Monday, May 20, 2024
Homeदेश-समाजगिफ्ट पैक से चॉकलेट निकालकर खाते ही होने लगी खून की उल्टी, 1.5 साल...

गिफ्ट पैक से चॉकलेट निकालकर खाते ही होने लगी खून की उल्टी, 1.5 साल की बच्ची की मौत: पटियाला में ही केक खाने से 10 साल की बच्ची की हो गई थी मौत

इसी साल मार्च के अंतिम सप्ताह में पटियाला में ही एक दुकान से खरीदकर लाए गए केक को खाने से 10 साल की लड़की मानवी की मौत हो गई थी। केक खाने से पूरे परिवार की तबीयत ख़राब हो गई थी। यह केक उसके जन्मदिन 24 मार्च पर काटा गया था। अदालत बाजार के ‘कान्हा केक’ दुकान से मँगाकर केक शाम के 7 बजे काटा गया था।

पंजाब के लुधियाना में चॉकलेट खाने से डेढ़ साल की बच्ची को खून की उल्टियाँ हुईं और आखिरकार उसकी मौत हो गई। इसकी जानकारी मिलते ही अधिकारी उस दुकान पर पहुँचे, जहाँ से चॉकलेट खरीदी गई थी। जाँच में पता चला कि बच्ची को दी गई चॉकलेट एक्सपायरी डेट की थी। इसके पहले पटियाला में केक खाने से 10 साल की एक बच्ची की मौत हो गई थी।

बच्ची का नाम राबिया था। उसकी दादी अंजू देवी ने बताया कि राबिया और उसकी 22 साल की बुआ ने चॉकलेट, कोल्ड ड्रिंक और कुरकुरे खाए थे। पहले बुआ की तबीयत खराब हुई, लेकिन उसने दवाई खाई और वह ठीक हो गई। इस बीच राविया का पेट खराब हो गया और नाक से खून बहने लगा। उसे खून की उल्टियाँ होने लगी। आखिरकार लुधियाना के सीएमसी अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

बच्ची के रिश्तेदार विक्की का कहना है कि राबिया लुधियाना से कुछ दिन पहले पटियाला में उनके घर आई थी। जब बच्ची वापस लुधियाना जाने लगी तो उन्होंने एक दुकान से गिफ्ट पैक लिया, जिसमें कुरकुरे, जूस और चॉकलेट थे। लुधियाना पहुँचकर बच्ची ने चॉकलेट खा लिया। इसके बाद उसे खून की उल्टियाँ होने लगीं। बच्ची की हालत बिगड़ती गई तो परिजन उसे डॉक्टर के पास ले गए।

इस घटना के बारे में जब विक्की को पता चला तो उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से इसकी शिकायत की। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की टीम के साथ वे उस दुकान पर गए, जहाँ से बच्ची के लिए गिफ्ट की पैक खरीदी गई थी। जब अधिकारियों ने जाँच-पड़ताल की तो पता चला कि जो चॉकलेट दी गई थी, वह एक्सपायरी डेट की थी। विभाग ने एक्सपायरी डेट वाले अन्य सामान को भी जब्त कर लिया।

स्वास्थ्य विभाग ने पुलिस को भी बुला लिया। पुलिस ने परिवार के लोगों के बयान दर्ज करके मामले की जाँच शुरू कर दी है। वहीं सेहत विभाग ने एक्सपायरी डेट का सामान बेचने की जाँच शुरू कर दी है। वहीं, इस घटना के बच्ची के परिजनों में गुस्सा है। उन्होंने उस डिपार्टमेंटल स्टोर को सील करने की माँग की है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि इस दुकान में 90 प्रतिशत माल पुराना होता है।

बता दें कि इसी साल मार्च के अंतिम सप्ताह में पटियाला में ही एक दुकान से खरीदकर लाए गए केक को खाने से 10 साल की लड़की मानवी की मौत हो गई थी। केक खाने से पूरे परिवार की तबीयत ख़राब हो गई थी। यह केक उसके जन्मदिन 24 मार्च पर काटा गया था। अदालत बाजार के ‘कान्हा केक’ दुकान से मँगाकर केक शाम के 7 बजे काटा गया था।

केक खाने के बाद मानवी को उल्टियाँ होने लगीं। पूरे परिवार की तबीयत बिगड़ गई। मानवी रात को उल्टी करके सो गई। तड़के सुबह 4 बजे उसका शरीर ठंडा पड़ गया था। आनन-फानन में परिजन उसे अस्पताल लेकर भागे, जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। शिकायत मिलने के बाद पुलिस इस पूरे मामले की जाँच कर रही है।

परिवार ने केक ऑनलाइन ऑर्डर करके मँगवाया था। इसके लिए फ़ूड एग्रीगेटर एप Zomato का इस्तेमाल किया गया था। परिवार का कहना था कि बेकरी शॉप वाले ने गड़बड़ी की है और उसके प्रोडक्ट्स की जाँच कर के कार्रवाई की जाए। इस मामले में पुलिस ने IPC की विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -