सोमवार से FATF की बैठक: टेरर फंडिंग पर लगाम न कसने पर पाकिस्तान की बढ़ी टेंशन, ब्लैकलिस्ट होना तय!

पाकिस्तान बैंकॉक की बैठक को लेकर गंभीर तनाव में हैं। क्योंकि इसमें वह 27 बिंदुओं के एक्शन प्लॉन में से केवल 6 पर ही खरा उतरा है। इसलिए उसपर ब्लैकलिस्ट होने का खतरा और गहरा गया है।

14 अक्टूबर यानी कल से पेरिस में शुरू होने वाली फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक पर पूरी दुनिया की नजर है। कहा जा रहा है पाक के लिए ये 24 घंटे तनावभरे होंगे। क्योंकि, मुमकिन है कल की बैठक के बाद उसे आतंकियों को पनाह देने के लिए ब्लैकलिस्ट कर दिया जाए।

अगर उसे FATF के इस फैसले से बचना है तो साबित करना होगा कि उसने आतंकी फंडिग और मनी लॉन्ड्रिंग के साथ आतंकियों और उनके संगठनों को रोकने के लिए ठोस कदम उठाए। अगर वह ये सब चीजें बैठक में साबित करने में नाकाम रहता है तो उसे ब्लैक लिस्ट कर दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि गत वर्ष जून 2018 में FATF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला था। इस दौरान उसे 27 बिंदुओं के एक्शन प्लान पर काम करने के लिए एक साल का समय दिया गया था। इन बिंदुओं में धन-शोधन और आतंकी संगठनों की फाइनेंस को बैंकिंग एवं नॉन बैंकिंग, कॉरपोर्रेट व नॉन कॉर्पोरेट सेक्टरों से रोकने के उपाय करने थे। अब बैठक में इसकी अनुपालन रिपोर्ट को ही पाक के आर्थिक मामलों के मंत्री हम्माद अजहर के सामने जाँचा जाएगा। जिसकी जानकारी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार खुद सूत्रों ने दी है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

FATF के मुताबिक अगर पाकिस्तान 27 बिंदुओं के प्लॉन को लागू करने में नाकाम रहता है तो उसे ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा। यहाँ जानने वाली बात है कि अगस्त 2019 में एशिया पैसिफिक जॉइंट ग्रुप ने पाकिस्तान को इन बिंदुओं पर काम करने में फेल पाया था। लेकिन फिर भी पाकिस्तान अपने मीडिया रिपोर्टों में दावा कर रहा है कि उनका मुल्क ब्लैकलिस्ट होने से बच जाएगा।

मीडिया खबरों के अनुसार पाकिस्तान बैंकॉक की बैठक को लेकर गंभीर तनाव में हैं। क्योंकि इसमें वह 27 बिंदुओं के एक्शन प्लॉन में से केवल 6 पर ही खरा उतरा है। इसलिए उसपर ब्लैकलिस्ट होने का खतरा और गहरा गया है। वहीं बता दें कि तकनीकी अनुपालन ने भी पाकिस्तान को 40 में से 10 प्वॉइंट्स में संतोषजनक पाया था। लेकिन 30 में पाकिस्तान जीरो था तो वहीं 10 महत्तवपूर्ण मानकों पर पाकिस्तान की स्थिति सो-सो थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"हिन्दू धर्मशास्त्र कौन पढ़ाएगा? उस धर्म का व्यक्ति जो बुतपरस्ती कहकर मूर्ति और मन्दिर के प्रति उपहासात्मक दृष्टि रखता हो और वो ये सिखाएगा कि पूजन का विधान क्या होगा? क्या जिस धर्म के हर गणना का आधार चन्द्रमा हो वो सूर्य सिद्धान्त पढ़ाएगा?"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

115,259फैंसलाइक करें
23,607फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: