Monday, August 2, 2021
Homeसोशल ट्रेंडजिन मुस्लिमों का खतना नहीं हुआ वो भी मोदी-शाह से नहीं डरता: मौलवी की...

जिन मुस्लिमों का खतना नहीं हुआ वो भी मोदी-शाह से नहीं डरता: मौलवी की धमकी, देखें वीडियो

"वो आटे का थैला अमित शाह बोलता है कि मुस्लिमों को डरने की जरूरत नहीं है। अमित शाह तुम्हें पता होना चाहिए कि जिन मुस्लिमों का खतना भी नहीं हुआ वो भी तुमसे नहीं डरता और जिसकी सुसु भी नहीं होती, वो भी तुमसे नहीं डरता। मुस्लिम तुमसे नहीं डरते।"

सीएए और एनआरसी के विरोध प्रदर्शन के नाम पर इन दिनों सोशल मीडिया पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर वामपंथी गिरोह और कट्टरपंथी समुदाय लगातार आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहा है। इस बीच एक वीडियो सोशल मीडिया पर और वायरल हुई है। जिसमें एक मौलवी दिग्गज़ नेताओं और भाजपा-आरएसएस कार्यकर्ताओं को सरेआम धमकी देता नजर आ रहा है। हालाँकि, ये वीडियो कहाँ की है, इसका पता नहीं चल पाया है। लेकिन, इस वीडियो में मौलवी को मुस्लिम समुदाय के लोगों से कहते हुए सुना जा सकता है, “जिन मुस्लिमों ने खतना नहीं करवाया, वो भी मोदी सरकार से नहीं डरता। और जो सुसु भी नहीं करना जानता वो भी नहीं डरता।”

मौलवी को वीडियो में केंद्र सरकार और अमित शाह के ख़िलाफ़ बयान देते साफ सुना जा सकता है। वो पहले कहता है कि वे बाबा अम्बेडकर की इज्जत करते हैं और यहाँ उनके संविधान को बचाने के लिए बैठे हैं। लेकिन आगे अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहता हैं, “वो आटे का थैला अमित शाह बोलता है कि मुस्लिमों को डरने की जरूरत नहीं है। अमित शाह तुम्हें पता होना चाहिए कि जिन मुस्लिमों का खतना भी नहीं हुआ वो भी तुमसे नहीं डरता और जिसकी सुसु भी नहीं होती, वो भी तुमसे नहीं डरता। मुस्लिम तुमसे नहीं डरते।”

गौरतलब है कि मौलवी ने यहाँ गृहमंत्री अमित शाह द्वारा 11 दिसंबर को संसद में दिए बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दी। मौलवी ने भले ही यहाँ सीएए को लेकर लोगों को और मुस्लिम समुदाय को सुनिश्चित किया कि इस कानून से उनका कुछ नहीं बिगड़ने वाला, लेकिन साथ ही उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और यूपी सीएम योगी को लेकर बहुत आपत्तिजनक बातें की। इस्लामिक साफे को सर पर बाँध वीडियो में मौलवी ने भाजपा और आरएसएस के कार्यकर्ताओं को धमकाया।

मौलवी ने वीडियो में दावा किया कि अगर भाजपा और आरएसएस के ख़िलाफ़ मुस्लिम लोग सड़कों पर उतर आए, तो उनके कपड़े तक खुल जाएँगे। मौलवी को वीडियो में कहते सुना जा सकता है, “हम तुम्हें असली तस्वीर दिखाएँगे। इंशाल्लाह। हिंदुस्तान के झंडे तिरंगे में मौजूद तीन अलग-अलग रंग हैं। जो देश में अलग-अलग धर्मों (हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई) को दर्शाता है। उसमें से ये लोग मुस्लिमों को निकालने के चक्कर में हैं। लेकिन, जरा अमित शाह, मोदी, योगी नीचे झाँक कर देखें, झंडे के नीचे डंडा है। डंडे से हम ऐसा मारते हैं कि भाजपा और आरएसएस की चड्ढी खुल जाती है।”

इसके बाद इस वीडियो में मौलवी को भाजपा, आरएसएस को नीचा दिखाने के लिए ये भी कहते हुए सुना जा सकता है कि उनकी चड्ढी से बड़ी मुस्लिमों की जेब रहती है और अगर मुस्लिम अपनी पगड़ी खोल दे, तो 25 चड्ढियाँ बन जाएँ।

इस वीडियो को देखने के बाद अंदाजा लगाया जा सकता है कि किसी मजहब के पैरोकार मोदी-शाह से नफरत करते-करते भाषाई स्तर इतने गलीच हो चुके हैं कि अब उन्हें खुद ही नहीं मालूम रह गया कि उन्हें क्या बोलना है और क्या नहीं। इससे पहले भी भारत के मुस्लिमों में डर फैलाने के लिए कई बार इस तरह की धमकियाँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री को दी जा चुकी है। इनके अलावा ऐसे ही नफरत भरे भाषण देकर समुदाय विशेष के लोगों को भड़काया जाता रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe