। इस अभियान का उद्देश्य सड़क पर या उसके किनारे बेतरतीब बैठी छुट्टा गायों को सेक्टर-63 के वाजिदपुर स्थित नए काऊ शेल्टर में पहुँचाना है। जिससे ट्रैफिक व्यवस्था सुचारु रूप से चलती रहे।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अभियान की शुरुआत करने वाले अमित गुप्ता, अभय पांडेय और सचिन गोयल के पहल को स्थानीय लोगों का भी साथ मिलना शुरू हो गया है।

सेल्फी विद काऊ (फोटो साभार: टाइम्स ऑफ इंडिया)

स्थानीय लोग द्वारा जहाँ-तहाँ बैठी गायों के साथ सेल्फी लेकर नगर निगम प्रशासन को टैग कर रहे हैं। ऐसे में उन पर दबाव बन रहा है कि वह गायों को नए बने काऊ शेल्टर पहुँचाए।

इस पहल से जहाँ एक्सीडेंट में कमी आएगी, वहीं ट्रैफिक व्यवस्था में भी सुधार होगा। साथ ही इस अभियान से ऐसे शहरों को भी प्रेरणा मिलेगी, जहाँ सड़क पर छुट्टा गायों के घूमने से लोग परेशान हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इंशाअल्लाह, राम मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन चुकी है’: धमकी के बाद अयोध्या में अलर्ट जारी कर कड़ी की गई सुरक्षा, 2005 में...

"बाबरी मस्जिद की जगह तुम्हारा मंदिर बना हुआ है और वहाँ हमारे 3 साथी शहीद हुए हैं। इंशाअल्लाह, इस मंदिर को गिराना हमारी जिम्मेदारी बन गई है।"

‘हरियाणा से समझौता करो’: दिल्ली में जल संकट पर लड़ रहे I.N.D.I. गठबंधन में शामिल कॉन्ग्रेस और AAP, सुप्रीम कोर्ट में अपने कहे से...

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा है कि हिमाचल के पास जितना 'एक्स्ट्रा' पानी है, वो दिल्ली ही नहीं किसी भी अन्य राज्य को देने को तैयार हैं, लेकिन पहले दिल्ली सरकार हरियाणा के साथ सहमति बनाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -