Tuesday, December 6, 2022
Homeसोशल ट्रेंडशाहीन बाग 'एक्टिविस्ट' आइमान रिजवी ने RSS पर जबरन कारसेवकों को ट्रेन में बैठाने...

शाहीन बाग ‘एक्टिविस्ट’ आइमान रिजवी ने RSS पर जबरन कारसेवकों को ट्रेन में बैठाने और गोधरा में आग लगाने का झूठा आरोप लगाया

वीडियो में, रिज़वी ने आरोप लगाया कि गोधरा की घटना में मरने वाले एक भी कारसेवक उच्च वर्ग से नहीं थे। जले हुए पीड़ितों में से सभी निचली जाति के थे जो विवादित ढाँचे को गिराने के लिए अयोध्या गए थे। इसी तरह की गलत जानकारी फिक्शन राइटर अरुंधति रॉय द्वारा भी फैलाई गई थी।

यूट्यूबर आइमान रिज़वी (Aiman Rizwi) ने दो वीडियो अपलोड किए हैं, जिसमें उसने जेल में बंद पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट के समर्थन में बात की है। दोनों वीडियो 15 सितंबर को अपलोड किए गए हैं। पहले वीडियो में, उसने गोधरा में 56 कारसेवकों की मौत के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) को दोषी ठहराया। उसने कहा कि आरएसएस ने कारसेवकों को जबरदस्ती ट्रेन में बिठाया और जला दिया।

वीडियो में, रिज़वी ने आरोप लगाया कि गोधरा की घटना में मरने वाले एक भी कारसेवक उच्च वर्ग से नहीं थे। जले हुए पीड़ितों में से सभी निचली जाति के थे जो विवादित ढाँचे को गिराने के लिए अयोध्या गए थे। इसी तरह की गलत जानकारी फिक्शन राइटर अरुंधति रॉय द्वारा भी फैलाई गई थी। हालाँकि गलत जानकारी फैलाने की होड़ में उसने इस बात को नजरअंदाज कर दिया कि विवादित संरचना का विध्वंस 1992 में हुआ था, जबकि गोधरा की घटना 2002 में हुई थी।

उसने आरोप लगाया कि 2002 के गुजरात दंगों की साजिश 1990 में भाजपा सरकार के लिए एक आधार स्थापित करने के लिए विकसित की गई थी। रिजवी ने मजहब विशेष के लाखों लोगों की मौत के लिए पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहराया।

उसने दावा किया कि एक बैठक में गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों से कहा कि वे हिंदुओं के खिलाफ कोई कार्रवाई न करें और उन्हें गोधरा की घटना का बदला लेने के लिए मजहब विशेष वालों को मारने दें। रिजवी का यह दावा भट्ट के बयान पर आधारित है। हालाँकि, नानावती-मेहता आयोग की रिपोर्ट में कहा गया कि संजीव भट्ट उस बैठक में भी उपस्थित नहीं थे जिसके बारे में उसने दावा किया था कि इस तरह के निर्देश दिए गए थे।

उसने अपने वीडियो में कफील खान का भी उल्लेख किया, जिसे पिछले तीन वर्षों में यूपी पुलिस ने दो बार जेल में डाला था। पहली बार वह गोरखपुर के अस्पताल में बच्चों की मौत से संबंधित मामले में जेल गया था। फिर, 2020 में उसे CAA विरोधी प्रदर्शनों के दौरान भड़काऊ भाषण देने के कारण जेल में डाल दिया गया। उसने कहा कि वह अपने मजहब के कारण जेल में था, और भट्ट एक अच्छा इंसान होने के कारण जेल गया था। उन्होंने महात्मा गाँधी के साथ दोनों की तुलना की और कहा कि उन्हें भी सत्यवादी होने के लिए आरएसएस द्वारा मार दिया गया।

रिजवी ने दावा किया कि कई प्रयासों के बाद जब मोदी सरकार भट्ट को किसी मामले में नहीं फँसा पाई, तो उन्होंने 1990 के एक पुराने लंबित मामले को उठाया और पुलिस हिरासत में एक व्यक्ति की मौत के लिए उसे दोषी ठहराया। उसने आरोप लगाया कि इस मामले के आधार पर भट्ट को उनकी नौकरी से निलंबित कर दिया गया था। दिलचस्प बात यह है कि भट्ट को ड्यूटी से अनाधिकृत अनुपस्थिति के लिए 2011 में निलंबित कर दिया गया था।

उसने आगे आरोप लगाया कि योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में दस पुलिस अधिकारियों की हत्या कर दी और विकास दुबे एनकाउंटर मामले को यूपी सरकार का काम बताया। हालाँकि, विकास दुबे एक कुख्यात गैंगस्टर था, जिसके खिलाफ 60 से अधिक मामले दर्ज थे। पुलिस में उसके संपर्कों ने दुबे को छापे के बारे में जानकारी लीक कर दी जिसके कारण आठ पुलिस अधिकारियों की मौत हो गई जिसके परिणामस्वरूप यूपी पुलिस ने उसकी खोजबीन की।

दूसरे वीडियो में, उसने संजीव भट्ट के बारे में अपनी बात जारी रखी। अंधविश्वास फैलाने के लिए सरकार और ब्राह्मणों को दोषी ठहराते हुए, उसने आरोप लगाया कि राम मंदिर भूमि पूजन अशुभ तिथि पर किया गया था। यह झूठ दिग्विजय सिंह जैसे कॉन्ग्रेस नेताओं द्वारा फैलाया गया था। रिजवी ने आगे आरोप लगाया कि भूमि पूजन बिहार, यूपी और पश्चिम बंगाल में आगामी चुनावों को ध्यान में रखते हुए किया गया था।

उसने न्यायमूर्ति लोहिया की मृत्यु सहित कुछ मामलों का उल्लेख किया, और आरएसएस को दोषी ठहराया। वीडियो के अंत में, उसने दावा किया कि भारत में 90 प्रतिशत लोग अपनी नौकरी और बिजनेस खो चुके हैं। उसने लोगों से अपने मोबाइल का उपयोग करने और सरकार के खिलाफ वीडियो पोस्ट करने का आग्रह किया।

पिछले कुछ वर्षों में कई हिंदू विरोधी और भारत विरोधी यूटूबर्स सामने आए हैं। हाल ही में, यूपी पुलिस ने माँ सीता और अयोध्या पर अपमानजनक वीडियो पोस्ट करने के लिए हीर खान को गिरफ्तार किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गुरुद्वारे पर इस्लामी कट्टरपंथियों ने जमाया कब्ज़ा, जड़ दिया ताला: सिखों के आने-जाने पर भी रोक, कह रहे – ये हमारी मस्जिद...

लाहौर स्थित गुरुद्वारे को पाकिस्तान की इवेक्‍यू ट्रस्‍ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ETPB) ने कट्टरपंथियों के साथ मिलकर सिख समुदाय के लिए बंद कर दिया है।

‘भारती जी, रिजर्वेशन पर आए थे नौकरी में क्या?’: पटना HC के जज के सवाल पर वकीलों ने लगाए ठहाके, ₹24 लाख की गड़बड़ी...

पटना हाईकोर्ट के जज संदीप कुमार ने एक घोटाला आरोपित अधिकारी से पूछा कि क्या उन्होंने रिजर्वेशन पर नौकरी प्राप्त किया है? अधिकारी ने 'हाँ' में जवाब दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,080FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe