‘कश्मीर में सैटेलाइट से भेजूँगा इंटरनेट’ – बेस्ट सुसाइड बम बनाने वाले Pak मंत्री फवाद का उड़ा मजाक

"पाकिस्तान के लोगों को सफलतापूर्वक 55 रुपए प्रति किलोमीटर हवाई यात्रा देने के बाद फवाद चौधरी कश्मीरियों को सैटेलाइट के जरिए इंटरनेट देने वाले हैं।"

जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 निष्प्रभावी हो चुका है। इससे पाकिस्तान लगभग पागलपन की कगार पर है। ऐसे में बौखलाए पाकिस्तान ने कश्मीरियों के प्रति अपनी ‘सहानुभूति’ दिखाने के लिए हर दिन कुछ नया खेल खेलता है। इस बार पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने कहा है कि वो कश्मीरियों को सैटेलाइट या फिर किसी और माध्यम से इंटरनेट की सेवा पहुँचाएँगे।

फवाद चौधरी चूँकि विज्ञान मंत्री हैं, तो दावे भी बेचारे वैज्ञानिक ढंग से ही कर रहे हैं लेकिन एकदम अवैज्ञानिक तरीके से। उन्होंने दावा किया है कि वे इसके लिए SUPARCO (Space and Upper Atmosphere Research Commission) को पत्र भी लिख चुके है। बता दें कि पाकिस्तान के अंतरिक्ष एजेंसी का नाम SUPARCO है लेकिन मंत्री ने अपने ट्वीट में इसे SPRACO लिखा है और वीडियो में भी वह स्पारको ही बोलते नजर आ रहे हैं। इस बात को लेकर यूजर्स उनकी जमकर खिंचाई कर रहे हैं। यह गलत है। फवाद चौधरी बोल रहा है, यही काफी है… अंग्रेजी तो खैर! 

पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत द्वारा पाकिस्तानी मंत्री के इस बयान वाली वीडियो को ट्विटर पर शेयर किया गया। जिस पर उन्होंने फवाद चौधरी पर तंज कसते हुए लिखा है, “पाकिस्तान के लोगों को सफलतापूर्वक 55 रुपए प्रति किलोमीटर हवाई यात्रा देने के बाद फवाद चौधरी कश्मीरियों को सैटेलाइट के जरिए इंटरनेट देने वाले हैं।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि इस वीडियो में फवाद चौधरी को कहते सुना जा सकता है कि उन्होंने ‘स्पारको’ (हालाँकि, पाकिस्तान की स्पेस एजेंसी का नाम SUPARCO है, लेकिन फवाद वीडियो में हर जगह इसे स्पारको बोलते हैं) को खत लिखा है और कहा है कि 100 दिन से ज्यादा हो गए, जब कश्मीरी को इंटरनेट की सेवा नहीं दी जा रही है। इसलिए हमें इस बात का पता लगाना है कि क्या ‘स्पारको’ सैटेलाइट के जरिए ये या किसी और जरिए से हम कश्मीर में लोगों को इंटरनेट सुविधा दे सकते हैं। और अगर ऐसा किया जा सकता है तो उसकी तकनीकी संभावनाएँ क्या हैं?”

यहाँ बता दें कि इस वीडियो में वो ये कहते नजर आए, “इंटरनेट को आज दुनिया मौलिक अधिकार समझती है। लेकिन आज कश्मीर के लोग इससे महरूम हैं। इसलिए ये जरूरी है कि हम कुछ ऐसा करें कि कश्मीर में इंटरनेट बहाल हो सके।” उनके अनुसार ऐसा करने के लिए जो भी तकनीकी जरूरतें होंगी जरूरी, उसे भी वह विज्ञान एवं तकनीक मंत्रालय से देंगे।

ऊपर के वीडियो में खुद फवाद को सैटेलाइट पर बैठ कर अंतरिक्ष में जाते आप देख सकते हैं। यह यूजर्स के द्वारा बताया जा रहा है तंज के रूप में। यूजर हैं वहीं नायला इनायत।

अब ऐसे में अक्सर अपने अटपटे बयानों के कारण पहचाने जाने वाले फवाद चौधरी, इस बयान के बाद भी यूजर्स के निशाने पर आ गए। लोग उन पर तरह-तरह के तंज कसने लगे और कहने लगे कि कश्मीर के लिए चिंता व्यक्त करने वाले क्या बलूचिस्तान में इंटरनेट देना भूल गए हैं?

कुछ यूजर्स उन्हें महान बताने लगे। लोगों ने कहा कि अगर वे पूरे भारत में पाकिस्तान से इंटरनेट देने का ऑफर देंगे तो उन्हें महाराष्ट्र का सीएम भी बनवा देंगे। क्योंकि हमारे यहाँ ये सीट खाली है।

वहीं, एक ने इस बयान को सुनने के बाद पूछा कि टेकनॉलजी मंत्री ही है न, जिसका जवाब देते हुए दूसरे यूजर ने कहा, “नहीं ये नो-टेक-नो-लॉजिक मंत्री साहब हैं।”

बता दें कि अभी हाल ही में पानीपत का ट्रेलर रिलीज होने के बाद फवाद चौधरी ने भारतीय फिल्मी जगत पर निशाना साधा था और कहा था कि ये फिल्म एतिहासित तथ्यों के साथ छेड़-छाड़ है जिसमें मुस्लिम शासक अहमद शाह को क्रूर दर्शाया गया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,022फैंसलाइक करें
26,220फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: