Monday, December 6, 2021
Homeदेश-समाजगो तस्करी के आरोप में बबलू मिलन और प्रकाश दास की लिंचिंग, पश्चिम बंगाल...

गो तस्करी के आरोप में बबलू मिलन और प्रकाश दास की लिंचिंग, पश्चिम बंगाल पुलिस कर रही जाँच

पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में गो तस्करी करने के शक में भीड़ ने दो युवकों की हत्या कर दी। मृतकों की पहचान बबलू मिलन और प्रकाश दास के रूप में हुई। घटना के बाद पुलिस ने...

पश्चिम बंगाल के कूचबिहार में गो तस्करी करने के शक में भीड़ ने दो युवकों की हत्या कर दी। मृतकों की पहचान बबलू मिलन और प्रकाश दास के रूप में हुई। घटना पुतिमारी फुलेसवरी गाँव में घटी।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दोनों स्थानीय निवासियों को गाँव के लोगों ने गाड़ी में पशु भरकर ले जाते देखा। जिसके बाद उन्होंने उन्हें रोका और उनसे सवाल-जवाब किए। मगर जब, दोनों युवक ग्रामीणों को अपनी बात पर विश्वास नहीं दिलवा पाए तो वहाँ मौजूद लोगों ने उन्हें मारना शुरू कर दिया और उनकी गाड़ी में आग भी लगा दी। दोनों युवकों को इस दौरान इतना मारा गया कि अस्पताल में उनकी मौत हो गई।

हालाँकि, घटना की सूचना मिलने के बाद कोतवाली पुलिस थाने की पुलिस मौक़े पर पहुँची। उन्होंने गंभीर हालत में बबलू और प्रकाश को अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन चोटें इतनी गहरी थीं कि उन्हें बचाया नहीं जा सका। अब पुलिस इस मामले में आगे की जाँच कर रही है।

गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से देश में गो तस्करी की समस्या बहुत बढ़ी है और इन पर लगाम लगा पाना भी असंभव होता जा रहा है। अधिकतर भीड़ हत्या के केस इसी संबंध में आते हैं, लेकिन कुछ मीडिया गिरोह के लोग इसे मजहबी एंगल देकर पेश करने लगते हैं। पहलू खान की हत्या का मामला इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

राजस्थान के अलवर और भरतपुर के पास सीमावर्ती जिले सभी गो तस्करी के मामलों में एक तिहाई जिम्मेदार माने जाते हैं। जहाँ कुछ भ्रष्टाचारी अधिकारी और तस्करों की मदद से राज्य में लगातार इस अपराध को अंजाम दिया जाता हैं। इसी की तरह पश्चिम बंगाल में भी कई तादाद में पशुओं को बांग्लादेश की सीमा में भेजा जाता रहा है। लेकिन धीरे-धीरे अब सीमा पर तैनात बीएसएफ जवानों की सख्ती से इन आँकड़ों में कमी आई है। जिसका खुलासा खुद बांग्लादेशी मंत्री अशरफ अली ने एक बैठक में पिछले महीने किया। जहाँ उन्होंने बताया कि 4096 किमी के भारत-बांग्लादेशी बॉर्डर पर पशु तस्करी के आँकड़ों में 96% की कमी आई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम बाबरी विध्वंस को नहीं भूलेंगे, फिर से बनेगी मस्जिद’: केरल के स्कूल में बाँटा गया ‘मैं बाबरी हूँ’ का बैज

केरल के एक 'सेंट जॉर्ज स्कूल' की कुछ तस्वीरें भी सामने आई हैं, जिसमें एक SDPI कार्यकर्ता बच्चों की शर्ट पर बाबरी वाला बैज लगाता हुआ दिख रहा।

‘लड़ाई जीत ली, पर युद्ध जारी रहना चाहिए’: ISI सरगना और खालिस्तानी के साथ राकेश टिकैत का वीडियो कॉल, PM मोदी को कहा गया...

कथित किसान नेता राकेश टिकैत एक अंतरराष्ट्रीय वेबिनार का हिस्सा बने, जिसमें खालिस्तानी से लेकर ISI से जुड़े लोग भी शामिल हुए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,998FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe