Wednesday, July 28, 2021
Homeसोशल ट्रेंडटिकट मिला तो Tik-Tok पर बढ़े फ़ॉलोवर्स, चुनाव हारने पर अब रोने का वीडियो...

टिकट मिला तो Tik-Tok पर बढ़े फ़ॉलोवर्स, चुनाव हारने पर अब रोने का वीडियो हुआ वायरल

आदमपुर से कॉन्ग्रेस के कुलदीप बिश्नोई के खिलाफ चुनाव में उतरने वाली भाजपा प्रत्याशी सोनाली फोगाट का एक Tik-Tok वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। सोनाली फोगाट दरअसल Tik-Tok में बनाए अपने तरह तरह वीडियो के चलते ही सुर्ख़ियों में आई थीं।

हरियाणा के चुनाव परिणाम के बाद अब सभी दलों की स्थिति स्पष्ट हो गई है। राज्य में भाजपा और कॉन्ग्रेस की जंग अब परिणाम में सिमट कर रह गई है। जहाँ सभी को इंतजार है कि हरियाणा में सरकार बनाने के लिए सभी दलों का सत्ता समीकरण बनाने के लिए अगला कदम क्या होगा वहीं इस चुनाव में हार का मुँह देखने वाली एक प्रत्याशी के रोने की खूब चर्चा हो रही है।

https://platform.twitter.com/widgets.js

बता दें कि आदमपुर से कॉन्ग्रेस के कुलदीप बिश्नोई के खिलाफ चुनाव में उतरने वाली भाजपा प्रत्याशी सोनाली फोगाट का एक Tik-Tok वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। बता दें कि सोनाली फोगाट दरअसल एक एंड्राइड एप टिक-टॉक में बनाए अपने तरह तरह वीडियो के चलते सुर्ख़ियों में आई थीं।

एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि वह टिक-टॉक पर बेहद लोकप्रिय चेहरा हैं और चुनाव का टिकट मिलने के बाद उनके फॉलोवर्स में काफी बढ़ोतरी हुई थी। यही वजह है कि उन्हें टिक-टॉक क्वीन भी कहा जाता है। मगर अपनी हार पर सोनाली कुछ इस तरह और इतना रोईं कि उनका वीडियो खूब देखा और शेयर किया जाने लगा। उन्होंने अपने साक्षात्कार में कहा था कि वह पहले अक्सर अपने टिक-टॉक में कुछ गैप दे दिया करती थीं मगर फॉलोवर्स के बढ़ने के बाद वह काफी एक्टिव रहेंगी।

सोनाली भले इस साल चुनावी मैदान में अपनी दावेदारी पेश करने उतरी हों मगर भाजपा और राजनीति से उनका पुराना नाता है। दरअसल साल 2013 में भारतीय जनता पार्टी के तत्कालीन अध्यक्ष ने सोनाली फोगाट को उनके गृह-प्रदेश हरियाणा में राष्ट्रीय कार्यकारिणी का सदस्य बनाया था। इसी के बाद टिक-टॉक क्वीन नाम से मशहूर सोनाली फोगाट को भाजपा के महिला मोर्चा का प्रदेश उपाध्यक्ष भी बनाया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,571FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe