Wednesday, December 1, 2021
Homeसोशल ट्रेंड'गुलाम नबी आजाद Pak आतंकवादी से ज्यादा घिनौना, लोग पत्थर मारेंगे' - बॉलीवुड एक्ट्रेस

‘गुलाम नबी आजाद Pak आतंकवादी से ज्यादा घिनौना, लोग पत्थर मारेंगे’ – बॉलीवुड एक्ट्रेस

"अगर आप अनुच्छेद 370 में किए गए परिवर्तन पर इस तरह से बकवास करेंगे तो लोग आपके घर पर पत्थर फेंकने लगेंगे।"

जम्मू-कश्मीर पर नरेंद्र मोदी सरकार के ऐतिहासिक फैसले का कॉन्ग्रेस, राजद समेत विपक्ष की कई पार्टियाँ विरोध कर रही हैं। मगर साथ ही सरकार को लोगों का समर्थन भी मिल रहा है। सोशल मीडिया पर जमकर इस विषय पर चर्चा हो रही हैl इसे लेकर कई कलाकार सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे हैं। लोग प्रधानमंत्री को मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को ऐसा करने पर आभार व्यक्त कर रहे हैं।

सामाजिक मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखने वाली अभिनेत्री पायल रोहतगी ने ट्विटर पर पोस्ट करते हुए पीएम मोदी को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने ऐसा कर इतिहास रच दिया है। महान दलित नेता जो कि हमारे देश के राष्ट्रपति हैं, उन्होंने ये काम किया है। इस बारे में बात करते हुए पायल ने पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को शुक्रिया कहा। वहीं बीजेपी को वोट कर सत्ता में लाने वाले देशवासियों को धन्यवाद कहा।

इसके साथ ही पायल ने गुलाम नबी आजाद के द्वारा इस संदर्भ में किए गए ट्वीट को आड़े हाथों लेते हुए सोशल मीडिया पर एक ट्वीट किया हैl इसमें उन्होंने गुलाम नबी आजाद को पाकिस्तानी आतंकवादी से ज्यादा घिनौना बताया हैl उन्होंने गुलाम नबी आजाद के बयान को बकवास बताते हुए कहा कि अगर वो अनुच्छेद 370 में किए गए परिवर्तन पर इस तरह से बकवास करेंगे तो लोग उनके घर पर पत्थर फेंकने लगेंगे।

बता दें कि जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और कॉन्ग्रेस के सीनियर लीडर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि आज का दिन भारतीय इतिहास का काला दिन है। बीजेपी की सरकार ने सत्ता के नशे में और वोट हासिल करने के लिए एक झटके में अनुच्छेद 370 के साथ 35A को खत्म कर दिया। इसके साथ खिलवाड़ कर यह बहुत बड़ी गद्दारी कर रहे हैं।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कानून से जुड़ाव नहीं होता है, जुड़ाव दिल से होता है। जिसका डर लोगों को था, आज वही किया गया है। ये देश के इतिहास के लिए काला दिन है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के इतिहास की शुरुआत वहाँ के प्रधानमंत्री के साथ हुई थी, लेकिन अब उसे लेफ्टिनेंट गवर्नर पर लाकर खत्म कर दिया है, ताकि वो चपरासी की नियुक्ति भी खुद कर सकें।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe